Bihar Election Result: मगध और शाहाबाद के सात जिलों में नहीं खुल सका JDU का खाता, BJP-हम ने बचाई लाज

बिहार विधानसभा चुनाव में गया से जीतने वाले प्रत्याशी
बिहार विधानसभा चुनाव में गया से जीतने वाले प्रत्याशी

Bihar Election Result: बिहार के गया में एनडीए की लाज बीजेपी और हम ने बचाई है. यहां जीतन राम मांझी समेत उनकी पार्टी के तीन लोग चुनाव जीतने में सफल रहे हैं.

  • Share this:
गया. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election Result) के नतीजों में एनडीए गठबंधन को बहुमत मिल गया है लेकिन कई ऐसे भी इलाके हैं जहां उसे भारी नुकसान उठाना पड़ा है. गया समेत मगध प्रमंडल एवं शाहाबाद में एनडीए (NDA) को काफी नुकसान हुआ है और इस इलाके के कुल 37 सीट में से जदयू का खाता नहीं खुल पाया है, जबकि भाजपा ने तीन और हम ने तीन सीट जीतकर एनडीए की लाज बचायी है.

गया में बराबरी का मुकाबला

मगध प्रमंडल के गया जिला में एनडीए और महागठबंधन को 5-5 सीट मिली है. भाजपा के प्रेम कुमार ने गया सीट पर आठवीं दर्ज की है तो वजीरगंज सीट पर वीरेन्द्र सिंह ने कांग्रेस को हराया है. हम पार्टी ने जिले की तीनों सीटों पर कब्जा किया है, इसमें पार्टी के प्रमुख और पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने इमामगंज से पूर्व विस अध्यक्ष उदयनारायण चौधरी को लगातार दूसरी बार शिकस्त दी है वहीं उनकी समधन ज्योति मांझी ने बाराचट्टी सीट पर राजद की विधायक समता देवी को हराया है.



हम का शानदार प्रदर्शन
हम पार्टी के अनिल कुमार ने टिकारी सीट पर कांग्रेस के सुमन्त कुमार को हराया है जबकि राजद के सुरेन्द्र यादव ने बेलागंज सीट से आठवीं बार जीत दर्ज की है. राजद विधायक कुमार सर्वजीत ने भी अपनी बोधगया की सीट पर लगातर जीत कर यहां के पुरानी मिथक को तोड़ने में सफलता पायी है. पूर्व विधायक राजेन्द्र यादव और कुंति देवी के बेटे अजय यादव ने अतरी सीट पर अपने परिवार का कब्जा बरकार रखा है. शेरघाटी सीट पर मंजू अग्रवाल ने जदयू के पूर्व मंत्री विनोद यादव को हराया है तो गुरूआ से राजद प्रत्याशी विनय कुमार यादव ने भाजपा विधायक राजीव नंदन दांगी को शिकस्त दी है.

मगध और शाहाबाद की 37 में से 30 सीट पर महागठबंधन और एक सीट पर बसपा का कब्जा

एनडीए गठबंधन का मगध प्रमंडल और शाहाबाद की 37 सीट पर काफी नुकसान हुआ है. इन 37 सीटों में से जदयू का खाता नहीं खुल पाया है, वहीं बिहार सरकार के भाजपा और जदयू कोटे के कई मंत्रियों को भी हार का सामना करना पड़ा है. कैमूर की चारों सीट पर भाजपा महागठबंधन एवं बसपा के प्रत्याशियों से हार गयी है, वहीं रोहतास की 7 सीट, औरंगाबाद की 6 सीट, जहानाबाद की 3 सीट, अरवल की दो सीट पर एनडीए का खाता नहीं खुल पाया है.

नवादा में बीजेपी को मात्र एक सीट

नवादा की एक मात्र वारसलीगंज सीट से भाजपा विधायक अरूणा देवी अपनी सीट बचाने में कामयाब रही है जबकि यहां से अन्य चार सीट पर महागठबंधन का कब्जा हुआ है. गया जिला में मुकाबला फिफ्टी-फिफ्टी का रहा है जहां कुल 10 सीट में से भाजपा ने 2 और हम ने तीन सीट जीतने में कामयाब हुई है,जबकि अन्य पांच सीट पर राजद ने कब्जा जमाया है.

मगध और शाहाबाद की 37 में से सिर्फ 6 सीटे जीतने को लेकर कृषि मंत्री सह भाजपा नेता प्रेम कुमार समीक्षा करने की बात कही है, वहीं इस रिजल्ट पर राजद नेता सुरेन्द्र यादव ने इस इलाके में जनता के असीम प्यार और स्नेह मिलने की बात कही है.

रिकार्ड बनने के साथ ही कई मिथक टूटे

इस चुनाव में बिहार सरकार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने गया शहर से भाजपा के टिकट पर लगातार आठवीं जीत दर्ज कर रिकार्ड बनाया है वहीं बेलागंज सीट से राजद विधायक और पूर्व मंत्री सुरेन्द्र यादव ने भी लगातार आठवीं जीत दर्ज की है. प्रेम कुमार और सुरेन्द्र यादव अपनी सीट से 1990 से लगातार जीत दर्ज कर रहें हैं. इस इलाके से बिहार सरकार में मंत्री रहे कृष्णंदन वर्मा, जय कुमार सिंह, ब्रजकिशोर बिंद भी अपना चुनाव हार गयें हैं.

टूट गए कई मिथक

बृजकिशोर बिंद विवादित बोल के लिए प्रसिद्ध रहें हैं और एक सभा में उन्हें हराने पर अकाल आने की बात कही थी. राजद विधायक कुमार सर्वजीत ने लगातार दूसरी जीत दर्ज को बोधगया के मिथको को तोड़ दिया है. आजादी के बाद से बोधगया की सीट पर कोई भी सीटिंग विधायक लगातार दूसरी जीत दर्ज नहीं कर पाया था पर कोरोना संक्रमित होने की वजह से अपनी चुनाव प्रचार नहीं कर पाने वाले कुमरा सर्वजीत ने लगातार दूसरी जीत दर्ज का पुरानी मिथक को तोड़ दिया है. पूर्व सीएम जीतनराम मांझी भी इस बार अपनी समधन ज्योति मांझी के साथ विधानसभा में एक नजर आयेगें. पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने इमामगंज से और उनकी समधन ज्योति मांझी बाराचट्टी से जीत दर्ज की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज