अपना शहर चुनें

States

LIVE NOW

Bihar News Live Updates: भोजपुर में खेतों में बहा नहर का पानी, फसल हुई बर्बाद

Bihar News, 21 January 2021: बिहार में अपराधी बेलगाम हो रहे हैं. रुपेश हत्याकांड की जांच अभी जारी ही है, इसी बीच लूट की एक वारदात और सामने आई है. इसके साथ ही बिहार में पक्ष और विपक्ष के बीच सियासी घमासान भी जारी है. बिहार की हर घटना की ताजा अपडेट के लिए हमारे साथ बने रहिए.

Hindi.news18.com | January 21, 2021, 2:30 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated January 21, 2021
2:30 pm (IST)
भारत देश में कृषि बिल को लेकर जहां किसानों में आक्रोश दिखाई दे रहा है. जिसको लेकर किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं. वहीं दूसरी ओर किसानों से संबंधित भोजपुर जिले से भी एक मामला सामने आ रहा है. जहां बांध टूटने से नहर का पानी खेतों में प्रवेश कर गया।जिससे लाखों की फसल बर्बाद हो गई कई. फसल बर्बाद हो जाने से किसान भुखमरी के कगार पर आ  गये है।ताजा मामला जिले के जगदीशपुर थाना क्षेत्र के कौंरा गांव की है।जहां बीते रात अचानक बांध टूटने एवं नहर का पानी प्रवेश करने से खेत बोये लाखों की फसल बर्बाद हो गई.

10:39 am (IST)
पूरी दुनिया में मौजूद बौद्ध धर्म मानने वालों के लिए बिहार के गया जिले में स्थित बोधगया सबसे पवित्र तीर्थ स्थल है. इसी जगह भगवान बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ती हुई थी। भगवान बुद्ध ने पीपल के पेड़ के नीचे ध्यान लगाया था. इस पीपल को बचाने के लिए सरकार सालाना 5 लाख खर्च कर रही है. बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति होने के बाद उस पेड़ को बोधि वृक्ष कहा जाने लगा.बौद्ध धर्म के लोगों के लिए बोधि वृक्ष की बड़ी महत्ता है.
9:15 am (IST)
मधेपुरा में एक ओर उपद्रवी सदर थाने में तोड़फोड़ कर रहे थे तो दूसरी और मधेपुरा के स्टेशन चौक स्थित एक थोक किराना व्यवसायी के दूकान में दो बाइक पर सवार 6 हथियारबंद अपराधी लूट की वारदात को अंजाम दे रहे थे.  बेखौफ अपराधियों ने हथियार के बल पर आलू प्याज के थोक विक्रेता के दुकान से करीब 50 सेकेण्ड में 3 से 4 लाख रुपये लुट लिए लुट की सारी वारदात सीसीटीवी में भी कैद हो चुकी है. बताया जाता है कि बीते बुधवार की रात करीब  दस बजे आलू प्याज के थौक व्यवसायी देबू भगत के यहां बेखौफ अपराधियों ने हथियार के बल पर लूट की घटना को अंजाम दिया है. इस मामले में एसपी योगेंद्र कुमार ने बताया कि घटना की सूचना मिलने पुलिस घटना स्थल पर पहुंच कर मामले की जांच में जुट गयी है.
9:10 am (IST)
दरभंगा में 19 साल बाद एक घर का चिराग कैलाश लौटा है. इसके बाद गांव में मेले जैसा माहौल हो गया, उसे देखने गांव में भीड़ उमड़ी.  दरभंगा के गोढ़ीया गांव 19 वर्षों से गायब चिराग कैलाश मुखिया के लौटने पर घर मे खुशियों की बौछार आ गई. कैलाश घर से गायब होने के बाद भिखारी बन गया था. लुधियाना में एक होटल में उसके भतीजे ने उसे देखा और फिर पहंचान लिया. इसके बाद कैलाश को लेकर वो बिहार के दरभंगा पहुंचा.
LOAD MORE
पटना. बिहार के दरभंगा में 19 साल बाद एक घर में उस वक्त खुशियां लौट आईं, जब घर का खोया चिराग लौटा. उसके स्वागत के लिए गांव में मेले जैसा माहौल हो गया. चिराग कैलाश 19 साल पहले घर से अचानक गायब हो गया था. इसके बाद से वो भिखारी के रूप में जीवन गुजार रहा था. हाल ही में वो रोटी मांगने लुधियाना के एक होटल में पहुंचा. वहां मौजूद उसके भतीजे ने उसकी आवाज पहंचान ली और उसके बाद उसे बिहार के दरभंगा लेकर आया. पति के लौटने पर कैलाश की पत्नी रंजना काफी भावुक हो गई.

दरभंगा के गोढ़ीया गांव में बीते बुधवार को चिराग कैलाश अपने घर लौटा. इसके बाद घर के प्रत्येक सदस्य की झोली में कुछ न कुछ खुशियां हिस्से में आई. किसी को पिता तो किसी को बेटा, किसी को पति तो किसी को भाई, दोस्त मिल गया. हर कोई एक दूसरे को मिठाई खिलाकर एक दूसरे का मुंह मीठा भी करा रहा था. यानी घर की सबसे बुजुर्ग 72 साल की महिला नुनु देवी को 19 वर्ष पहले खोया बेटा मिल गया तो इतने ही वर्षो बाद रंजन देवी को अपना सुहाग यानी पति मिल गया तो लालू और उसकी बहन को खोया पिता मिल गया.

अचानक घर से गायब हो गया था कैलाश
दरअसल दरभंगा के सोनकी इलाके के गोढ़ीया गाव के रहने वाले कैलाश मुखिया किसी कारण वर्ष 2001 - 2002 में अचानक घर छोड़ चले गए परिवार के लोगो ने तब बहुत खोजबीन किया, लेकिन कैलाश मुखिया का कोई अता पता नही चला. लेकिन इसी बीच 19 वर्ष बाद लुधियाना में कैलाश मुखिया एक खाने के ढाबे पहुंच कर खाने के लिए रोटी की मांगा. यहीं से इसकी वापसी का रास्ता बना. क्योंकि कैलाश ने ढाबे पर जिस व्यक्ति से रोटी की मांग की वह कोई और नही बल्कि खुद कैलाश का वह अपना भतीजा सियाराम मुखिया था.

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज