• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • नीति आयोग की रैंकिंग में बिहार 28वें पायदान पर, मंत्री ने रिपोर्ट और मानकों पर उठाए सवाल

नीति आयोग की रैंकिंग में बिहार 28वें पायदान पर, मंत्री ने रिपोर्ट और मानकों पर उठाए सवाल

बिहार के योजना विकास मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव (File Photo)

बिहार के योजना विकास मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव (File Photo)

NITI Ayog Bihar Ranking Issue: बिहार सरकार के मंत्री विजेंद्र यादव ने कहा कि बिहार में गाड़ियों की संख्या भी बढ़ी है और बिजली खर्च में भी पहले से काफी बढ़ोतरी हुई है तो फिर राज्य में गरीबी कैसे नहीं घटी? नीति आयोग ने अपनी रिपोर्ट में राज्य की प्रगति को शामिल ही नहींं किया है.

  • Share this:

पटना. इस साल जून में वर्ष 2020-21 की नीति आयोग (NITI Ayog) द्वारा जारी रिपोर्ट में बिहार को विभिन्न विकास के मानकों पर देश में 28 वें नंबर पर रखा गया था. राज्य सरकार ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है. बिहार के योजना विकास मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा है कि बिहार ने सड़क, पुल-पुलिया से लेकर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, बिजली और स्वास्थ सुविधाओं में बढ़ोतरी की है, जबकि गरीबी घटाने जैसे मामले में भी राज्य ने काफी प्रगति की है. नीति आयोग ने अपनी रिपोर्ट में राज्य की प्रगति को शामिल नहीं किया है और यह बिहार के साथ न्याय नहीं माना जा सकता.

मंत्री ने कहा है कि योजना एवं विकास विभाग द्वारा नीति आयोग को एक ज्ञापन भेजा गया है, जिसमें मानक बदलने की भी बात कही गई है. बिहार सरकार की तरफ से भेजे गए ज्ञापन में साल 2019 में राज्य की अर्थव्यवस्था में वृद्धि दर 10.5% बताई गई है, जबकि इसी दौरान भारत की अर्थव्यवस्था में वृद्धि दर 4.2% रही है. साल 2018-19 में भी यह आंकड़ा 9.3 और 6.1% रहा था. ज्ञापन में कहा गया है कि बिहार ने गरीबी दर में पिछले 6 सालों में 21% की कमी की है. साल 2005 में गरीबी दर 54. 4% थी, जो साल 2011 में 33.7% हो गई थी. इन सालों में राष्ट्रीय स्तर में कमी केवल 12.5% की ही रही, लेकिन राज्यों की रैंकिंग में इस बात की चर्चा नहीं की गई है.

गरीबी रेखा के नीचे रहने वालों का नया आंकड़ा सामने आए

मंत्री ने कहा कि इसी तरह गरीबी रेखा के नीचे रह रहे लोगों की संख्या साल 2011 के आंकड़ों के आधार पर चली आ रही है, जबकि नया आंकड़ा सामने आना चाहिए. बिहार में पिछले 6 साल में प्रति व्यक्ति विकास पर खर्च 17.9% बढ़ गया है, लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर यह बढ़त 11.6% ही है. मंत्री ने दावा किया कि बिहार में काफी अच्छे काम हुए हैं, जिनको शामिल किए बगैर रिपोर्ट जारी कर दी गई. विजेंद्र यादव ने सवालिया लहजे में कहा कि बिहार में गाड़ियों की संख्या भी बढ़ी है और बिजली खर्च में भी पहले से काफी बढ़ोतरी हुई है तो फिर राज्य में गरीबी कैसे नहीं घटी?

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज