बिहार सरकार ने बिठाई जांच: मासूमों की मौत की जिम्मेदार लीची है या नहीं?

बिहार में चमकी बुखार के बढ़ते कहर के साथ यह खबर भी तेजी से फैली है कि यह रोग लीची खाने से होता है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 21, 2019, 9:01 PM IST
बिहार सरकार ने बिठाई जांच: मासूमों की मौत की जिम्मेदार लीची है या नहीं?
चमकी बुखार के पीछे लीची को भी एक वजह बताया जा रहा है. ( फाइल फोटो )
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 21, 2019, 9:01 PM IST
बिहार में चमकी बुखार के बढ़ते कहर के साथ यह खबर भी तेजी से फैली है कि यह रोग लीची खाने से होता है. अब बिहार सरकार ने इसका पता लगाने की घोषणा की है. राज्य के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने कहा है कि हम विशेषज्ञों ने जरिए यह पता लगाएंगे. उन्होंने कहा कि हमने इसके लिए कृषि वैज्ञानिक और उद्यान वैज्ञानिकों की एक टीम बनाई है, जो लीची के चमकी बुखार से संबंधों का पता लगाएगी.

लैंसेट रिपोर्ट


मुजफ्फरपुर में AES यानी चमकी बुखार के कहर के बीच न्यूरोलॉजिकल बीमारी के संदर्भ में हुए एक शोध में खुलासा हुआ है कि इस रोग का प्रमुख कारण लीची का सेवन करना है. द लैंसेट ग्लोबल हेल्थ मेडिकल जनरल में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंस्लोपैथी यानी दिमागी बुखार के फैलने में लीची जिम्मेदार होती है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, इस बीमारी की चपेट में आए इलाकों में जिन बच्चों ने रात का खाना स्किप किया है और लीची ज्यादा खा ली हो, उनके हाइपोग्लैसीमिया के शिकार होने का खतरा ज्यादा हो जाता है.

क्या है सच्चाई

क्या लीची वाकई इतना खतरनाक फल है? नहीं, अस्ल में, बिहार में AES का कारण मानी जा रही लीची के फायदे बहुत हैं, लेकिन बिहार में जो बच्चे इसका सेवन करने से बीमारी के शिकार हुए, उनमें कुपोषण के लक्षण देखे गए. एक्सपर्ट्स के मुताबिक जिन बच्चों ने लीची खाने के बाद पानी कम पिया या काफी देर तक पानी पिया ही नहीं, उनके शरीर में सोडियम की मात्रा कम हो गई, जिसके चलते वो दिमागी बुखार के शिकार हो गए.


Loading...

सरकार ही लगाएगी मुहर

अब सरकार द्वारा टीम बनाए जाने के बाद यह माना जा रहा है कि इस विषय पर विस्तृत जानकारी उपलब्ध हो पाएगी. चमकी बुखार पर चौतरफा घिरी बिहार सरकार ने लीची के साथ इसके संबंधों को स्पष्ट करने के लिए कई विशेषज्ञों की मदद ली है.

ये भी पढ़ें:

शत्रु ने बिहार में मौतों पर सरकार को ठहराया जिम्‍मेदार

क्या तेजस्वी को उनके अपने ही अनुभवहीन साबित कर रहे हैं?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 21, 2019, 8:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...