Bihar STET Result: अभ्यर्थियों के भविष्य पर फिर फंस गया यह पेंच, 29 जून को सामने आएगी कमिटी की रिपोर्ट

एसटीईटी रिजल्ट पर बिहार बोर्ड के पास प्रदर्शन करते छात्र.

Bihar STET News: 29 जून को कमिटी की रिपोर्ट शिक्षा विभाग को मिल जाएगी और उसके आधार पर न्यूनतम अंक से अधिक अंक पानेवाले सभी अभ्यर्थियों को बहाली का मौका दिया जाएगा.

  • Share this:
पटना. बिहार में शिक्षक पात्रता परीक्षा परिणाम यानी एसटीईटी रिजल्ट जारी होने के बाद एक बार फिर से बिहार बोर्ड सवालों के घेरे में है तो अभ्यर्थियों का आंदोलन अब भी जारी है. कुल 15 विषयों का रिजल्ट जारी होने के बाद मेरिट लिस्ट के पेंच में अभ्यर्थियों का भविष्य फंस गया है, वहीं महिला अभ्यर्थी भी रिजल्ट में धांधली का आरोप लगा रही हैं. दरअसल महिला अभ्यर्थियों का आरोप है कि परीक्षा से पहले बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने कहा था कि टीईटी, एसटीईटी में सभी कैटगरी की महिला अभ्यर्थियों को 45 प्रतिशत अंक लाने पर क्वालीफाई किया जाएगा. लेकिन, रिजल्ट आने के बाद जनरल कटेगरी की महिला अभ्यर्थी ठगा महसूस कर रही हैं क्योंकि जनरल कटेगरी की महिला अभ्यर्थियों को 50 प्रतिशत पर क्वालीफाई किया गया है. इससे हजारों अभ्यर्थी मेरिट लिस्ट से बाहर हो गई हैं.

हैरानी की बात तो ये है कि इससे पहले आयोजित हुई एसटीईटी और टीईटी परीक्षा में महिला अभ्यर्थियों को 5 प्रतिशत का छूट दिया गया था जबकि 2019 की परीक्षा में इसका लाभ नहीं मिला. हालांकि शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने ये भरोसा जरूर दिया है कि सभी एसटीइटी उतीर्ण अभ्यर्थियों की बहाली होगी. लेकिन, जो अभ्यर्थी मेरिट लिस्ट से बाहर हैं उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि अब बहाली कैसे होगी.

इधर बीएसइबी यह जानकारी भी नहीं दे रहा है कि एसटीइटी पास कितने स्टूडेंट विषयवार मेरिट लिस्ट में नहीं आये हैं. जाहिर है ऐसे में अभ्यर्थियों के बीच असमंजस की स्थिति बनी हुई है. इधर अभ्यर्थियों का आरोप यह भी है कि जब नियोजन इकाई मेरिट लिस्ट जारी करती है तो बिहार बोर्ड ने मेरिट लिस्ट कैसे और किस नियमों के आधार पर जारी कर दिया, क्योंकि रिजल्ट जारी होने के बाद मेरिट लिस्ट जारी करने का काम नियोजन इकाई का होता है. अब सातवें चरण की बहाली में लगभग 37 हजार 400 पदों पर बहाली होनी है इससे पहले मेरिट लिस्ट से बाहर हुए अभ्यर्थी अब परेशान हैं.

बता दें की 15 विषयों में मेरिट लिस्ट में कुल 30675 अभ्यर्थी हैं, वहीं मेरिट लिस्ट के आधार पर 6772 सीटें कम रह गई हैं. यह इसलिए कि सभी एसटीइटी उतीर्ण अभ्यर्थियों को मौका नहीं दिया गया. इधर लगातार अभ्यर्थियों के हंगामे और आंदोलन के बाद शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने आनन फानन में चार सदस्यीय कमिटी बना दी है. यह कमिटी विज्ञापन से लेकर मेरिट लिस्ट तक की जांच में जुटी है.

शिक्षा विभाग की मानें तो मंगलवार यानि 29 जून को कमिटी की रिपोर्ट शिक्षा विभाग को मिल जाएगी और उसके आधार पर सभी न्यूनतम अंक से अधिक अंक पानेवालों को बहाली का मौका दिया जाएगा. अब 29 जून तक अभ्यर्थियों को इंतजार करना होगा कि आखिर मेरिट लिस्ट से बाहर हुए कितने अभ्यर्थियों को लिस्ट में शामिल किया जाता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.