Bihar Election News: नीतीश के करीबी बिजेंद्र यादव जीते, कांग्रेस के मिन्नतुल्लाह रहमानी को दी मात

बिजेन्द्र यादव. फाइल फोटो.
बिजेन्द्र यादव. फाइल फोटो.

बिजेंद्र प्रसाद यादव (Bijendra Prasad Yadav) सुपौल सीट (Supaul Seat) से विधायक और नीतीश कैबिनेट (Nitish Cabinet) में वरिष्ठ नेता रहे हैं. उन्होंने सुपौल से जीत दर्ज कर ली है.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों के लिए मतगणना जारी है. सुपौल सीट पर भी नतीजों को लेकर काफी गहमागहमी थी. लेकिन यहां बिजेंद्र यादव ने आसान जीत दर्ज की. यहां से 7 बार के विधायक व नीतीश के करीबी बिजेन्द्र प्रसाद यादव अपनी किस्मत अजमा रहे थे. रूझानों में वह लगातार आगे रहे. बिजेंद्र प्रसाद यादव (Bijendra Prasad Yadav) सुपौल सीट (Supaul Seat) से विधायक और नीतीश कैबिनेट (Nitish Cabinet) में वरिष्ठ नेता रहे हैं. सुपौल विधानसभा क्षेत्र यादवों का गढ़ रहा है. बिजेन्द्र प्रसाद यादव साल 1990 के बाद से वह कभी नहीं हारे थे. यादव ने बिहार में जेपी आंदोलन से एक समजवादी नेता के तौर अपनी राजनीति शुरू की. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले उन्होंने सात बार सीट जीती है. उनके करियर की शुरुआत जनता पार्टी से हुई और फिर वे जद (यू) में स्थानांतरित हो गए. बिहार की राजनीति में वे नामी चेहरा माने जाते हैं.

बिजेन्द्र प्रसाद यादव नीतीश कुमार के भरोसेमंद सहयोगी माने जाते हैं और उन्होंने आबकारी और ऊर्जा सहित कई प्रमुख विभागों को अपने पास रखा रहा. इन विभागों में हुए कार्यों को नीतीश सरकार की उपलब्धियों के रूप में देखा जाता है. बिजेंद्र प्रसाद यादव नीतीश के जद (यू) के एक वरिष्ठ व्यक्ति हैं और पार्टी के प्रमुख प्रचारक रहे हैं.

बिहार चुनाव की पल-पल की अपडेट के लिए यहां क्लिक करें



कभी थे शरद यादव के करीबी
बिजेंद्र प्रसाद यादव को कभी शरद यादव का करीबी माना जाता था. हालांकि जद (यू) में वरिष्ठ नेता को दरकिनार कर दिए जाने के बाद, उन्होंने नीतीश कुमार के साथ पक्ष बदल लिया. इनकी सीट वाले क्षेत्र को जेडी (यू) का गढ़ माना जाता है. ​2020 चुनाव में कांग्रेस मिन्नतुल्लाह रहमानी और लोजपा के प्रभाष चंद्र मंडल के बीच त्रिकोणीय मुकाबला था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज