होम /न्यूज /बिहार /

Bihar Politics: राजद के साथ जाने पर बोले नीतीश- समाज में विवाद पैदा करने की कोशिश हो रही थी

Bihar Politics: राजद के साथ जाने पर बोले नीतीश- समाज में विवाद पैदा करने की कोशिश हो रही थी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी से नाता तोड़ का महागठबंधन का दामन थाम लिया है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी से नाता तोड़ का महागठबंधन का दामन थाम लिया है.

Bihar- Politics: नीतीश कुमार ने आरसीपी सिंह का बिना नाम लेते हुए कहा कि जिसको हमने आगे बढ़ाने का काम किया वह कहीं दूसरे जगह जाकर ट्रेनिंग ले रहे थे. ऐसे में विधायकों की राय थी कि अब बीजेपी से अलग हुआ जाये. वहीं उन्होंने राजद के साथ जाने पर नीतीश कुमार ने कहा कि समाज में विवाद पैदा करने की कोशिश हो रही थी. इसलिए अब हमलोगों ने बीजेपी से अलग होने का फैसला लिया.

अधिक पढ़ें ...

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी से नाता तोड़ का महागठबंधन का दामन थाम लिया है. अब नीतीश कुमार जल्द ही बिहार में महागठबंधन की सरकार बनाएंगे. वहीं इससे पहले राज्यपाल को सभी विधायकों का समर्थन पत्र सौंपने के बाद सीएम नीतीश कुमार ने मीडिया को संबोधित करते हुये इस्तीफे की वजह भी बताई. इस दौरान उन्होंने कहा कि जेडीयू के सभी सांसदों और विधायकों राय थी कि एनडीए से अलग हो जाया जाए. सीएम नीतीश कुमार ने इस दौरान जेडीयू से हाल में अलग हुए आरसीपी सिंह को पर बड़ा निशाना साधा है.

उन्होंने बिना बिना आरसीपी सिंह का नाम लेते हुए कहा कि जिसको हमने आगे बढ़ाने का काम किया वह कहीं दूसरे जगह जाकर ट्रेनिंग ले रहे थे. ऐसे में विधायकों की राय थी कि अब बीजेपी से अलग हुआ जाये. वहीं उन्होंने राजद के साथ जाने पर नीतीश कुमार ने कहा कि समाज में विवाद पैदा करने की कोशिश हो रही थी. इसलिए अब हमलोगों ने बीजेपी से अलग होने का फैसला लिया. नीतीश कुमार ने कहा कि यह सिर्फ मेरा नहीं बल्कि पूरी पार्टी का फैसला है.

सीएम नीतीश कुमार ने 164 विधायकों का समर्थन पत्र राज्यपाल को सौंप दिया है. हालांकि राज्यपाल से फिलहाल उन्हें शपथ ग्रहण के समय नहीं दिया गया है. वहीं तेजस्वी यादव ने कहा- बिहार में बीजेपी के साथ कोई नहीं है. नीतीश कुमार के नेतृत्व में बीजेपी को छोड़कर सभी पार्टियां एक साथ राज्य के विकास के लिए काम करेगी. वहीं इस दौरान तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार नरेंद्र मोदी को चुनौती दे सकते हैं.

बता दें, जिस तरह से जदयू ने अपने विधायकों और सांसदों को आनन-फानन में पटना बुलाया था वैसे मैं इस बात से भी इनकार नहीं किया जा रहा था कि नीतीश कुमार कोई महत्वपूर्ण और चौंकाने वाला फैसला ले सकते हैं और आखिरकार हुआ भी वैसा ही. बता दें, मंगलवार को जब जेडीयू ने बीजेपी से गठबंधन तोड़ने का निर्णय लिया तो लोग हैरान रह गये. इसके पीछे की जो वजह सामने आई वह यह रही कि पार्टी के विधायक और सांसदों ने एक सुर से नीतीश कुमार से यह मांग की और कहा कि अब बिहार में जेडीयू को बीजेपी से अलग हो जाना चाहिए.

Tags: Bihar politics, CM Nitish Kumar

अगली ख़बर