Bihar Assembly Election: पटना की बांकीपुर सीट पर सुषमा साहू ने बढ़ा दी नितिन नवीन की मुश्किलें
Patna News in Hindi

Bihar Assembly Election: पटना की बांकीपुर सीट पर सुषमा साहू ने बढ़ा दी नितिन नवीन की मुश्किलें
सुषमा साहू के साथ नितिन नवीन की फोटो

Bihar Assembly Election: राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य सुषमा साहू वैश्य बिरादरी से आती हैं जबकि नितिन नवीन कायस्थ बिरादरी से, ऐसे में दोनों नेताओं के अपने-अपने दावे और तर्क हैं.

  • Share this:
पटना. बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) का बिगुल बज चुका है और अब इंतजार मात्र तारीखों के ऐलान का है. इस कड़ी में जहां सभी सीटिंग एमएलए अपने विरोधियों के लिए रणनीति बना रहे हैं तो कई ऐसे भी हैं जिनको अपने ही दल के लोगों से टक्कर मिल रही है. ऐसी ही एक सीट है पटना का बांकीपुर विधानसभा. पटना शहर की ये सीट बीजेपी (BJP) के कोटे से है और इसपर नितिन नवीन (MLA Nitin Naveen) पिछली कई बार से जीत दर्ज करते आ रहे है लेकिन इस बार बांकीपुर सीट पर उनकी अपने ही पार्टी की महिला नेत्री से टक्कर है.

दरअसल राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व सदस्य और बीजेपी महिला मोर्चा की पूर्व अध्यक्ष सुषमा साहू ने भी बांकीपुर सीट से अपनी दावेदारी ठोक दी है और यही कारण है कि इस बार नितिन नवीन की बांकीपुर सीट पर पेंच फंसता नजर आ रहा है. सुषमा साहू ने इस सीट से न केवल दावा ठोंका है बल्कि लगातार जन संपर्क भी कर रही हैं. बीजेपी विधायक नितिन नवीन से जब इस बाबत बाते की गई तो इनका कहना था कि पार्टी में हजारों कार्यकर्ता होते है और पार्टी पर सबका अधिकार होता है चाहे वो दीदी हों या भैया.

नितिन ने बताया कि जो भी पार्टी के लिए काम करते है उनकी भी इच्छा होती है चुनाव लड़ने की और ये जायज भी है लेकिन टिकट का फैसला आलाकमान को करना होता है तो सबको मेरी शुभकामना है.
बांकीपुर से ही अपनी दावेदारी जताने वाली और राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व सदस्य सुषमा साहू ने कबा का कि हर कार्यकर्ता का हक होता है. पटना में एक उमीदवार का ही नाम जाता है. पटना में क्या सिर्फ कार्यकर्ता ही रहेंगे और महिला कार्यकर्ता सिर्फ पार्टी कार्यालय में आने जाने के लिए ही रहेंगी.
सुषमा ने कहा कि पार्टी की नेता सुषमा स्वराज ने 33 प्रतिशत आरक्षण की बात की थी और जब महिलाएं मतदान में बढ़ चढ़ कर शामिल होती हैं तो फिर उनके उमीदवारी पर चर्चा क्यों नहीं होती है. राष्ट्रीय महिला आयोग की पूर्व सदस्य ने अपनी उमीदवारी को पार्टी के खिलाफ लड़ाई नहीं बताया बल्कि यह कहा कि बीजेपी लोकतांत्रिक पार्टी है और लोकतंत्र में सबको अपनी बात रखने का हक है.



अब जबकि बांकीपुर से सुषमा साहू ने अपनी उमीदवारी दी है और पार्टी के खिलाफ पटना से सिर्फ एक ही नाम पर चर्चा करने का आरोप लगाया है वैसे में पार्टी को निश्चित ही उमीदवार को चुनने में कठिनाई होगी और निश्चित ही बांकीपुर सीट पर घमासान की स्थिति बन जाएगी.

रिेपोर्ट- धर्मेंद्र कुमार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज