बिहार चुनाव के लिए BJP का नया फॉर्मूला, अब पंचायत के वॉर्ड काउंसलरों के सहारे हासिल करेगी 'जीत'
Patna News in Hindi

बिहार चुनाव के लिए BJP का नया फॉर्मूला, अब पंचायत के वॉर्ड काउंसलरों के सहारे हासिल करेगी 'जीत'
पंचायती राज प्रकोष्ठ कार्यकारिणी की बैठक में कार्यकर्ताओं से कहा गया कि वे काउंसलरों को एनडीए के पक्ष में करें. (सांकेतिक तस्वीर)

डिप्टी सीएम सुशील मोदी(Deputy CM Sushil Modi) , नित्यानंद राय और संजय जायसवाल ने पंचायती राज प्रकोष्ठ कार्यकारिणी के सदस्यों को यह टास्क दिया कि वे वॉर्ड काउंसलर और उनसे हारे हुए प्रत्याशियों को एनडीए के पक्ष में करें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2020, 10:22 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) 2020 में हर राजनीतिक दल (Political party) अपने-अपने स्तर से लोगों पर डोरे डाल रहा है. भारतीय जनता पार्टी अब पंचायत के वॉर्ड जनप्रतिनिधियों (Ward counselor) पर डोरे डाल रही है. बिहार में 114000 वॉर्ड हैं. बीजेपी (BJP) पंचायती राज प्रकोष्ठ कार्यकारिणी की बैठक में बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी (Deputy CM Sushil Modi), गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय (Minister of State for Home Nityananda Rai), प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल (State President Sanjay Jaiswal) वर्चुअल रूप से शामिल हुए और उन्होंने प्रकोष्ठ के सदस्यों को यह टास्क दिया कि वे पूरे बिहार के वॉर्ड काउंसलर और उनसे हारे हुए प्रत्याशियों को एनडीए के पक्ष में करें.

23 साल बाद एनडीए ने पंचायती राज को मजबूत किया

भाजपा पंचायती राज प्रकोष्ठ की प्रदेश कार्यसमिति के वर्चुअल सम्मेलन में उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राजद-कांग्रेस की सरकार ने 23 साल तक बिहार में पंचायतों का चुनाव नहीं कराया. 23 साल बाद 2003 में चुनाव कराया तो एकल पदों पर दलितों, पिछड़ों और महिलाओं को आरक्षण से वंचित कर उनकी हकमारी की. एनडीए की सरकार आने के बाद इन्हें आरक्षण दिया गया, नतीजतन आज हजारों की संख्या में पिछड़ा, अतिपिछ़ड़ा और महिलाएं एकल पदों पर चुनाव जीत कर आ रही हैं. मोदी ने कहा कि बिहार देश का पहला राज्य है जिसने मुखिया और राज्य के 1 लाख 14 हजार वॉर्ड सदस्यों ने नल-जल व नली-गली जैसी जनकल्याणकारी योजनाओं को सफलतापूर्वक लागू किया है.



पंचायती व्यवस्था ने महिलाओं को कियाया मजबूत
कार्यसमिति की बैठक के उद्धघाटन सत्र भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने पंचायती राज व्यवस्था को सत्तातंत्र की धुरी बताते हुए कहा कि यह विकेंद्रीकरण की बुनियाद है और हमारे कार्यकर्ताओं को इसे मजबूत करने में जुट जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि ‘एनडीए सरकार ने प्रशासन के विकेंद्रीकरण के लिए बिहार में पंचायती राज में अनुसूचित जाति, जनजाति और महिलाओं के लिए आरक्षण की व्यवस्था की. बिहार में ग्राम-कचहरी की व्यवस्था की गई है. आज बिहार ने महिला आरक्षण के जरिए न सिर्फ पंचायतों को बल्कि महिलाओं को भी सशक्तीकृत किया है. जिस राज्य में पहले महिलाओं को कुछ बोलने की आजादी नहीं थी, वे आज पूरे पंचायत के फैसले ले रही हैं, निर्णय कर रही हैं, विकास की योजनाएं बना रही हैं.

5-5 पंचायतों में जाएं बीजेपी वर्कर

संजय जायसवाल ने कहा कि बीजेपी कार्यकर्ता 5-5 पंचायत का भ्रमण कर उनके प्रतिनिधि से मिलें चाहे वे हारे हों जीते. उनको अपनी विचारधारा से जोड़ें, NDA सरकार द्वारा पंचायतों के विकास के लिए किए जाने वाले कार्यों और जन भागीदारी के लिए प्रेरित करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading