Bihar Election: क्या RJD में लालू के इन करीबी दोस्तों को नजरअंदाज कर रहे हैं तेजस्वी?
Patna News in Hindi

Bihar Election: क्या RJD में लालू के इन करीबी दोस्तों को नजरअंदाज कर रहे हैं तेजस्वी?
लालू यादव के करीबी दोस्त शिवानांद तिवारी ने बातचीत में उन्हें पार्टी में नजरअंदाज करने के संकेत दिए. (फाइल फोटो)

बिहार (Bihar) में आरजेडी (RJD) से बनते-बिगड़ते रिश्तों के बीच बाबा यानि शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) का लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) से बहुत पुराना संबंध रहा है.

  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar) में आरजेडी (RJD) से बनते-बिगड़ते रिश्तों के बीच बाबा यानि शिवानंद तिवारी (Shivanand Tiwari) का लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) से बहुत पुराना संबंध रहा है. छात्र जीवन से ही शिवानंद तिवारी और लालू यादव एक साथ संघर्ष किए हैं. वैसे बताया ये भी जाता है कि बाबा लालू यादव से भी पहले से राजनीति में आए और दोनों में कई बार आपस में टकराहट भी हुई, लेकिन बावजूद इसके लालू ने अब तक अपने पुराने करीबी साथी को उनके कद के हिसाब से पद का सम्मान दिया है. आरजेडी में शिवानंद तिवारी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद पर हैं, लेकिन जब से लालू जेल गए हैं और पार्टी की कमान तेजस्वी के हाथों में आई है बाबा की पूछ पहले की तरह अब नहीं होती.

पिछले कुछ दिनों से बाबा पार्टी के कई अहम बैठकों से भी दूर रह रहे हैं. बीच के समय में तो बाबा ने पार्टी में रहते हुए सन्यास लेने की घोषणा कर दी थी. फिर कुछ दिनों बाद बाबा फिर से सक्रिय होते नजर आए. बिहार विधानसभा चुनाव से पहले फिर से बाबा का दर्द छलक पड़ा है.  एक सवाल पर बोलते हुए बाबा ने यह कह दिया कि अब हम जैसे बुजुर्गों की पार्टी में भला कौन काम है. अब तो जगदानन्द भाई अकेले काफी हैं और फिर तेजस्वी युवा हैं, उनकी युवा टीम है. आज जमाना भी तो युवाओं का ही है ऐसे में भला हम बुजुर्गों को कौन पूछेगा?

कोरोना का बहाना
शिवानंद कहते हैं- वैसे भी कोरोना का संक्रमण है, कौन भीड़भाड़ में जाए. रघुवंश बाबू की बीमारी ने तो हम बुजुर्ग नेताओं को वैसे भी डरा दिया है. सरकार और स्वास्थ्य विभाग भी कहती है कि 70 साल वाले बुजुर्गों को भीड़भाड़ में नहीं जाना चाहिए. इसलिए हम आराम से घर में बैठे हैंं.
पार्टी को जरूरत होनी चाहिए


शिवानंद कहते हैं- वैसे अगर पार्टी को जब कभी हमारी जरूरत होगी, हम बेझिझक हाजिर हो जाएंगे. भला चुनाव का समय है, कब तक इस कोरोना से हम डरते रहें. आखिर जो होना है उसे कोई थोड़ी न रोका जा सकता है. फिलहाल पार्टी की ओर से जिम्मेदारी नहीं मिली है. पार्टी को जरूरत होगी, कहीं जाना होगा तो हम जाएंगे.

बीमारी ने फैलाया डर
बिहार में जब से आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद सिंह के कोरोना संक्रमित होने की खबर आई है पार्टी के भीतर हलचल मची हुई है. खासकर शिवानंद तिवारी जैसे नेता बेहद डरे हुए हैं. बाबा कहते हैं कि कोरोना का संक्रमण है ऐसे में जरूरी है कि उम्रदराज नेता भीड़भाड़ से दूर ही रहें. शिवानन्द तिवारी के अलावे जगदानन्द सिंह, अब्दुल बारी सिद्दीकी जैसे पुराने नेता भी इस कोरोना के खतरे से डर रहे हैं.

विरोधियों ने साधा निशाना
ऐसे में विरोधी इसी बहाने तेजस्वी को घेरने में जुट गए हैं. बिहार सरकार के मंत्री और जेडीयू के फायर ब्रांड नेता माने जाने वाले नीरज कुमार कहते हैं कि आरजेडी में जो पुराने और उम्रदराज नेता हैं, उनके जीवन के साथ तेजस्वी खिलवाड़ कर रहे हैं. अपने राजनीतिक फायदे के खातिर तेजस्वी इस कोरोना काल में भी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ा रहे हैं. रघुवंश प्रसाद सिंह जैसे बड़े नेता आज इसी का दंश झेल रहे हैं. इसके पीछे असली वजह यह है कि तेजस्वी एक बेहद नासमझ और नाबालिग राजनेता हैं, जो अपनी नासमझी में कुछ ऐसी हरकत करते हैं जो उनकी पार्टी के नेताओं के लिए अब खतरनाक साबित हो रहा है.

ये भी पढ़ें:
MP वेयर हाउस घोटाला: पूर्व की कमलनाथ सरकार पर लगे गंभीर आरोप, जांच के निर्देश

PM नरेन्द्र मोदी को CM अशोक गहलोत ने लिखा खत, कहा- बेरोजगारी से बचाने करें ये काम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading