• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • बिहार: हिंदू धार्मिक स्थल होंगे अतिक्रमण मुक्त, नीतीश सरकार में BJP कोटे के मंत्री का ऐलान

बिहार: हिंदू धार्मिक स्थल होंगे अतिक्रमण मुक्त, नीतीश सरकार में BJP कोटे के मंत्री का ऐलान

बिहार के कानून मंत्री प्रमोद कुमार ने ऐलान कर दिया है कि अब हिन्दू धार्मिक स्थलों पर अवैध कब्जा नहीं चलेगा.

बिहार के कानून मंत्री प्रमोद कुमार ने ऐलान कर दिया है कि अब हिन्दू धार्मिक स्थलों पर अवैध कब्जा नहीं चलेगा.

Bihar News: बिहार के 4500 रजिस्टर्ड मठ मंदिर में से 80 फीसदी पर अवैध कब्जा है. बीजेपी अब अपने पुराने एजेंडे पर आगे बढ़ रही है. सरकार में बीजेपी के मंत्री जिस तौर तरीके से काम कर रहे हैं, उसे देखकर ऐसा लगता है कि केंद्रीय नेतृत्व का एजेंडा बिहार में उनकी प्राथमिकता है. 

  • Share this:

पटना. बिहार में अब हिन्दू धार्मिक स्थलों को अतिक्रमण मुक्त कराया जाएगा. इसका बीड़ा नीतीश सरकार में शामिल बीजेपी ने उठाया है. बीजेपी कोटे से सरकार में शामिल कानून मंत्री प्रमोद कुमार ने ऐलान कर दिया है कि अब हिन्दू धार्मिक स्थलों पर अवैध कब्जा नहीं चलेगा. बिहार में 4500 हजार से ज्यादा हिंदू धर्म से जुड़े धर्म स्थल यानी मंदिर और मठ धार्मिक न्यास बोर्ड से सम्बद्ध हैं. इन धार्मिक स्थलों की अपनी संपत्ति भी है. कई मंदिरों और मठों की संपत्ति पर अवैध तरीक़े से लोगों ने कब्जा कर रखा है. अब सरकार ने इस अतिक्रमण को खत्म कराने का फैसला किया है.

बीते विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने जेडीयू से बेहतर प्रदर्शन किया. भले ही नेतृत्व नीतीश कुमार के हाथ में हो लेकिन में बीजेपी अब अपने पुराने एजेंडे पर आगे बढ़ रही है. सरकार में बीजेपी के मंत्री जिस तौर तरीके से काम कर रहे हैं उसे देखकर ऐसा लगता है कि केंद्रीय नेतृत्व का एजेंडा बिहार में उनकी प्राथमिकता है. यही वजह है कि बीजेपी कोटे के मंत्री प्रमोद कुमार ने अब राज्य के अंदर मंदिरों और मठों पर अवैध कब्जे के खिलाफ मुहिम छेड़ने का ऐलान कर दिया है. इसके लिए धार्मिक न्यास बोर्ड को भी साथ लिया गया है. बिहार के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक गया के विष्णुपद मंदिर की संपत्ति पर भी अवैध कब्जा है. इतना ही नहीं राम जानकी मंदिर समस्त मिथिला और चंपारण के कई बड़े मंदिरों की संपत्ति पर अवैध कब्जा है. अब इसी कब्जे को खत्म करने के लिए सरकार ने कमर कस ली है.

धार्मिक न्यास बोर्ड के अध्यक्ष अखिलेश जैन का कहना है कि लगभग 80% बिहार के मंदिर और मठ ऐसे हैं जिन पर कब्जा है और इसलिए पहले उन मंदिरों और मठों के जमीन संबंधी कागजात को इकट्ठा किया जा रहा है और इसके लिए सरकार ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित भी कर दिया है. पहले भी धार्मिक न्यास बोर्ड ने सरकार को पत्र लिखा था और अब अधिकारियों के साथ प्रमंडलीय बैठक कर इसके लिए पहल की जा रही है.

बिहार में धार्मिक न्यास बोर्ड के गठन के साथ नीतीश कुमार ने मंदिरों और मठों में माफिया की सक्रियता को खत्म करने के लिए जो पहल की थी, उसी को अब बीजेपी दूसरे तौर तरीके से आगे बढ़ाने जा रही है. बीजेपी का मकसद साफ है कि राज्य के मंदिरों और मठों से अगर अवैध कब्जा धारी हटते हैं तो राज्य के हर कोने में नया जन जागरण होगा. फैसला भले ही अभी लिया जा रहा हो लेकिन नजरें आगामी लोकसभा चुनाव और उसके बाद 2025 के विधानसभा चुनाव पर हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज