Home /News /bihar /

लोकसभा में फिर चर्चा में क्यों आया बिहटा एयरपोर्ट निर्माण का मुद्दा? जानें कहां फंसा है पेच

लोकसभा में फिर चर्चा में क्यों आया बिहटा एयरपोर्ट निर्माण का मुद्दा? जानें कहां फंसा है पेच

बिहटा में एयपोर्ट निर्माण में हो रहे विलंब पर सांसद रामकृपाल यादव ने लोकसभा के शून्यकाल में मुद्दा उठाया.

बिहटा में एयपोर्ट निर्माण में हो रहे विलंब पर सांसद रामकृपाल यादव ने लोकसभा के शून्यकाल में मुद्दा उठाया.

Bihta Airport News: राम कृपाल यादव ने लोकसभा के शून्यकाल में कहा कि बिहटा में एक अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के निर्माण की सभी वांछित अहर्ताएं उपलब्ध हैं. इसके साथ ही बिहटा एयरपोर्ट से आरा, बक्सर, सारण, सिवान, गोपालगंज, अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद, रोहतास, नालंदा सहित अन्य जिलों को एयरपोर्ट की सरल, सुगम एवं तेज संपर्कता प्राप्त होगी. सांसद ने कहा कि लोकसभा में विगत दिनों मैंने बिहटा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का नाम महान किसान नेता और स्वतंत्रता सेनानी स्वामी सहजानंद सरस्वती जी के नाम पर करने हेतु अनुरोध किया था. आज फिर सदन में आग्रह किया कि एयरपोर्ट का नाम स्वामी जी के नाम पर किया जाए. आशा है, अब जल्द ही इस विषय पर उचित कदम उठाया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...

पटना/दिल्ली. बिहार के पाटलिपुत्र संसदीय क्षेत्र के सांसद रामकृपाल यादव ने एक बार फिर बिहटा एयरपोर्ट का मुद्दा लोकसभा में उठाया. शून्यकाल में उन्होंने बिहटा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के निर्माण की प्रक्रिया जल्द शुरू करने की मांग को लेकर वास्तविक स्थिति जाननी चाही. उन्होंने बिहटा एयरपोर्ट का नाम स्वामी सहजानंद सरस्वती के नाम पर करने की भी मांग की और कहा कि  स्वामीजी को यह सच्ची श्रद्धांजलि होगी. सांसद ने कहा कि पाटलिपुत्र संसदी क्षेत्र के अंतर्गत बिहटा में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट निर्माण की स्वीकृति भारत सरकार द्वारा काफी दिन पूर्व दी जा चुकी है, एवं बिहार सरकार द्वारा जमीन का अधिग्रहण कर एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया को भी सौंप दी गयी, लेकिन अभी तक निर्माण की प्रक्रिया शुरू नहीं हुई.

राम कृपाल यादव ने कहा कि बिहटा में एक अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के निर्माण की सभी वांछित अहर्ताएं उपलब्ध हैं. इसके साथ ही बिहटा एयरपोर्ट से आरा, बक्सर, सारण, सीवान, गोपालगंज, अरवल, जहानाबाद, औरंगाबाद, रोहतास, नालंदा सहित अन्य जिलों को एयरपोर्ट की सरल, सुगम एवं तेज संपर्कता प्राप्त होगी. सांसद ने कहा कि लोकसभा में विगत दिनों मैंने बिहटा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का नाम महान किसान नेता और स्वतंत्रता सेनानी स्वामी सहजानंद सरस्वती जी के नाम पर करने हेतु अनुरोध किया था. आज फिर सदन में आग्रह किया कि एयरपोर्ट का नाम स्वामी जी के नाम पर किया जाए. आशा है, अब जल्द ही इस विषय पर उचित कदम उठाया जाएगा.

बता दें कि केंद्र सरकार ने बिहटा एयरफोर्स एयरपोर्ट से आम लोगों (सिविल एयरपोर्ट) के लिए विमान सेवा शुरू करने की सहमति दे दी थी. सिविल एयरपोर्ट को विकसित करने के लिए पटना जिला प्रशासन वहां 126 एकड़ जमीन अधिगृहीत कर रहा है, जो अंतिम चरण में है. इसी वित्तीय वर्ष में भवनों का निर्माण शुरू होने की संभावना है. इसमें 108 एकड़ जमीन एयरपोर्ट अथॉरिटी को दी जानी है और 18 एकड़ में राज्य सरकार स्टेट हैंगर बनाएगी. फिलहाल वहां 8200 फीट लंबा रनवे है, जिसे बड़े हवाई जहाजों को उतारने के लिए 12000 फीट करने की योजना है.

हालांकि, बीच में बिहटा एयरपोर्ट (Airport in Bihta) को सारण शिफ्ट किए जाने की खबर भी सामने आई थी. इसके लिए बिहटा में जमीन की कमी की बात एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की स्टडी कमेटी (Study Committee of Airport Authority of India) ने कही थी. हालांकि इस पर अभी कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया. दरअसल जमीन की कमी के कारण बिहटा एयरपोर्ट पर रनवे विस्तार में भी परेशानी आ रही है.

यहां यह भी जानकारी दे दें कि 10 मार्च 2021 को राज्यसभा में सुशील मोदी के सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने भी रनवे बढ़ाने के लिए 191 एकड़ जमीन की मांग की थी. नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया था कि बिहटा में सिविल एन्क्लेव निर्माण हेतु हवाई अडडे की मौजूदा रनवे की लम्बाई को अन्तरराष्ट्रीय स्तर का करने के लिए 8,200 फीट से बढ़ा कर 12,000 फीट करने की जरूरत है, ताकि यहां B-777 और B-787 जैसे बड़े आकार के विमान व अन्तरराष्ट्रीय परिचालन के साथ-साथ कार्गो की वृद्धि हो सके. बिहटा में अभी जो रनवे की लम्बाई है, उससे ए-320 और ए-321 टाइप के छोटे विमानों का परिचालन ही संभव है.

तब हरदीप पुरी ने यह भी कहा था कि पटना हवाई अड्डा का रनवे छोटा होने के कारण ही भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) और भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के संयुक्त उपयोग हेतु बिहटा में 937 करोड़ की लागत से बड़े आकार के विमानों के परिचालन के लिए सिविल एन्क्लेव का निर्माण प्रस्तावित है. बिहटा हवाई अड्डे के विकास व विस्तार के लिए बिहार सरकार ने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को अब तक 108 एकड़ भूमि मुफ्त में दी है. अन्तरराष्ट्रीय स्तर के रनवे का विस्तार ताकि बड़े आकार के विमानों का परिचालन संभव हो सके, के लिए बिहार सरकार से 191.5 एकड़ जमीन की मांग की गई है ताकि रनवे की लम्बाई को बढ़ाकर 12,000 फीट किया जा सके.

Tags: Bihar News, Loksabha, Patna News Update

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर