• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • PATNA BIHAR MINISTER MUKESH SAHNI BLAMED NITISH GOVERNMENT AFTER ARRESTING OF PAPPU YADAV IN PATNA BRAMK

पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर अब बिहार के मंत्री मुकेश सहनी ने उठाए सवाल, नीतीश सरकार को घेरा

पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर अब बिहार के मंत्री मुकेश सहनी ने उठाए सवाल (File Photo)

Pappu Yadav News: पटना में पप्पू यादव की गिरफ्तारी के बाद नीतीश कुमार की सरकार के दो अहम सहयोगी मांझी की पार्टी हम और मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी ने सवाल खड़े कर दिए हैं. दूसरी ओर पटना पुलिस पप्पू यादव को मधेपुरा भेजने की तैयारी में है.

  • Share this:
    पटना. जन अधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव (Pappu Yadav) की गिरफ्तारी को लेकर अब बिहार में नीतीश सरकार के सहयोगी ही सवाल उठाने लगे हैं. नीतीश सरकार के मंत्री और वीआईपी पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी (Mukesh Sahni) ने अपनी ही सरकार और प्रशासन के फैसले का विरोध कर दिया है. जाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव की पटना आवास से गिरफ्तारी को लेकर मत्स्य पशुपालन मंत्री मुकेश सहनी ने तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की है.

    मुकेश सहनी ने कहा है कि जनता की सेवा ही धर्म होनी चाहिए. मंत्री मुकेश सहनी की मानें तो सरकार को जनप्रतिनिधियों, सामाजिक संस्थाओं और कार्यकर्ताओं को जनता की सेवा के लिए प्रेरित करना चाहिए मुकेश सहनी ने इस तरह की कार्रवाई को असंवेदनशील करार दिया है. मुकेश सहनी का अपनी ही सरकार के फैसले का विरोध करने के बाद नीतीश सरकार कटघरे में आ गई है. लॉकडाउन के बाद मुकेश सहनी भी पटना के विभिन्न सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों और उनके परिजनों के लिए पिछले कुछ दिनों से फूड पैकेट बांटने का काम कर रहे हैंं.



    पटना पुलिस ने उन्हें भी आगाह किया है कि बगैर पास के उनके लोग लॉकडाउन में सड़कों पर मूवमेंट ना करें. इसके बाद आज पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर मुकेश साहनी बिफर पड़े. इसके पहले जीतन राम मांझी ने भी पप्पू यादव की गिरफ्तारी का विरोध किया था लेकिन सरकार में रहते हुए मंत्री मुकेश सहनी और मांझी का विरोध कई सवाल खड़े कर रहा है. पप्पू यादव की गिरफ्तारी के बाद मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस की तीखी प्रतिक्रिया सामने आई थी लेकिन अब जीतन राम मांझी के बाद मुकेश साहनी का यह बयान सरकार को परेशानी में डाल सकता है.
    Published by:Amrendra Kumar
    First published: