लाइव टीवी

NDA के इस 'ब्रह्मास्त्र' से क्यों डर रहे तेजस्वी और तेजप्रताप! पढ़ें राजनीतिक 'चक्रव्यूह' की इनसाइड स्टोरी
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: March 2, 2020, 8:13 AM IST
NDA के इस 'ब्रह्मास्त्र' से क्यों डर रहे तेजस्वी और तेजप्रताप! पढ़ें राजनीतिक 'चक्रव्यूह' की इनसाइड स्टोरी
तेजस्वी यादव व तेजप्रताप यादव के लिए NDA ने नई योजना बनाई है. (फाइल फोटो)

लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव और छोटे बेटे तेजस्वी यादव बिहार की राजनीति के वे अभिमन्यु हैं, जिन्हें घेरने के लिए एनडीए ने ऐश्वर्या राय के सहारे 'महाचक्रव्यूह' रचा है.

  • Share this:
पटना. बिहार में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में सभी पार्टियां अभी से ही चुनाव की तैयारियों में जुट गई हैं. कहीं रैलियों के जरिये तो कहीं यात्रा के सहारे बिहार के राजनीतिक धुरंधर अपना दमखम दिखाने में लगे हैं. ऐसे में बिहार की सत्ता पाने के लिए ये सियासी पार्टियां हर दांव-पेंच आजमाने को भी तैयार हैं. NDA ने भी लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के दोनों लाल के लिए कुछ ऐसा ही 'महाचक्रव्यूह' बनाया है, जिसे भेद पाना आसान नहीं होगा.

दरअसल, लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव और छोटे बेटे तेजस्वी यादव बिहार की राजनीति के वे अभिमन्यु हैं, जिन्हें घेरने के लिए एनडीए ने ऐश्वर्या राय के सहारे 'महाचक्रव्यूह' बनाया है. अंदरखाने में खबर है कि लालू परिवार, खासकर तेजप्रताप-तेजस्वी इस बात से बेहद सशंकित भी हैं कि कहीं विरोधी उनके खिलाफ कोई बड़ी प्लानिंग तो नहीं कर रहे.

बीजेपी के विधायक मिथिलेश तिवारी ने यह कहकर और सनसनी फैला दी कि तेजप्रताप और तेजस्वी दोनों ऐश्वर्या के डर से अपने विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने को तैयार नहीं हैं. इन दोनों भाइयों को इस बात का डर सता रहा कि कहीं ऐश्वर्या उनके खिलाफ चुनाव लड़कर सेंटिमेंट वोट हासिल न कर ले. अगर ऐसा हुआ तो फिर इनकी हार भी हो सकती है.



तेज-तेजस्वी का धर्मसंकट



सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, लालू के ये दोनों लाल इस बात को लेकर बेहद परेशान हैं कि कहीं एनडीए अपनी चाल में कामयाब हो गया तो फिर दोनों भाइयों का राजनीतिक करियर ही दांव पर लग जाएगा. यही कारण है कि तेजप्रताप अपने विधानसभा क्षेत्र महुआ को छोड़कर कभी बख़्तियारपुर तो कभी मनेर का दौरा कर रहे हैं.

तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)


संभावनाओं की तलाश जारी
सियासी गलियारों में इस बात की खूब चर्चा है कि ऐश्वर्या से ज्यादा खतरा तेजस्वी यादव को है. अंदरखाने यह भी खबर है कि तेजस्वी अपने विधानसभा क्षेत्र राघोपुर के अलावे दूसरी संभावनाएं भी तलाश रहे हैं. मसलन तेजस्वी राघोपुर के अलावा किसी दूसरे क्षेत्र से भी चुनाव लड़ सकते हैं. आरजेडी के विश्वस्त सूत्र ये भी बताते हैं कि तेजस्वी या तेजप्रताप दोनों में से किसी एक को पार्टी विधानपरिषद के रास्ते एमएलसी बनाकर उन्हें सुरक्षित कर सकती है, ताकि विरोधी अपने प्लान में कामयाब न हो सकें.

आरजेडी ने दावे को किया खारिज
बीजेपी के बयान से यह तो जाहिर है कि ऐश्वर्या के सहारे एनडीए तेज-तेजस्वी को घेरने के लिए एक बड़ा चक्रव्यूह बना रही है. आरजेडी के भीतर इस बात को लेकर बहुत रिएक्शन है, लेकिन मीडिया के सामने खुलकर कोई भी बोलने को तैयार नहीं है. आरजेडी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं कि एनडीए कितना भी जोर लगा ले साल 2020 में तेज़-तेजस्वी के विजयरथ को रोक पाना उनके लिए बहुत मुश्किल होगा.

तेजप्रताप यादव का अपनी पत्नी ऐश्वर्या राय से विवाद चल रहा है.


आरजेडी ने किया यह दावा
मृत्युंजय तिवारी का कहना है कि विरोधियों को पहले लालू फोबिया था अब तेज-तेजस्वी फोबिया हो गया है. यही नहीं आरजेडी ने डंके की चोट पर कहा कि तेजप्रताप और तेजस्वी डरने वाले नहीं हैं, वो लालू यादव के बेटे हैं, जिन्हें नीतीश कुमार और सुशील मोदी की तरह बैकडोर से सदन में जाने की आदत नहीं है. ये दोनों भाई बिहार के किसी भी कोने से चुनाव लड़ेंगे तो जनता उन्हें अपना पूरा समर्थन देगी.

क्या होगा जब ऐश्वर्या होगी सामने?
बहरहाल, आरजेडी भले ही इस बात को अभी मानने से इनकार कर रही हो, लेकिन अंदरखाने में इस बात की न सिर्फ चर्चा है, बल्कि आरजेडी खेमे में ऐश्वर्या को लेकर एक दहशत भी बन हुआ है. सबको इस बात का डर सता रहा है कि कही एनडीए आखिरी समय में अपने इस ब्रह्मास्त्र का इस्तेमाल न कर दे. अगर ऐसा कुछ भी हुआ तो फिर तेज़-तेजस्वी की वापसी बहुत मुश्किल है.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 2, 2020, 7:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading