RSS की जासूसी वाले सरकारी लेटर को बीजेपी के मंत्री ने ही बता दिया 'फर्जी'

बीते 30 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ लेने के दो दिन पहले बिहार सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) सहित विभिन्न संगठनों की आंतरिक जांच कराने को लेकर एक खुफिया पत्र जारी किया गया था.

News18 Bihar
Updated: July 18, 2019, 3:10 PM IST
RSS की जासूसी वाले सरकारी लेटर को बीजेपी के मंत्री ने ही बता दिया 'फर्जी'
(RSS) पर विशेष शाखा द्वारा जांच करवाने की बात पर बिहार के गृह विभाग ने ADG विशेष शाखा से स्पष्टीकरण मांगा है बिहार सरकार के मंत्री विनोद कुमार सिंह की फाइल फोटो
News18 Bihar
Updated: July 18, 2019, 3:10 PM IST
बिहार में एक अति गोपनीय सरकारी खत के सार्वजनिकको लेकर सियासत लगातारी जारी है. RSS समेत कई हिन्दू संगठनों की जांच वाले सरकारी खत के मामले में उस वक्त नया मोड़ आ गया जब नीतीश कैबिनेट के मंत्री और बीजेपी के विधायक विनोद सिंह ने ही इसे फर्जी करार दे दिया.

गुरुवार को विनोद सिंह ने कहा कि जिस खत को लेकर इतना हंगामा मच रहा है, वह खत ही फर्ज़ी है. उन्होंने कहा कि यह लेटर फ़ेसबुक लेटर है और इसमें कोई सच्चाई नहीं है. विनोद सिंह के मुताबिक, यह गोपनीय लेटर कैसे लीक हुआ सरकार इस मामले की जांच करवा रही है. विनोद सिंह के इस बयान के बाद बीजेपी की पॉलिसी पर ही सवाल खड़े होने लगे हैं, क्योंकि बीजेपी के नेता इसी लेटर के बहाने सीएम नीतीश कुमार से लगातार सवाल पूछ रहे हैं.

बिहार विशेष शाखा ने जारी की थी चिट्ठी
बता दें कि बीते 30 मई को  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ लेने के दो दिन पहले बिहार सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) सहित विभिन्न संगठनों की आंतरिक जांच कराने को लेकर एक खुफिया पत्र जारी किया गया था. खुफिया विभाग के इस पत्र में बिहार पुलिस की स्पेशल ब्रांच के सभी अधिकारियों से आरएसएस, बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद समेत विभिन्न संगठनों के नेताओं के नाम, पता, पद और व्यवसाय की जानकारी देने को कहा गया था.

एक सप्ताह के अंदर मांगा था जवाब
इस पत्र में प्रदेश के आरएसएस पदाधिकारियों और 17 सहायक संगठनों की विस्तृत जानकारी निकालने के आदेश दिए गए थे. साथ ही इस पर एक सप्ताह के अंदर जवाब देने को कहा गया था. इस अतिगोपनीय लेटर की कॉपी बिहार पुलिस के स्पेशल ब्रांच के एडीजी, आईजी और डीआईजी को भी भेजी गई थी.

Loading...







इस मसले पर बीजेपी भी अब नीतीश सरकार पर हमलावर है. बीजेपी नेता और बिहार विधानपरिषद के सदस्य संजय मयूख ने सदन में सवाल उठाते हुए कहा कि आरएसएस देश की सबसे विश्वसनीय संस्था है और इस संस्था के बारे में खुफिया जांच की बात चौंकाने वाली है. सरकार इस पत्र की सत्यता पर जवाब दे. अगर पत्र सही है तो यह ठीक नहीं है.

इनपुट- आनंद अमृतराज

ये भी पढ़ें- RSS जांच मामले पर हड़कंप, गृह विभाग ने मांगा स्पष्टीकरण- बिना जानकारी कैसे जारी हुआ पत्र?

ये भी पढ़ें- PM मोदी के शपथ ग्रहण से पहले नीतीश सरकार ने RSS के बारे में मांगी थी खुफिया जानकारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 18, 2019, 2:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...