सुशील मोदी ने पेश किया 2 लाख करोड़ का बजट, शिक्षा पर सबसे अधिक खर्च

34 हजार 798 करोड़ रुपए शिक्षा पर, लगभग 18 हजार करोड़ रुपए सड़कों पर, ग्रामीण विकास पर 15 हजार 669 करोड़ खर्च, गृह विभाग पर लगभग 11 हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे.

News18 Bihar
Updated: February 12, 2019, 3:14 PM IST
सुशील मोदी ने पेश किया 2 लाख करोड़ का बजट, शिक्षा पर सबसे अधिक खर्च
सुशील कुमार मोदी
News18 Bihar
Updated: February 12, 2019, 3:14 PM IST
बिहार के उपमुख्यमंत्री एवं वित्तमंत्री सुशील मोदी ने सदन में दो लाख करोड़ का बिहार का बजट पेश किया. इस बजट की बड़ी विशेषता ये है कि इसमें सबसे ज्यादा खर्च शिक्षा मद में किया गया है. बजट में कुल पूंजीगत व्यय 45 हजार 270 करोड़ रुपए का है. वेतन पेंशन एवं ब्याज भुगतान पर 88 हज़ार 188 करोड़ व्यय किए जाएंगे.


34 हजार 798 करोड़ रुपए शिक्षा पर, लगभग 18 हजार करोड़ रुपए सड़कों पर, ग्रामीण विकास पर 15 हजार 669 करोड़ खर्च, गृह विभाग पर लगभग 11 हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें-  खुशखबरी: डेढ़ महीने के लंबे अंतराल के बाद आज खुेलगा पटना जू पर लटका ताला






वित्त मंत्री ने घोषणा की कि 2019-20 में केंद्र-राज्य सरकार द्वारा नए 11 मेडिकल कॉलेज खोले जाने हैं. सीएम नीतीश कुमार के सात निश्चय योजना के तहत 2019-20 में पेयजल योजना के लिए खास राशि का प्रावधान किया गया है.
Loading...

सुशील मोदी ने घोषणा की  कि विश्व की सबसे बड़ी बालक/बालिका साइकिल योजना योजना के तहत 19-20 में 292 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है. पोशाक राशि 1000 से बढ़ाकर 1500 किया गया है, सेनेटरी नैपकिन के लिए दी जाने वाली राशि को बढ़ाकर 300 रुपए किए गए.








वित्त मंत्री ने दावा किया कि बिहार के सभी गांवों में समय सीमा से पहले बिजली पहुंची है जो ऐसा काम करने वाला देश का आठवां राज्य बन गया है. उन्होंने घोषणा की कि अगले दो साल में बिहार के हर घर में बिजली की प्री पेड मीटर लगा दिया जाएगा.




सुशील मोदी ने कहा कि 2004-05 के बजट से ये आठ गुणा ज्यादा का बजट है.  2019-20 में पूंजीगत व्यय पर 45 हजार 2 सौ 70 हजार करोड़ खर्च होगा.  वेतन पेंशन पर भी सरकार का ध्यान है जिसमें संविदाकर्मी भी शामिल हैं.

ये भी पढ़ें-  'हम 24 घंटे के भीतर आरोपी को लड़कियों के कदमों में डाल देंगे'




 


Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर