कोरोना का खौफ: जेल भेजने के बजाय थाने से ही अपराधियों को छोड़ रही बिहार पुलिस, जानें पूरी कहानी

बिहार पुलिस ने कोरोना को लेकर गिरफ्तारी के नियमों में किया बदलाव (फाइल फोटो)

बिहार पुलिस ने कोरोना को लेकर गिरफ्तारी के नियमों में किया बदलाव (फाइल फोटो)

Bihar Police Rule: ADG (पुलिस मुख्यालय) जितेंद्र कुमार ने बताया कि कोविड के दौर में अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर अपनाई जाने वाली रणनीति में थोड़ा बदलाव किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 5:24 PM IST
  • Share this:
पटना. पूरा देश इन दिनों कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से लड़ाई लड़ रहा है. बिहार में भी कोरोना को लेकर हालात काफी बुरे हैं और रोजाना दर्जनों लोग इस बीमारी के कारण मौत का शिकार हो रहे हैं. इस बीच कोविड 19 (Covid-19) के बढ़ते संक्रमण ने बिहार पुलिस (Bihar Police) की कार्यशैली में भी बदलाव ला दिया है. कल तक जो बिहार पुलिस हर एक अपराधी को सलाखों के पीछे पहुंचाने में विश्वास रखती थी, वही बिहार पुलिस कोरोना काल के दौरान अपराधियों को जेल भेजने से बच रही है.

दरअसल, बिहार पुलिस इन दिनों कोरोना के कारण 7 साल से नीचे की सजा के तहत आने वाले अपराध में शामिल अपराधियों को सिर्फ हिदायत और बॉन्ड भरवाकर थाने के स्तर पर ही छोड़ रही है. इस बात को ADG (पुलिस मुख्यालय) जितेंद्र कुमार भी सहजता पूर्वक मान रहे हैं. उनका कहना है कि कोविड का दौर है, इसलिए हमलोग अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर अपनी रणनीति में थोड़ा बदलाव किए हैं. एडीजी ने बताया कि आदतन अपराधी या जिनके बारे में केस के आईओ को लगता है कि यह शख्स सबूत को टेम्पर्ड कर सकता है और गवाह को डरा धमका सकता है, उसकी गिरफ्तारी में कोई बदलाव नहीं किया गया है. बिहार पुलिस वैसे अपराधियों को तत्काल गिरफ्तार कर जेल भेज रही है और उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी कर रही है.

Youtube Video


ADG (लॉ एंड ऑर्डर) अमित कुमार ने सभी जिलों के SP समेत जोन के DIG और IG को एक आदेश पत्र जारी किया है, जिसमें उन्होंने राज्य सरकार द्वारा जारी कोविड 19 के प्रोटोकॉल का सख्ती के साथ अनुपालन करने को कहा है. इस आदेश के बाबत विस्तृत रूप से जानकारी देते हुए ADG पुलिस मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने न्यूज़ 18 से एक्सक्लुसिव बातचीत के दौरान कहा की जो लोग राज्य सरकार की तरफ से कोविड 19 को लेकर जारी नई गाइडलाइन का अनुपालन नही करेंगे उनके खिलाफ राष्ट्रीय आपदा अधिनियम और राज्य सरकार के आदेश के उल्लंघन करने से जुड़े कानून के तहत कड़ी कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज