बिहार चुनावः संजय राऊत बोले- तेजस्वी CM भले ना बनें हो, लेकिन 'मैन ऑफ द मैच' बनकर उभरे

फाइल फोटोः आरजेडी नेता तेजस्वी यादव
फाइल फोटोः आरजेडी नेता तेजस्वी यादव

बिहार चुनाव में बीजेपी (BJP) और जेडीयू (JDU) के गठबंधन के खिलाफ आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (RJD Leader Tejashwi Yadav) ने महागठबंधन की अगुवाई की और अपनी क्षमता का लोहा मनवाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 9:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Election 2020) में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने अपनी काबिलियत और क्षमता का लोहा मनवाया है. सियासी गलियारों में तेजस्वी की लीडरशिप के चर्चे हैं. इसी क्रम में बुधवार को शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा कि तेजस्वी यादव इस चुनाव में 'मैन ऑफ द मैच' बनकर उभरे हैं और 2024 के लोकसभा चुनाव में 'महत्वपूर्ण भूमिका' निभाएंगे.

शिवसेना नेता ने बिहार में अगली एनडीए सरकार की स्थिरता पर संदेह व्यक्त किया. बता दें कि बिहार चुनाव में जेडीयू और बीजेपी के गठबंधन को 125 सीटें मिली हैं, जबकि विपक्षी महागठबंधन को 110 सीटें मिली हैं. राज्य विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा 122 है.

राऊत ने कहा कि बहुमत बहुत मामूली है और कुछ भी हो सकता है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की पार्टी जेडीयू तीसरे नंबर पर रही है और अगर कोई जीत का जश्न मना रहा है तो ये मजाक है. उन्होंने कहा कि बीजेपी (BJP) ने अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन उसे काफी मेहनत करनी पड़ी है.



उन्होंने कहा, 'चिराग पासवान (Chirag Paswan) की पार्टी लोजपा ने जेडीयू के 20 उम्मीदवारों की हार सुनिश्चित की और पासवान अभी एनडीए में हैं. शिवसेना नेता ने इसे गंभीर मुद्दा करार देते हुए कहा कि कोई भी नई सरकार की स्थिरता की गारंटी नहीं दे सकता है.'
आगे बोलते हुए संजय राऊत ने कहा, 'मैंने सुना है कि बीजेपी, नीतीश कुमार के कद को छोटा करना चाहती थी, इसलिए चिराग पासवान को खड़ा किया. तेजस्वी भले ही मुख्यमंत्री नहीं बन पाए लेकिन 'मैन ऑफ द मैच' बनकर उभरे हैं.'

शिवसेना नेता ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव ने तेजस्वी जैसा बड़ा नेता पैदा किया है. प्रधानमंत्री सहित बीजेपी नेताओं को तेजस्वी को मुकाबले को कड़ा बनाने के लिए बधाई देनी चाहिए.'

नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अगर भाजपा अपने वादे पर कायम रहती है तो इसका श्रेय शिवसेना को दिया जाना चाहिए. महाराष्ट्र में पूरे देश ने देखा कि जब वादा खिलाफी की जाती है तो क्या होता है?

बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन था. लेकिन, मुख्यमंत्री पद को लेकर दोनों पार्टियों में तकरार हुई और गठबंधन टूट गया. बाद में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस का गठबंधन बना. इस गठबंधन तले उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री हैं.

एनसीपी नेता जयंत पाटिल ने भी तेजस्वी यादव की तारीफ की है. पाटिल ने ट्वीट किया, 'बिहार चुनाव का परिणाम अलग है, लेकिन तेजस्वी यादव द्वारा लड़ी गई लड़ाई प्रशंसनीय है. सत्तारूढ़ दलों को अंतिम क्षण तक पसीना बहाना पड़ा और इसमें उनकी जीत है. युवाओं को उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए. बधाई! बहुत अच्छे तेजस्वी यादव.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज