Bihar Election 2020: पुराना है खाकी का खादी से प्रेम, गुप्तेश्वर पांडेय से पहले कई अफसर कर चुके हैं राजनीति में डेब्‍यू

अब तक कई पुलिस अफसर और दारोगा विधायक बन चुके हैं.
अब तक कई पुलिस अफसर और दारोगा विधायक बन चुके हैं.

बिहार के डीजीपी पद से इस्तीफा देकर गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey) ने राजनीति में डेब्‍यू कर लिया है. जबकि उनसे पहले भी कई आईपीएस अफसर बिहार की राजनीति में कदम रख चुके हैं.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 24, 2020, 10:22 AM IST
  • Share this:
पटना. चुनाव आते ही खाकी का खादी प्रेम झलकने लगता है और बड़ी-बड़ी कुर्सियों की शोभा बढ़ा चुके पुलिस अफसर चुनाव का मौसम आते ही खादी पहनने के लिए बेकरार हो जाते हैं. हाल ही में बिहार के डीजीपी पद से इस्तीफा देने वाले गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey) इसका ताजा उदाहरण है, लेकिन इससे पहले भी कई पुलिस अधिकारियों ने खाकी छोड़कर खादी का दामन थामा है. यही नहीं, कई पुलिस अफसर तो बाकायदा विधायक बनकर सदन भी पहुंच गए हैं. हालांकि कई लोगों को राजनीति रास नहीं आई है. आपको बता दें कि कुछ ही दिनों में बिहार विधानसभा चुनावों (Bihar Assembly Elections) की तारीख काा ऐलान होने वाला है, जिसकी तैयारियों में सभी राजनीतिक दल लगे हुए हैं.

एक महीने के भीतर दो आईपीएस ने थामा खादी
एक महीने के अंदर दो वरिष्ठ आइपीएस अधिकारी अपने पद से इस्तीफा देकर राजनीति में अपना भाग्य आजमाने की तैयारी कर ली है. इसमें बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के साथ सुनील कुमार का नाम प्रमुख है. रिटायर होने से पांच महीने पहले डीजीपी पद से वीआरएस लेने वाले गुप्तेश्वर पांडेय से पहले पूर्व आईपीएस सुनील कुमार पुलिस भवन निर्माण निगम के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक पद से सेवानिवृत्त होने के बाद 29 अगस्त को जदयू की सदस्यता ग्रहण कर चुके हैं.


पूर्व डीजी अशोक कुमार भी आ चुके हैं राजनीति में


वहीं इस फेहरिस्त मे एक नाम पूर्व डीजी अशोक कुमार गुप्ता का भी है जो राजद का दामन थामकर विधानसभा पहुंचने जुगत में जुटे हैं. अशोक इससे पहले 2019 के लोकसभा चुनाव में पटना साहिब सीट से निर्दलीय किस्मत आजमा चुके हैं.

ये भी पढ़ें- औराई विधानसभा सीट: पार्टी चाहे कोई भी हो लेकिन बनेगा 'यादव' विधायक, ऐसा है इतिहास

कई दारोगा भी बन चुके हैं विधायक
2010 के चुनाव में बिहार पुलिस सेवा के अधिकारी सोम प्रकाश औरंगाबाद जिले के ओबरा से निर्दलीय विधायक चुने गए थे. जबकि 2015 के चुनाव में हार गए, लेकिन इस बार भी मैदान में उतरने की तैयारी है. दारोगा की नौकरी से वीआरएस लेने वाले रवि ज्योति राजगीर से जदयू के विधायक हैं. इसी तरह मनोहर प्रसाद सिंह भी 15वीं और 16वीं विधानसभा में लगातार मनिहारी विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज