बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय का आया नया फरमान, उड़ी अफसरों की नींद

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय बिहार पुलिस प्रमुख बनने के बाद से ही लगातार सुर्खियों में रहे हैं. गुप्तेश्वर पांडेय के एक बाद एक फैसले ने बिहार पुलिस की वरीय अधिकारियों की नींद उड़ा दी है.

News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 10:10 PM IST
बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय का आया नया फरमान, उड़ी अफसरों की नींद
बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय बिहार पुलिस प्रमुख बनने के बाद से ही लगातार सुर्खियों में रह रहे हैं.( साभार-गुप्तेश्वर पांडेय के फेसबुक वॉल से)
News18Hindi
Updated: July 9, 2019, 10:10 PM IST
बिहार के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय बिहार पुलिस प्रमुख बनने के बाद से ही लगातार सुर्खियों में रहे हैं. गुप्तेश्वर पांडेय के एक बाद एक फैसलों ने बिहार पुलिस की वरीय अधिकारियों की नींद उड़ा दी है. डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय का राज्य के किसी भी थाने से लेकर एसएसपी ऑफिस तक अचानक ही पहुंच जाना अब पुरानी बात हो गई है.

मंगलवार को उन्होंने राज्य के सभी वरीय पुलिस अधिकारियों को एक नया फरमान सुना दिया. इसके अनुसार अब बिहार पुलिस के वरीय अधिकारियों को बिना वर्दी पहने कार्यालय जाना महंगा पड़ सकता है. अगर बिना वर्दी पहने कोई अधिकरी पुलिस मुख्यालय आए तो दंडात्मक कार्रवाई हो सकती है.

गुप्तेश्वर पांडेय ने हाल ही में अपने ही विभाग पर सवाल उठाते हुए कहा था कि कुछ लोग मेरे खिलाफ साजिश रच रहे हैं.(पांडेय के फेसबुक वॉल से)


मंगलवार को बिहार पुलिस के एडीजे मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने राज्य के सभी एसपी, एसएसपी, डीआईजी और आईजी को आदेश जारी किया है कि वर्दी पहन कर ही दफ्तर पहुंचे. बता दें कि आईपीएस अधिकारी गुप्तेश्वर पांडेय का बिहार पुलिस प्रमुख बनने के बाद से ही बिहार पुलिस सुर्खियों में रह रही है. समय-समय पर बिहार पुलिस की किसी न किसी फैसले को लेकर चर्चा जरूर हो रही है.

गुप्तेश्वर पांडेय ने हाल ही में अपने ही विभाग पर सवाल उठाते हुए कहा था कि कुछ लोग मेरे खिलाफ साजिश रच रहे हैं. मेरे औचक निरीक्षण से कुछ अधिकारियों को तकलीफ हो रही है. इसी वजह से मेरे खिलाफ तरह-तरह की अफवाहें उड़ाई जा रही हैं.

डीजीपी गुप्तेशर पांडेय ने हाल ही में मीडिया के साथ बातचीत में कहा था कि मुट्ठी भर अपराधी बिहार के लिए चुनौती बने हुए हैं.


डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने हाल ही में मीडिया के साथ बातचीत में कहा था कि मुट्ठी भर अपराधी बिहार के लिए चुनौती बने हुए हैं. अगर अधिकारी चाह लें तो एक हफ्ते के अंदर अपराध पर लगाम लग सकता है. इससे बिहार पुलिस की छवि भी सुधर सकती है. गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा था कि इसके लिए पुलिस को एक्शन में आना होगा. अपराधियों का मनोबल तोड़ने के लिए ही मैं रात को औचक निरीक्षण पर निकलता हूं. जिस थाने में गड़बड़ी मिलती है उसे एसपी, डीआईजी और आईजी को बताता हूं.
Loading...

भागलपुर में पूरा थाना किया था निलंबित

बता दें कि डीजीपी की प्रोएक्टिवनेस के बाद भी पुलिसकर्मी थाने से नदारद पाए जा रहे हैं. अभी हाल ही में डीजीपी ने भागलपुर जिले के एक थाने की पूरी टीम को ड्यूटी में गड़बड़ी करने के आरोप में निलंबित कर दिया था. डीजीपी ने जब थाने का औचक निरीक्षण किया तो वहां पर भारी गड़बड़ी मिली. थाने की अधिकतर पुलिसकर्मी ड्यूटी से नदारद थे.

डीजीपी की प्रोएक्टिवनेस के बाद भी पुलिसकर्मी थाने से नदारद पाए जा रहे हैं


इसी तरह गुप्तेश्वर पांडेय पिछले महीने अचानक बेगूसराय पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंच गए. रात को पौने 11 बजे एसपी ऑफिस पहुंचने की भनक जैसे ही एसपी को लगी आनन-फानन में वह भी पुलिस मुख्यालय पहुंचे. अफरा-तफरी के बीच जिले के सभी वरीय पुलिस अधिकारी भी एसपी ऑफिस पहुंचे. मौके पर डीआईजी विकास वैभव, बेगूसराय एसपी अवकाश कुमार सहित सभी डीएसपी, पुलिस इंस्पेक्टर एवं थाना अध्यक्ष मौजूद थे. देर रात तक डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे द्वारा मीटिंग का सिलसिला चलता रहा.

ये भी पढ़ें:

गाड़ियों पर क्यों लिखते हैं लोग अपनी जातियां, क्या कहते हैं मनोवैज्ञानिक?

दिल्ली पुलिस हाल के वर्षों में अपराध होने के बाद ही हरकत में क्यों आती है?

आज से FIR के लिए आपको नहीं जाना पड़ेगा थाने, नोएडा पुलिस खुद आएगी आपके पास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 9, 2019, 9:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...