Home /News /bihar /

OMG: बिहार पंचायत चुनाव में फर्जी वोटिंग रोकने के लिए शुरू किया गया बायोमेट्रिक सिस्टम, उसी के सहारे उड़ा लिए 1 लाख रुपये

OMG: बिहार पंचायत चुनाव में फर्जी वोटिंग रोकने के लिए शुरू किया गया बायोमेट्रिक सिस्टम, उसी के सहारे उड़ा लिए 1 लाख रुपये

बिहार पंचायत चुनाव में बायोमेट्रिक सिस्टम संचालक ने किया फर्जीवाड़ा.

बिहार पंचायत चुनाव में बायोमेट्रिक सिस्टम संचालक ने किया फर्जीवाड़ा.

Bihar Panchayat Election 2021: बिहार राज्य निर्वाचन आयोग ने मतदाता पहचान के लिए मतदान केंद्रों पर बायोमेट्रिक सिस्टम की व्यवस्था शुरू की है. लेकिन, चुनाव के दौरान इसी बायोमेट्रिक सिस्टम को संचालित कर रहे साइबर ठग ने मतदाता पहचान के नाम पर मतदाताओं के खाते से एक लाख रूपये से अधिक की निकासी कर ली.

अधिक पढ़ें ...

मुंगेर. बिहार पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Election 2021) में इस बार फर्जी वोटिंग रोकने के लिए कई नए प्रयोग किए गए हैं. इसी के तहत बिहार राज्य निर्वाचन आयोग (Bihar State Election Commission) ने मतदाता पहचान के लिए मतदान केंद्रों पर बायोमेट्रिक सिस्टम की भी व्यवस्था शुरू की. लेकिन, चुनाव के दौरान इसी बायोमेट्रिक सिस्टम (Biometric System) को संचालित कर रहे साइबर ठग ने मतदाता पहचान के नाम पर मतदाताओं के खाते से एक लाख रूपये से अधिक की निकासी कर ली. जब रूपयों की निकासी का मैसेज मतदाताओं के मोबाइल पर आना शुरू हुआ तो वोटरों ने मतदान केंद्र पर हंगामा करना शुरू कर दिया. इस मामले की जानकारी मिलते ही एसडीओ सदर खुशबु गुप्ता पुलिस बल के साथ मतदान केंद्र पर पहुंची, जिसके बाद बायोमेट्रिक सिस्टम संचालक को हिरासत में ले लिया गया. दरअसल सोमवार को मुंगेर में नौवें चरण के तहत सदर प्रखंड में मतदान हो रहा था. इस दौरान मध्य विद्यालय चड़ौन स्थित बूथ संख्या 145 उत्तरी भाग में संजीत कुमार को बायोमेट्रिक सिस्टम संचालित करने के लिए प्रतिनियुक्त किया गया था. उसे एक कॉमन सर्विंस सेंटर द्वारा प्रशासन को मुहैया कराया गया था.
बताया जाता है कि मतदान के दौरान सुबह 8:30 बजे एक मतदाता मतदान केंद्र पर पहुंचे और वहां तैनात मतदान कर्मी एवं पुलिसकर्मियों को बताया कि अभी वह वोट देकर गयी और उसके मोबाइल पर मैसेज आया कि उसके खाते से रुपये निकाले गए हैं. लेकिन, मतदान केंद्र से पुलिस कर्मियों ने उसे डांटकर यह कहते हुए भगा दिया गया कि यह सरकार का ऐप है, इसलिए ऐसा नहीं हो सकता, जिसके बाद थोड़ी देर के लिए तो मामला शांत हो गया. लेकिन, अपराह्न 3 बजे के बाद एक के बाद एक कई लोगों के मोबाइल पर पैसे निकासी का मैसेज आने लगा, जिसके बाद ग्रामीणों में अफरा-तफरी मच गयी और पीड़ित महिला व पुरुष मतदान केंद्र पर पहुंच कर हंगामा करने लगे.

मौके पर पहुंची सदर SDO
वहीं इस मामले को लेकर पीठासीन पदाधिकारी सुमन कुमार सुमन ने बताया की यहां शांतिपूर्ण तरीके से मतदान चल रहा था, लेकिन कई ग्रामीणों ने बूथ पर आकर पैसे निकल जाने की शिकायत की, जिसके बाद हमने वरीय अधिकारीयों को इस बात की जानकारी दी. जानकारी मिलते ही एसडीओ खुशबु गुप्ता पहुंची और बायोमैट्रिक संचालक संजीत को हिरासत में ले लिया.

ऑनलाइन ट्रांसफर कर लिया पैसा

बता दें, संचालक के पास से दो बायोमेट्रिक मशीन बरामद हुआ है, जिसमें से एक निर्वाचन आयोग का है और दूसरा उसका व्यक्तिगत था. पीड़ित मतदाताओं में चड़ौन गांव निवासी निभा कुमारी के खाते से संजीत ने 5000 रूपया ऑनलाइन ट्रांसर्फर कर लिया. जबकि इसी तरह सोनी कुमारी के खाते से 10 हजार, मधु देवी के खाते से 10 हजार, जयजयराम चौधरी के खाते से 10 हजार, विभा देवी के खाते से 10 हजार, अमृता प्रीतम के खाते से 10 हजार, उषा कुमारी के खाते से 4 हजार सहित अन्य के खातों से भी संजीत ने अपने एवं अपने पहचान के लोगों के खाते में पैसे ट्रांसफर कर लिए.

सभी दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक के हैं खाताधारी
बता दें, सभी दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक के खाताधारी हैं. ये सारे वैसे लोग हैं जिनके मोबाइल पर रूपया निकासी का मैसेज आया है लेकिन कई ऐसे भी मतदाता है कि जिनके खातों से रूपयों की निकासी कर ली गयी है लेकिन उसके मोबाइल पर मैसेज नहीं आता है, जिसके कारण ग्रामीण बैंक के उपभोक्ता सहित अन्य बैंकों के खाताधारी मतदाताओं में कंफ्यूजन की स्थिति बनी हुई है. बैंक बंद हो जाने के कारण लोग अपने खातों को अपडेट तक नहीं करा पाए.

Tags: Bihar Panchayat Chunaw, Bihar Panchayat Election, Bihar panchayat elections

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर