दिलचस्प हुआ बिहार चुनाव, कहीं पर भाई तो कहीं पर सास के खिलाफ बहू ठोक रही ताल

रामनगर की विधायक भागीरथी देवी और उनकी बहू रानी कुमारी आमने-सामने हैं.
रामनगर की विधायक भागीरथी देवी और उनकी बहू रानी कुमारी आमने-सामने हैं.

पश्चिमी चंपारण की राम नगर विधानसभा सीट (Ram Nagar Assembly Seat) पर भी मुकाबाल बहुत ही रोमांचक हो गया है. यहां सास और बहू एक-दूसरे के खिलाफ ताल ठोक रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2020, 10:24 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा (Bihar Assembly Elections) के दूसरे चरण के लिए मंगलावर को वोटिंग हुई. दूसरे चरण में प्रदेश के 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटों पर शाम 6 बजे तक 54.05 फीसदी मतदान हुआ. इस चरण में करीब 2.85 करोड़ मतदाता चुनाव मैदान में उतरे 1500 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला ईवीएम में बंद कर दिया, लेकिन खास बात यह है कि साल 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में कई सीटों पर अपने रिश्तेदार ही एक-दूसरे के खिलाफ मैदान में ताल ठोक रहे हैं. कहीं पर भाई-भाई के खिलाफ चुनाव लड़ रहा है तो कहीं पर सास-बहू आमने-सामने हैं. ऐसे में इस बार का बिहार विधानसभा चुनाव बहुत ही दिलचस्प हो गया है. आखिर 10 नवंबर को मतगणना के बाद मालूम पड़ जाएगा कि सास-बहू में कौन किसके ऊपर भारी पड़ता है.

अगर अररिया जिला में स्थित जोकीहाट विधानसभा की बात करें तो यहां पर दो सगे भाई एक-दूसरे के खिलाफ ताल ठोक रहे हैं. इससे चुनाव बहुत ही दिलचस्प हो गया है. कभी सीमांचल के कद्दावर नेता रहे स्व. सांसद तस्लीमुद्दीन के दोनों बेटे विधायक बनने के लिए आमने सामने हैं. यहां RJD ने तस्लीमुद्दीन के बड़े बेटे और पूर्व सांसद सरफराज आलम को टिकट दिया है. वहीं, सरफराज आलम के छोटे भाई मो. शाहनवाज ओवैसी की एआईएमआईएम पार्टी से मैदान में हैं. हालांकि, वर्तमान में वे राजद से विधायक हैं. ऐसे में दोनों भाइयों के आमने-सामने आने से मुकाबला दिलचस्प हो गया है. इसी तरह ढ़ौरा विधानसभा क्षेत्र के चुनाव मैदान में चाचा-भतीजा आमने सामने हैं. आरजेडी के प्रत्याशी चाचा जयराम राय के खिलाफ उनका ही भतीजा आनंद राय निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं.





'अपना घर नहीं संभाल सकीं तो विधानसभा क्षेत्र क्या संभालेंगी'
पश्चिमी चंपारण की राम नगर विधानसभा सीट पर भी मुकाबाल बहुत ही रोमांचक हो गया है. यहां सास और बहू एक-दूसरे के खिलाफ ताल ठोक रही हैं. रामनगर की विधायक भागीरथी देवी और उनकी बहू रानी कुमारी आमने-सामने हैं. भागीरथी देवी भाजपा से विधायक हैं. उन्होंने शनिवार को नामांकन का पर्चा दाखिल किया था. वहीं, दो दिन बाद सोमवार को उनकी पतोहू रानी देवी ने भी नामांकन दाखिल कर दिया. ऐसे में अब दोनों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है. बहू रानी ने कहा कि उनकी सास जब अपना घर नहीं संभाल सकीं तो विधानसभा क्षेत्र क्या संभाल पाएंगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज