बिहार में सूखा: जमीनी तहकीकात, जानिये क्यों बिगड़े हालात ?

बिहार के किसानों को खरीफ की खेती के लिए तीन नक्षत्र रोहिणी, आर्द्रा और हथिया का इंतजार रहता है. अमूमन इन नक्षत्रों में किसानों को पानी की अधिक जरूरत पड़ती है और दो दशक पहले तक प्रकृति इन किसानों के साथ देती रही, लेकिन...

Vijay jha | News18 Bihar
Updated: July 2, 2019, 2:21 PM IST
बिहार में सूखा: जमीनी तहकीकात, जानिये क्यों बिगड़े हालात ?
बिहार में सूखे की आशंका
Vijay jha | News18 Bihar
Updated: July 2, 2019, 2:21 PM IST
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बीते 30 जून को मन की बात में भूगर्भ जल स्रोत की निरंतर हो रही कमी पर चिंता जताई और जल संरक्षण क्षेत्र में और काम करने पर बल देने का आह्वान किया. इसके बाद सोमवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीच मानसून में बिहार में सूखे की आशंका जता दी. दरअसल प्रदेश में सामान्य से अभी 33 प्रतिशत कम बारिश हुई है. जाहिर हैं हालात चिंताजनक हैं.

मानसून पर निर्भर बिहार के किसान
दरअसल बिहार के किसानों को खरीफ की खेती के लिए तीन नक्षत्र रोहिणी, आर्द्रा और हथिया का इंतजार रहता है. अमूमन इन नक्षत्रों में किसानों को पानी की अधिक जरूरत पड़ती है और दो दशक पहले तक प्रकृति इन किसानों के साथ देती रही, लेकिन अब अक्सर देखा गया है कि अगर इन नक्षत्रों में बारिश नहीं हुई तो राज्य के कई इलाके में सूखे की नौबत उत्पन्न हो जाती है. इस वर्ष भी सूखे जैसे हालात दिखने शुरू हो गए हैं क्योंकि इस बार बिहार में अब तक सामान्य से 33 प्रतिशत कम बारिश हुई है.

औसत से 33 प्रतिशत कम बारिश

मौसम विभाग द्वारा 30 जून तक जारी विस्तृत आंकड़े की बात करें तो बिहार 154.8 एमएम बारिश की जगह 91.6 एमएम बारिश हुई. यानी सामान्य से 41 प्रतिशत कम. पटना में 114.8 एमएम बारिश होनी चाहिए थी पर हुई मात्र 42.5 एमएम यानी 63 फीसदी कम. इसी तरह शेखपुरा में 93 प्रतिशत, औरंगाबाद में 90 प्रतिशत, मुंगेर में 84 प्रतिशत और रोहतास में 83 फीसदी बारिश कम हुई. जबकि सुपौल और पश्चिमी चंपारण में क्रमश: 7 और 44 प्रतिशत सामान्य से अधिक बारिश हुई है.

2018 में 23 जिलों में पड़ा था सूखा
वर्ष 2018 में बिहार के पटना, मुजफ्फरपुर, नालंदा, भोजपुर, बक्सर, कैमूर, गया, जहानाबाद, नवादा, औरंगाबाद,  सारण,  सिवान, गोपालगंज, बांका, भागलपुर, जमुई, शेखपुरा,  वैशाली, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, मुंगेर और सहरसा जिले को सूखा ग्रस्त घोषित किया गया था.
Loading...

कुओं और पोखरों को किया गया दरकिनार
दरअसल ऐसा बिहार में पानी की बर्बादी के साथ उसके संरक्षण के उपायों पर जोर नहीं देने के कारण ऐसा हुआ है. गौरतलब है कि बिहार का समाज पोखरों और कुओं के जरिए यह काम पारंपरिक रूप से करता ही रहा है, लेकिन आधुनिक होती दुनिया में इसके महत्व को लोग दरकिनार करते चले गए. नतीजा जल संरक्षण के पारंपरिक उपाय खत्म होते चले गए.

सरकार का प्रबंधन हुआ फेल
स्वतंत्रता के पश्चात जब जल संसाधन का प्रबंधन सरकार ने अपने हाथ में ले लिया तो पूरा सिस्टम गड़बड़ा गया. बड़ी और मझोली सिंचाई परियोजनाएं और स्टेट बोरिंग को सिंचाई का आधार मान लिया गया. तालाब और कुएं बेकार माने जाने लगे. समाज ने भी इन्हें बेकार मानकर भरना शुरू कर दिया, जिसकी वजह से स्थितियां गड़बड़ाने लगीं. पानी संरक्षण तो हो नहीं रहा उल्टा मोटर के जरिये भूगर्भ जल का दोहन जल संसाधन को गहराई से नुकसान पहुंचा रहा है.

बिहार में बेहद कम वन क्षेत्र
बिहार देश के उन गिने चुने राज्यों में है जहाँ वन क्षेत्र बहुत कम है. सबसे कम वन क्षेत्र वाले 10 राज्यों की फेहरिस्त बनाई जाये, तो बिहार उनमें शामिल होगा।फॉरेस्ट सर्वे ऑफ इण्डिया के रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार का भौगोलिक क्षेत्रफल करीब 94163 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. इनमें से 7.74 प्रतिशत हिस्से यानी 7288 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में ही वन है.

नेपाल के बिगड़ते पर्यावरण का असर
एक महत्वपूर्ण पहलू ये है कि बिहार और नेपाल से जुड़े हुए इलाके में पर्यावरणीय परिवर्तन हुआ है. 1990 से 2005 के बीच नेपाल में 24.5 फीसदी वन क्षेत्र कम हो गया, जो 11,81,000 हेक्टेयर के बराबर था. वहीं, उत्तर बिहार में बाढ़ को लेकर तटबंध की जो व्यवस्था स्वीकार की गई और सिंचाई का काम भूजल के दोहन से शुरू हुआ, उससे नेपाल के इलाकों में भी भूजल स्तर काफी तेजी से गिर रहा है. इस इलाके में बारिश की मात्रा में 20 से 30 प्रतिशत की गिरावट दर्ज होने के साथ भू-जल का स्तर भी औसतन 4 से 5 मीटर तक नीचे गया है.

ये भी पढ़ें-


राबड़ी बोलीं- बच्चों की मौत पर जब PM बोल सकते हैं तो सीएम क्यों चुप हैं...माफी मांगें नीतीश




स्वास्थ्य मंत्री के इस्तीफे को लेकर विधानसभा में हंगामा, कार्यवाही स्थगित

बिहार: 40 हजार शिक्षकों का नियोजन शेड्यूल जारी, 27 अगस्त से आवेदन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 1:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...