ADR रिपोर्ट: AIMIM के 100% तो CPI-ML के 83% विधायकों पर आपराधिक मामले, 81% MLA हैं करोड़पति

 (सांकेतिक चित्र)
(सांकेतिक चित्र)

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स यानी ADR के अनुसार नवनिर्वाचित नौ विधायकों ने घोषित किया है कि उनके विरुद्ध हत्या (Murder) यानी भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 302 के तहत का मामला दर्ज है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 2:12 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स यानी ADR की वह रिपोर्ट भी सामने आ गई है जिसका सबको इंतजार रहता है. इस बार बिहार विधानसभा के माननीयों के बारे में यह खुलासा हुआ है कि जीत हासिल करने वाले विधायकों में से दो तिहाई के खिलाफ आपराधिक मुकदमे चल रहे हैं तो 81 प्रतिशत विधायक करोड़पति हैं. यह रिपोर्ट तब सामने आई है जब जीत हासिल करने वाले 241 उम्मीदवारों की तरफ से निर्वाचन कार्यालय में जमा कराए गए शपथपत्र का विश्लेषण किया गया.

हलफनामे के अनुसार 241 विधायकों में 163  यानी 68% प्रत्याशियों  ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज होने की बात कही है. 123 यानी 51 प्रतिशत विधायकों ने बताया है कि उनके खिलाफ कत्ल, हत्या की कोशिश, अपहरण, महिलाओं के खिलाफ अपराध समेत संगीन धाराओं में मामले दर्ज हैं. रिपोर्ट के अनुसार 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में जीते 243 विधायकों में से 142 यानी करीब 58 प्रतिशत के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज थे.

ADR के अनुसार नवनिर्वाचित नौ विधायकों ने घोषित किया है कि उनके विरुद्ध हत्या यानी भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत का मामला दर्ज है. 31 नए विधायकों ने बताया है कि उनके खिलाफ हत्या की कोशिश (भारतीय दंड संहिता की धारा 307 के तहत) का मुकदमा दर्ज है. आठ नवनिर्वाचित विधायकों ने अपने खिलाफ महिलाओं के विरुद्ध अपराध से संबंधित मामले दर्ज हैं. महिलाओं के विरुद्ध अपराध से संबंधित मामले दर्ज होने की घोषणा अपने चुनावी हलफनामे में की है.



रिपोर्ट में कहा गया है कि राजद के 74 में से 54 यानी 73 प्रतिशत, भाजपा के 73 में से 47 यानी 64 प्रतिशत जदयू के 43 में से 20 यानी 47 प्रतिशत, कांग्रेस के 19 में से 16 यानी 84 प्रतिशत, सीपीआई (एमएल) (एल) के 12 में से 10 यानी 83 प्रतिशत और एआईएमआईएम के सभी पांचों यानी 100 फीसदी विधायकों ने अपने खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज होने की घोषणा की है.



रिपोर्ट में विधायकों का आर्थिक ब्योरा भी दिया गया है. इसके मुताबिक, 241 नव निर्वाचित विधायकों के हलफनामों का विश्लेषण करने पर पता चला कि 194 यानी 81 प्रतिशत नए विधायक करोड़पति हैं. 2015 के चुनाव में जीते 243 विधायकों में से 162 यानी 67 प्रतिशत करोड़पति थे.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज