Bihar Chunav: कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पटना में कचरे के ढेर पर की प्रेस कॉन्फ्रेंस, जानें वजह

पटना में कचरे के ढेर पर प्रेस वार्ता करते रणदीप सुरजेवाला
पटना में कचरे के ढेर पर प्रेस वार्ता करते रणदीप सुरजेवाला

Bihar Election 2020: कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने पटना की गंदगी और पेयजल का मुद्दा उठाते हुए कहा कि कूड़े के ढेर पर की प्रेस कॉन्फ्रेंस. स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 का हवाला देते हुए नल-जल योजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 2:55 PM IST
  • Share this:
पटना. कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) ने कहा है कि बिहार की मौजूदा नीतीश सरकार (Nitish Government) ने राज्य के लोगों को न केवल जहरीला पानी पीने के लिए मजबूर किया है, बल्कि राज्य के शहरों को एक बड़े कूड़ेदान में भी तब्दील कर दिया है. इस कारण सुरजेवाला ने पटना जीपीओ के पास कूड़े के ढेर पर आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की. सुरजेवाला ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में 10 लाख के ऊपर की आबादी वाले 47 शहरों में बिहार की राजधानी पटना देश में सर्वाधिक गंदगी से भरा शहर माना गया है.

सुरजेवाला ने कहा कि एक से 10 लाख आबादी वाले 382 नगर पालिकाओं और शहरों की जो सूची जारी की गई है उसने बिहार के 26 शहर देश के लगभग सबसे अंतिम पायदान पर गंदगी युक्त पाए गए हैं. सुरजेवाला ने कहा कि सेंट्रल मिनिस्ट्री ऑफ ड्रिंकिंग वॉटर एंड सैनिटेशन की रिपोर्ट की मानें तो बिहार के 10 जिले ऐसे हैं जहां पानी में फ्लोराइड की मात्रा इतनी अधिक है कि वहां का पानी इंसान के पीने के लिए सुरक्षित भी नहीं है.

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि बिहार के 11 जिलों में आर्सेनिक की मात्रा पानी में इतनी अधिक है की उसे लोगों के पीने के लिए अनुकूल और सुरक्षित नहीं माना गया है. सुरजेवाला ने कहा कि नल-जल योजना में भी झूठ और भ्रष्टाचार का बड़ा मामला सामने आया है और ठेकेदारों ने जिस तरीके से करोड़ों करोड़ रुपए खर्च किये है वैसे मैं इस बात का पता लगाया जाना चाहिए कि यह सारे पैसे एनडीए द्वारा बिहार विधानसभा चुनाव में तो खर्च नहीं किए गए.



नमामि गंगे परियोजना की चर्चा करते हुए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि बिहार में नमामि गंगे परियोजना में 20% राशि खर्च नहीं की गई और ऐसे में सरकार द्वारा किए गए तमाम दावे झूठे साबित हुए हैं. रामविलास पासवान की चर्चा करते हुए कांग्रेस महासचिव ने कहा कि रामविलास पासवान के मंत्रालय का चौंकाने वाला खुलासा सामने आया जिसकी पहल पर ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स द्वारा जांच रिपोर्ट जारी की गई है.
इस साल जारी रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि पटना के घरों में पीने वाला पानी जो पाइप के सहारे आता है वह पीने योग्य नहीं है. सुरजेवाला ने कहा कि इस बारे में बिहार स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के चेयरमैन अशोक घोष द्वारा यह कहा जाना कि पानी की सप्लाई लाइन अंग्रेजों के जमाने की है और उसके पास इतनी पुरानी और सड़ी हुई सीवरेज पाइप लाइन जाती है इसलिए यह स्वभाविक है हास्यास्पद है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज