बिहार चुनाव: क्या महागठबंधन के स्टार प्रचारक बनेंगे JNU छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार?

महागठबंधन के घटक दलों में कन्हैया कुमार की भूमिका को लेकर अभी तक सहमति नहीं बनी है. फाइल फोटो)
महागठबंधन के घटक दलों में कन्हैया कुमार की भूमिका को लेकर अभी तक सहमति नहीं बनी है. फाइल फोटो)

सीपीआई (CPI) सूत्रों से जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kuamr) फिलहाल तेघड़ा, बछवाड़ा और बखरी विधानसभा सीटों तक ही सीमित रहेंगे. ये तीनों सीट बेगूसराय (Begusarai) जिले में पड़ती हैं और महागठबंधन ने तीनों सीट सीपीआई के लिए छोड़ी हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 8:10 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Election- 2020) में सीपीआई नेता और जेएनयू (JNU) छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) की भूमिका को लेकर अभी भी संशय बरकरार है. इधर सीपीआई सूत्रों से जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक कन्हैया कुमार फिलहाल तेघड़ा, बछवाड़ा और बखरी विधानसभा सीटों तक ही सीमित रहेंगे. ये तीनों सीट बेगूसराय जिले में हैं और महागठबंधन ने तीनों सीट सीपीआई के लिए छोड़ी हैं. खुद कन्हैया कुमार ने विधानसभा चुनाव लड़ने से मना कर दिया है. सीपीआई के एक बड़े नेता का कहना है कि अगर महागठबंधन के घटक दल कन्हैया कुमार को स्टार प्रचारक बनाते हैं तो उस पर विचार किया जाएगा. बता दें कि तेजस्वी यादव की वजह से बिहार चुनाव में महागठबंधन के घटक दलों में कन्हैया कुमार की भूमिका को लेकर अभी तक सहमति नहीं बनी है. सीपीआई, सीपीएम, सीपीआई माले, कांग्रेस और आरजेडी में महागठबंधन के घटक दल हैं.

कन्हैया कुमार की क्या होगी भूमिका
इधर कन्हैया कुमार की भूमिका को लेकर बिहार कांग्रेस के एक बड़े नेता का दावा है कि कन्हैया कुमार को महागठबंधन बहुत बड़ी जिम्मेदारी देने जा रहा है. कांग्रेस कन्हैया कुमार को मोदी सरकार के खिलाफ एक बड़े औजार के तौर पर इस्तेमाल करना चाहती है. इसलिए कन्हैया कुमार को विधानसभा चुनाव नहीं लड़ाया गया. हालांकि, कन्हैया कुमार को लेकर अभी भी आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव सहज नहीं हैं. इसके बावजूद लालू प्रसाद यादव ने स्टार प्रचारक बनाने पर अपनी सहमति दे दी है. लालू प्रसाद यादव चाहते हैं कि कन्हैया कुमार को तेजस्वी यादव के मुकाबले कम तवज्जो मिले.

Kanhaiya Kumar, bihar election 2020, bihar election, kanhaiya kumar, Tejaswi yadav, lalu prasad yadav, mahagathbandhan, Grand Alliance, Left parties, cpi, RJD, bihar rjd, PM Modi, BJP, congress, Bihar Assembly Election, Bihar Assembly Elections, कन्हैया कुमार, बिहार विधानसभा चुनाव, बिहार चुनाव, बिहार इलेक्शन, नीतीश कुमार, बीजेपी, जेडीयू, राष्ट्रीय जनता दल, आरजेडी, तेजस्वी यादव, लालू प्रसाद यादव, कन्हैया कुमार की भूमिका, कांग्रेस, सीपीआई, बेगूसराय न्यूज
बिहार चुनाव में महागठबंधन के घटक दलों में कन्हैया कुमार की भूमिका को लेकर अभी तक सहमति नहीं बनी है. (फाइल फोटो)

कन्हैया को लेकर क्या कहते हैं जानकार


बिहार की राजनीति को करीब से समझने वाले पत्रकार संजीव पांडेय कहते हैं, 'कन्हैया कुमार चर्चित युवा चेहरों में से एक हैं. देश के कुछ वर्गों में वह बहुत लोकप्रिय हैं. पिछले पांच सालों में गैर-बीजेपी पॉलिटिक्स में सबसे ज्यादा नाम कन्हैया कुमार का हुआ है. बीजेपी की दक्षिणपंथ की राजनीति के मुद्दों पर सबसे जायदा विरोध कन्हैया ने किया है. अल्पसंख्यकों में उनकी साख बढ़ी है, लेकिन बहुसंख्यक समुदाय में वे युवा जिनके लिए अभी बेरोजगारी से बड़ा मुद्दा राष्ट्रवाद है, उनके लिए कन्हैया विलेन हैं. बिहार में कन्हैया की सीमा निर्धारित है. आरजेडी ने लेफ्ट के लिए जो सीट छोड़ी है कहीं न कहीं इसकी वजह भी कन्हैया कुमार ही हैं. राजद ने सीपीआई से ज्यादा अहमियत सीपीआई माले और सीपीएम को दी है. कन्हैया चुनाव प्रचार तो करेंगे, लेकिन यह महागठबंधन तय करेगा कि उनको बेगूसराय से बाहर निकाला जाए या फिर बेगूसराय तक ही सीमित रखा जाए.'

कन्हैया का क्या कहना है
गौरतलब है कि पिछले दिनों कन्हैया कुमार ने खुद कहा था कि वह चुनाव नहीं लड़ेंगे, लेकिन पार्टी जो जिम्मेदारी तय करेगी उसका निर्वाह जरूर करेंगे. ऐसे में राजनीतिक जानकार कन्हैया कुमार को लेकर सभी संभावनाओं से इनकार नहीं कर रहे हैं.

Kanhaiya Kumar, bihar election 2020, bihar election, kanhaiya kumar, Tejaswi yadav, lalu prasad yadav, mahagathbandhan, Grand Alliance, Left parties, cpi, RJD, bihar rjd, PM Modi, BJP, congress, Bihar Assembly Election, Bihar Assembly Elections, कन्हैया कुमार, बिहार विधानसभा चुनाव, बिहार चुनाव, बिहार इलेक्शन, नीतीश कुमार, बीजेपी, जेडीयू, राष्ट्रीय जनता दल, आरजेडी, तेजस्वी यादव, लालू प्रसाद यादव, कन्हैया कुमार की भूमिका, कांग्रेस, सीपीआई, बेगूसराय न्यूज
कन्हैया कुमार को लेकर अभी भी आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव सहज नहीं हैं. (फाइल फोटो)


ये भी पढ़ें: बिहार चुनाव: LJP के रुख से किसको होगा फायदा? जानें BJP की चुप्पी से क्यों असहज है JDU

कन्हैया कुमार 2019 के लोकसभा चुनाव में भी बेगूसराय संसदीय सीट से बीजेपी उम्मीदवार गिरिराज सिंह के सामने खड़े थे. उस चुनाव में कन्हैया कुमार की करारी हार हुई थी. मौजूदा केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कन्हैया कुमार को साढ़े 4 लाख से भी बड़े अंतर से हराया था. इसके बावजूद राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि कन्हैया बिहार विधानसभा चुनाव में गैर NDA दलों के लिए उम्मीद की एक किरण हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज