Home /News /bihar /

IMA का देशव्यापी हड़ताल, AES से जूझ रहे बिहार में भी डॉक्टर्स नहीं करेंगे काम

IMA का देशव्यापी हड़ताल, AES से जूझ रहे बिहार में भी डॉक्टर्स नहीं करेंगे काम

आईएमए ने सोमवार को देशव्यापी हड़ताल बुलाई है. (फाइल फोटो)

आईएमए ने सोमवार को देशव्यापी हड़ताल बुलाई है. (फाइल फोटो)

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने सोमवार सुबह 6 बजे से डॉक्टरों की देशव्यापी हड़ताल बुलाई है. एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) से जूझ रहे राज्य बिहार में भी डॉक्टर इस हड़ताल में शामिल होंगे.

    इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने सोमवार सुबह 6 बजे से डॉक्टरों की देशव्यापी हड़ताल बुलाई है. एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) से जूझ रहे राज्य बिहार में भी डॉक्टर इस हड़ताल में शामिल होंगे. राज्य के निजी और सरकारी हॉस्पिटल में ओपीडी सेवा ठप रहेगी. सोमवार को अस्पतालों में सिर्फ इमरजेंसी सेवा ही बहाल रहेगी. बिहर में चमकी बुखार से अबतक 90 बच्चों की मौत हो चुकी है.

    इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष डॉक्टर अजय कुमार ने बताया कि केंद्र से आईएमए ने डॉक्टरों की सुरक्षा को लेकर कानून बनाने की मांग है. इसी को लेकर देशभर में डॉक्टरों की हड़ताल है.'

    डॉक्टरों की हड़ताल 6 बजे से शुरू होगी. सुबह 10 से 2 बजे तक सभी डॉक्टर्स दिल्ली स्थित IMA ऑफिस पर धरना प्रदर्शन करेंगे. इस हड़ताल में IMA, DMA, RDA के डाक्टर्स भी शामिल होंगे.

    आईएमए ने बंगाल के डॉक्टरों के समर्थन में बुलाई हड़ताल
    आईएमए ने ये हड़ताल बंगाल के डॉक्टरों के समर्थन में बुलाई है. दरअसल, 10 जून को नील रतन सरकार मेडिकल कॉलेज, कोलकाता में इलाज के दौरान एक 75 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई थी. इससे गुस्साए मृतक के परिजनों ने डॉक्टर्स के साथ बदसलूकी कर दी.

    डॉक्टरों ने कहा है कि जब तक मृतक के परिवार वाले उनसे माफी नहीं मांगते तब तक वो प्रमाण पत्र नहीं देंगे. इसके बाद इस मामले में हिंसा भड़क गई और कुछ लोगों ने हथियारों से इस अस्पताल के हॉस्टल पर हमला कर दिया. इस हिंसा में दो जूनियर डॉक्टर गंभीर रूप से घायल हो गए, जबकि कई और को चोटें आईं.

    ये भी पढ़ें-

    कल देशभर में हड़ताल, सिर्फ इमरजेंसी सेवाएं रहेंगी चालू

    हड़ताल जारी, जूनियर डॉक्टर्स ममता से बातचीत के लिए तैयार

    आपके शहर से (पटना)

    Tags: Bihar News, Doctor, Mamata banerjee, Muzaffarpur news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर