Bihar Election News: पटना साहिब से जीते BJP के नंद किशोर, कांग्रेस के प्रवीण सिंह को दी मात

बीजेपी नेता नंद किशोर यादव. फाइल फोटो.
बीजेपी नेता नंद किशोर यादव. फाइल फोटो.

एक वक्त जब प्रदेश में लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की तूती बोलती थी और यादव समाज के लगभग सभी बड़े नेता आरजेडी (RJD) के साथ थे, तब नंद किशोर यादव ने बीजेपी (BJP) का दामन थामा. अब उन्हें जीत हासिल हुई है.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा के लिए मतगणना शुरू पूरी हो गई है. पटना साहिब सीट पर बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर का अंत बीजेपी की जीत से हुआ है. बीजेपी कैंडीडेट नंद किशोर यादव ने कांग्रेस प्रत्याशी प्रवीण सिंह को मात दी है. उन्होंने करीब 13 हजार मतों से यह जीत दर्ज की. बिहार (Bihar) की राजनीति में नंद किशोर यादव (Nand Kishor Yadav) एक नामी चेहरा हैं. एक वक्त जब प्रदेश में लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की तूती बोलती थी और यादव समाज के लगभग सभी बड़े नेता आरजेडी के साथ थे, तब नंद किशोर यादव ने बीजेपी (BJP) का दामन थामा. नंद किशोर यादव 1995 से राज्य विधानसभा में भाजपा का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. राज्य के पथ निर्माण मंत्री यादव, पटना साहेब सीट से भाजपा उम्मीदवार के रूप में इस बार चुनाव लड़ा.

विधानसभा चुनाव 2020 (Assembly Election 2020) में नंद किशोर ने कांग्रेस (Congress) के प्रवीण कुशवाहा को चुनौती दी. पटना साहेब भाजपा का गढ़ है. नंद किशोर यादव 1995 से राज्य विधानसभा में भाजपा का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं. महागठबंधन और लालू प्रसाद यादव के राजद (RJD) और नीतीश कुमार के जदयू (JDU) में मतभेद व विभाजन के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता नंद किशोर बिहार सरकार में मंत्री बने. उन्होंने जून 2013 में एनडीए (NDA) से जेडीयू के विभाजन से पहले बिहार सरकार में सड़क निर्माण और पर्यटन के कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया.

ये भी पढ़ेंः बिहार चुनाव नतीजे LIVE: बिहार चुनाव के नतीजे अभी हैं दूर, EC ने कहा- अब तक बस 92 लाख वोटों की हुई गिनती, 4 करोड़ हैं बाकी



विपक्ष के नेता भी रहे
नंद किशोर यादव बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता भी थे. नवंबर 2015 में उन्हें छठी बार पटना ईस्ट से विधायक के रूप में चुना गया और उन्हें बिहार विधानसभा में लोक लेखा समिति के अध्यक्ष की भूमिका दी गई. प्रदेश में बीजेपी के अग्रणी चेहरों में एक हैं. राजनीति गलियारों में इनकी भूमिका महत्वपूर्ण मानी जाती है. विधानसभा में दमदारी से अपनी बात रखने के लिए जाने जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज