Bihar Politics: लालू-जगदानंद की मुलाकात, अब तेजस्वी के हाथ में होगी RJD की पूरी कमान!

तेजस्वी यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद चरणबद्ध तरीके से मिलने की बात है. पहले उन्हें कार्यकारी अध्यक्ष बनाया जा सकता है. (फाइल फोटो)

Bihar Politics: आरजेडी प्रदेशाध्यक्ष जगदानंद सिंह ने दिल्ली में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से की मुलाकात. इसके बाद से ही तेजस्वी को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने की चर्चा तेज हो गई है. कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही इसकी घाषणा की जाएगी.

  • Share this:
पटना. बिहार की राजनीति से सोमवार को एक बड़ी खबर सामने आ रही है. राज्य के राजनीतिक गलियारों में आज एक मुलाकात के बाद तेजस्वी यादव के नाम की चर्चा जोरों पर रही. ये मुलाकात आरजेडी के प्रदेशाध्यक्ष जगदानंद सिंह और लालू प्रसाद यादव के बीच थी. जगदानंद सिंह सोमवार को दिल्ली पहुंचे और लालू यादव से मिले. माना जा रहा है कि ये मुलाकात नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के हाथों में आरजेडी की पूरी कमान सौंपने को लेकर थी. जल्द ही इसको लेकर घोषणा भी होने की संभावना है. हालांकि जगदानंद सिंह ने कुछ खुलकर तो नहीं कहा, लेकिन लालू यादव से मुलाकात के बाद जब उनसे तेजस्वी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने की बात पूछी गई तो उन्होंने इशारों-इशारों में कह दिया कि आरजेडी में सभी काम समय पर होगा. अब ये कयास लगाए जा रहे हैं कि आरजेडी ने तेजस्वी को कमान सौंपने की पूरी तैयारी कर ली है, बस घोषणा के लिए सही समय का इंतजार है.

2022 में होने हैं राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव
सूत्रों के अनुसार 2022 में आरजेडी संगठन के चुनाव में तेजस्वी को पार्टी की कमान सौंपने का प्रस्ताव जगदानंद सिंह खुद ला सकते हैं. 2022 नवंबर में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद का चुनाव होना है. गौरतलब है कि बिहार की राजनीति में तेजस्वी को लालू के उत्तराधिकारी के रूप में लाने और चुनाव की कमान सौंपने का भी प्रस्ताब जगदानंद सिंह खुद ही लाए थे.

कार्यकारी अध्यक्ष बन सकते हैं तेजस्वी
जानकारी के मुताबिक तेजस्वी को राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर सीधे कुर्सी पर बैठाने की जगह यह काम चरणबद्ध तरीके से किया जाएगा. पहले तेजस्वी को कार्यकारी अध्यक्ष बनाया जा सकता है. उसके बाद 2022 में राष्ट्रीय अध्यक्ष की कमान दी जाएगी. तैयारी इस बात की है कि कोरोना की स्थिति थोड़ी बेहतर हो तो लालू प्रसाद यादव पटना पहुचेंगे और यही घोषणा होगी. माना जा रहा है कि लालू ने जगदानंद सिंह का इस्तीफा इसलिए टाला क्योंकि वे चाहते हैं कि तेजस्वी को जगदानंद सिंह का पूरा साथ मिले.

तेजप्रताप से नाराजगी की कोई बात नहीं
तेजप्रताप के साथ नाराजगी और संबंधों पर जगदानंद सिंह खुलकर बोले. उन्होंने कहा कि तेजप्रताप बहुत अनुशासित व्यक्ति हैं. उसने कहा चाचा नाराज हैं, लेकिन नाराजगी की कोई वजह नहीं है. ऐसा कुछ तो है नहीं. उन्होंने कहा कि जब तेजप्रताप का जन्म हुआ था तो मैं लालू परिवार में पहली बार गया था. तेजप्रताप खुद कहते हैं कि कल तेजस्वी महाभारत का सेनापति होगा, फिर नाराजगी की कोई बात नहीं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.