गया को रेड जोन में रखने पर बिहार सरकार ने उठाया सवाल, कही ये बात

बिहार में वापस लौटने वालों को अब क्वारंटीन नहीं करेगी 
नीतीश सरकार.
बिहार में वापस लौटने वालों को अब क्वारंटीन नहीं करेगी नीतीश सरकार.

बिहार सरकार ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से पूछा है कि गया को रेड जोन के रूप में कैसे वर्गीकृत किया जा सकता है जबकि वहां कोविड-19 (COVID-19) का केवल एक एक्टिव मामला है.

  • Share this:
पटना. बिहार में गया को रेड जोन में रखने पर नीतीश सरकार ने सवाल उठाया है. स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने कहा कि बिहार सरकार ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से पूछा है कि गया (Gaya) को रेड जोन के रूप में कैसे वर्गीकृत किया जा सकता है जबकि वहां कोविड-19 (COVID-19) का केवल एक एक्टिव मामला है.

बिहार के 38 जिलों में पांच रेड जोन
दरअसल, कोरोना वायरस के संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पूरे देश में लॉकडाउन की अवधि 17 मई तक बढ़ा दी है. हालांकि इस दौरान कई तरह के राहत के भी ऐलान किए गए हैं. इसके लिए केंद्र सरकार ने देश के जिलों को रेड जोन (Red Zone), ऑरेंज जोन (Orange Zone) और ग्रीन जोन (Green Zone) में बांट कर पाबंदियों और छूट की सीमा तय की है. बिहार के संदर्भ में देखें तो प्रदेश के 38 जिलों में से पांच जिले रेड जोन में शामिल किए गए हैं. वहीं, 20 जिले ऑरेंज तो 13 जिले ग्रीन जोन में हैं.

बिहार में मुंगेर, पटना, रोहतास, बक्‍सर और गया को रेड जोन में रखा गया है. इनमें दो मई की सुबह 9 बजे तक मुंगेर में 95, रोहतास में 52, बक्सर में 51,  पटना में 44 और गया में 6 कोरोना संक्रमति पाए गए हैं. यानी कुल 466 मरीजों में से 248 मरीज इन्हीं जिलों से हैं.





कोरोना संक्रमण से 32 जिले प्रभावित
बिहार में 22 मार्च को कोरोना वायरस संक्रमण का पहला मामला आया था. सूबे में अब तक 32 जिले कोरोना से प्रभावित हो चुके हैं. मुंगेर में सबसे अधिक 102 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं बक्सर- 56, रोहतास- 52, पटना- 44, नालंदा- 36, सीवान- 32, कैमूर- 31, मधुबनी- 23, गोपालगंज- 18, भोजपुर- 18, बेगूसराय- 13, औरंगाबाद- 13, भागलपुर- 11, पश्चिम चंपारण- 11, कटिहार- 10, पूर्वी चंपारण- 9, सारण- 8, सीतामढ़ी- 6, गया- 6, दरभंगा- 5 ,अरवल- 5, लखीसराय- 4, जहानाबाद- 4, नवादा- 4, वैशाली- 3, बांका- 3, मधेपुरा- 2, अररिया- 2, शेखपुरा- 1, पूर्णिया- 1, शिवहर- 1 और समस्तीपुर में एक मरीज मिल चुके हैं.

ये भी पढ़ें- गोपालगंज: चिकन खाने के बाद बिगड़ी परिवार के चार लोगों की तबीयत, बच्चे की मौत

जमालपुर IRIMEE को UP ले जाने के फैसले पर बढ़ा बवाल, JDU-कांग्रेस ने कही ये बात
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज