बिहार सरकार बड़ा दावा- इस साल जलजमाव के कारण नहीं डूबेगा पटना, सुशील मोदी ने कही ये बात

बिहार सरकार ने दावा किया है कि पटना के सभी बड़े नालों की उड़ाही कर ली गई है.
बिहार सरकार ने दावा किया है कि पटना के सभी बड़े नालों की उड़ाही कर ली गई है.

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Deputy Chief Minister Sushil Kumar Modi) के मुताबिक पिछले सप्ताह हुई अप्रत्याशित वर्षा एक तरह से तैयारियों की परीक्षा के साथ चेतावनी भी रही.

  • Share this:
पटना. बिहार सरकार ने दावा किया है कि पिछले साल की तरह इस बार पटनावासियों को जलजमाव (Water Logging) का सामना नहीं करना पड़ेगा. वाटर लॉगिंग की स्थिति की समीक्षा के लिए पुराना सचिवालय के सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Deputy Chief Minister Sushil Kumar Modi) ने बताया कि पटना के सभी 9 बड़े नालों की सफाई कर ली गई है. साथ ही निगम क्षेत्र के 14 लाख 49 हजार फीट लम्बे खुले नाले,  44,144 मेन हाॅल और 36,050 कैच पीट की उड़ाही भी कर ली गई है. इसी का ही नतीजा रहा कि जून के आखिरी सप्ताह में हुई भारी बारिश के बावजूद अधिकांश इलाकों से अधिकतम 6 से 8 घंटे में पानी की निकासी संभव हो पाई. बैठक में पथ निर्माण मंत्री नन्द किशोर यादव व नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा और  पटना के सभी स्थानीय विघायक भी उपस्थित थे.

अधिकारियों-कर्मियों के नंबर होंगे प्रकाशित
सुशील मोदी के मुताबिक पिछले सप्ताह हुई अप्रत्याशित वर्षा एक तरह से तैयारियों की परीक्षा के साथ चेतावनी भी रही. अधिकारियों को निर्देश दिया गया कि जहां-जहां जल जमाव हुए हैं, उन स्थलों को चिन्हित कर आगे समाधान का प्रयास किए जाएं. पटना नगर निगम मुख्यालय में 24 घंटे कंट्रोल रूम संचालित करने और सभी कर्मियों, अधिकारियों के मोबाइल नंबर अखबारों में विज्ञापन देकर प्रकाशित करने का भी निर्देश दिया गया.


कच्चे नालों का निर्माण किया गया 


बैठक में अधिकारियों ने बताया कि जल जमाव न हो इसके लिए 33 स्थानों पर 34, 230 फीट नए कच्चे नाले का निर्माण कराया गया है. 143 स्थानों को चिन्हित कर विभिन्न क्षमता वाले पम्प को अधिष्ठापित करने हेतु कर्मियों की तैनाती की गई है. 39 ड्रैनेज पम्प स्टेशनों की मरम्मति, संचालन व संधारण 3 वर्षों के लिए निविदा के माध्यम से कराई गई है. 21 स्थानों पर स्थायी सम्प हाउस का सिविल कार्य पूरा कर लिया गया है और अगले एक सप्ताह में पम्प अधिष्ठापन का कार्य भी पूरा कर लिया जाएगा.

पटना में जलजमाव की स्थिति पर समीक्षा बैठक करते हुए डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी.


हर शनिवार को होगी समीक्षा
इसके साथ ही सभी पम्पिंग स्टेशनों पर डेडिकेटेड फीडर से विद्युत की आपूर्ति, सीसीटीव कैमरा और केन्द्रीकृत माॅनिटरिंग की व्यवस्था की गई है. किसी भी आकस्मिक स्थिति से निपटने के लिए 3-3 लोगों का 18 त्वरित धावा दल गठित और मृत जानवरों के ससमय निष्पादन के लिए प्रत्येक अंचल में वाहन व कर्मियों की व्यवस्था की गई है. प्रत्येक शनिवार को स्थानीय विधायकों के साथ नगर निगम, बुडको और नगर विकास के अधिकारियों की बैठक होगी जिसमें जल जमाव की मौजूदा स्थिति की समीक्षा की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज