लाइव टीवी
Elec-widget

कुशवाहा के अनशन पर नीतीश सरकार की दो टूक, 'न देंगे जमीन, न ही पिलाएंगे जूस'

News18 Bihar
Updated: November 29, 2019, 7:49 AM IST
कुशवाहा के अनशन पर नीतीश सरकार की दो टूक, 'न देंगे जमीन, न ही पिलाएंगे जूस'
उपेंद्र कुशवाहा के अनशन को नीतीश सरकार ने ड्रामा करार दिया.

बिहार सरकार के मंत्रियों ने कहा कि जमीन की कमी को लेकर राज्य सरकार ने कई बार पत्राचार कर भी केंद्र सरकार को अवगत कराया था. इसको लेकर वर्ष 2007 से लेकर 2018 तक कई बार पत्र भी लिखे गए थे.

  • Share this:
पटना. बिहार में शिक्षा व्‍यवस्‍था की दयनीय हालत में सुधार और केंद्रीय विद्यालयों के लिए जमीन की मांग काे लेकर राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) मंगलवार से आमरण अनशन पर हैं. इस बीच उनके महागठबंधन (Grand alliance) के नेताओं के साथ ही बीजेपी के एमएलसी संजय पासवान (BJP MLC sanjay Paswan) भी गुरुवार को उनका हाल-चाल लेने पहुंचे लेकिन, राज्य सरकार की ओर से कोई उनका हाल लेने भी नहीं पहुंचा है. इस बीच सरकार के दो मंत्रियों ने उनकी मांग को ही खारिज कर दिया है.

गुरुवार को सरकार के दो मंत्रियों ने एक साथ मीडिया के माध्यम स्पष्ट कर दिया कि राज्य सरकार केंद्रीय विद्यालय के लिए जमीन नहीं देगी. शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा और भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने उपेंद्र कुशवाहा के अनशन को राजनीतिक ड्रामा करार दिया. दोनों ही मंत्रियों ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा जब नीतीश कुमार के साथ एक पार्टी में थे तब भी उन्हें पता था कि राज्य सरकार के पास जमीन नहीं है.

पटना के मिलर स्कूल में आमरण अनशन पर बैठे उपेंद्र कुशवाहा.


बिहार सरकार के मंत्रियों ने कहा कि जमीन की कमी को लेकर राज्य सरकार ने कई बार पत्राचार कर भी केंद्र सरकार को अवगत कराया था. इसको लेकर वर्ष 2007 से लेकर 2018 तक कई बार पत्र भी लिखे गए थे. इस बीच कुशवाहा का अनशन खत्म करवाने के सवाल पर शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने साफ कह दिया मैं जूस पिलाने नहीं जाऊंगा. अगर कुशवाहा की हालत बिगड़ रही है तो उसके लिए मेडिकल टीम वहां मुस्तैद है.

शिक्षा मंत्री ने कहा कि राज्य में 2950 पंचायतों में हाईस्कूल खोले जाने के लिए भी राज्य सरकार के पास जमीन नहीं है जिससे कि उत्क्रमित किया जाए. ऐसे में केंद्रीय विद्यालय के लिए राज्य सरकार निःशुल्क जमीन देने की स्थिति में नहीं है.

अनशन पर बैठे कुशवाहा के ब्लड प्रेशर में काफी उतार चढ़ाव हो रहा है.


वहीं, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि ये मंत्री थे तब राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से पत्राचार किया था और कहा था कि हम तैयार भी होंगे तो उसी शर्त पर जब 75 प्रतिशत लोकल बच्चों का उसमें नामांकन हो लेकिन, इसको लेकर सहमति नहीं मिली.
Loading...

अशोक चौधरी ने कहा कि आजाद हिंदुस्तान की ये पहली घटना होगी कि देश के शिक्षा मंत्री रहते हुए इन्होंने धरना दिया था जो कि हास्यास्पद था. बता दें कि बिहार में औरंगाबाद और नवादा के लिए उपेंद्र कुशवाहा ने मानव संसाधन मंत्री रहते हुए केंद्रीय विद्यालय की सौगात दी थी लेकिन, राज्य सरकार से जमीन नहीं मिलने पर योजना हवा में रह गयी.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 7:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...