...आखिर BJP नेता संजय पासवान ने क्यों कहा नीतीश कुमार दिल्ली जाएं!

बीजेपी फिलहाल इस बयान के बाद फायदा-नुकसान आंकने में लगी है. जानकारों का मानना है कि संजय पासवान का ये बयान यूं ही नहीं आया है बल्कि ये बयान सहयोगियों पर दबाव बनाने की रणनीति का हिस्सा है. इससे पहले बीजेपी महाराष्ट्र में इस फॉमूले का इस्तेमाल कर रही है.

Anil Rai | News18Hindi
Updated: September 10, 2019, 12:08 PM IST
...आखिर BJP नेता संजय पासवान ने क्यों कहा नीतीश कुमार दिल्ली जाएं!
बीजेपी फिलहाल इस बयान के बाद फायदा-नुकसान आंकने में लगी है. जानकारों का मानना है कि संजय पासवान का ये बयान यूं ही नहीं आया है बल्कि ये बयान सहयोगियों पर दबाव बनाने की रणनीति का हिस्सा है. इससे पहले बीजेपी महाराष्ट्र में इस फॉमूले का इस्तेमाल कर रही है.
Anil Rai
Anil Rai | News18Hindi
Updated: September 10, 2019, 12:08 PM IST
नई दिल्ली. बीजपी नेता संजय पासवान (Sanjay Paswan) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को केंद्र की राजनीति करने की सलाह देकर बिहार की राजनीति (Bihar Politics) में नई बहस शुरू कर दी है. पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान के इस बयान के बाद बीजेपी (BJP) के किसी बड़े नेता ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है लेकिन बिहार में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है. जेडीयू (JDU) इसे लेकर अपने सहयोगी बीजेपी पर हमलावर हो गई है और उसने साफ कर दिया है कि नीतीश दिल्ली नहीं जाएंगे. तो क्या संजय पासवान ने बेवजह ये बयान दे दिया क्योंकि बीजेपी के किसी बड़े नेता ने अब तक इस बयान पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. साफ है बीजेपी फिलहाल इस बयान के बाद फायदा-नुकसान आंकने में लगी है. जानकारों का मानना है कि संजय पासवान का ये बयान यूं ही नहीं आया है बल्कि ये बयान सहयोगियों पर दबाव बनाने की रणनीति का हिस्सा है. इससे पहले बीजेपी महाराष्ट्र में इस फॉमूले का इस्तेमाल कर रही है.

बिहार में लालू-नीतीश युग से बाहर आने की छटपटाहट
बिहार की राजनीति में मंडल कमीशन लागू होने के बाद जय प्रकाश आंदोलन के दो चेहरे नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव के हाथ में ही सत्ता रही, ये अलग बात है कि नीतीश ने जहां कुछ समय के लिए जीतन राम मांझी को सत्ता दी वहीं लालू ने चारा घोटाले में फंसने के बाद अपनी पत्नी राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बिठा दिया. लेकिन सत्ता का रिमोट हमेशा नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव दोनों ने अपने पास ही रखा. लालू के 10 मार्च, 1990 को पहली बार शपथ लेने के बाद बिहार में लालू की सरकार करीब 15 वर्षों तक रही और अब नीतीश कुमार भी अपनी सरकार के 15 साल पूरे कर रहे हैं. साफ है बिहार की राजनीति बीते तीन दशक से सिर्फ इन दो चेहरों के इर्द-गिर्द घूम रही है, ऐसे में सूबे की राजनीति में इन दोनों नेताओं के दायरे से बाहर निकलने की छटपटाहट साफ-साफ देखी जा सकती है.  संजय पासवान ने जो कहा वो पहली बार खुलकर कहा गया है लेकिन केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता गिरिराज सिंह समेत बीजेपी के कई दिग्गज नेता पहले भी कई मौके पर नीतीश कुमार का नेतृत्व स्वीकार करने से इनकार कर चुके हैं.

बीजेपी नेता संजय पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बिहार छोड़कर अब केंद्र की राजनीति करने की सलाह दी है (फाइल फोटो)


आखिर क्यों रहें नंबर 2
बीजेपी के सीमा विस्तार के रास्ते में अब विरोधियों के साथ सहयोगी भी आने लगे हैं, लोकसभा चुनाव में अकेले 303 सीटें जीतने के बाद बीजेपी अपने पुराने सहयोगियों का कितना सम्मान करती है इसका फैसला महाराष्ट्र के चुनाव में हो जाएगा. लेकिन अब तक जो खबरें आ रही हैं उससे साफ है बीजेपी शिवसेना को बड़ा भाई तो बड़ा भाई बराबरी का दर्जा देने के लिए भी तैयार नहीं है. सूत्रों की मानें तो बीजेपी की राज्य इकाई शिवसेना को एक-तिहाई से ज्यादा सीटें नहीं देना चाहती. ये संकेत नीतीश कुमार के लिए ठीक नहीं कहे जा सकते. 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद सुशील मोदी को छोड़कर बीजेपी की बिहार ईकाई का कोई भी नेता अब नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार की राजनीति नहीं करना चाहता और संजय पासवान का बयान उसी का हिस्सा है.

बिहार की सत्ता पर लंबे समय से काबिज नीतीश कुमार को लेकर बिहार बीजेपी के कई नेताओं के सुर अब बदलने लगे हैं (फाइल फोटो)

Loading...

बिहार बीजेपी के कई नेताओं ने नाम न छापने की शर्त पर स्पष्ट कहा कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी को करीब 24 फीसदी जबकि जेडीयू को लगभग 22 प्रतिशत वोट मिला. चुनाव के नतीजों में बीजेपी को 17 और जेडीयू को 16 सीटें मिली यानी वोट शेयर में दो फीसदी ज्यादा और लोकसभा की एक सीट भी ज्यादा मिली. जबकि दोनों पार्टियों ने बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ा था. ऐसे में बीजेपी अब बिहार की राजनीति में नंबर दो क्यों रहे, समय आ गया है कि महाराष्ट्र की राजनीति की तरह बिहार में भी गठबंधन का नेतृत्व बीजेपी के हाथ में हो.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 10, 2019, 12:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...