RSS पर चिट्ठी से सियासी तूफान, BJP ने उठाए नैतिकता पर सवाल, कांग्रेस बोली- बिहार में लग सकता है राष्ट्रपति शासन

BJP सांसद राकेश सिन्हा ने कहा कि बिहार सरकार का RSS से जुड़े लोगों के बारे में जानकारी जुटाने का आदेश नैतिक रूप से गलत था. वहीं, जेडीयू ने चुप्‍पी साधी ली है.

News18 Bihar
Updated: July 17, 2019, 2:09 PM IST
RSS पर चिट्ठी से सियासी तूफान, BJP ने उठाए नैतिकता पर सवाल, कांग्रेस बोली- बिहार में लग सकता है राष्ट्रपति शासन
बीजेपी सांसद राकेश सिन्हा ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नैतिकता पर सवाल उठाए (फाइल फोटो)
News18 Bihar
Updated: July 17, 2019, 2:09 PM IST
28 मई को जारी एक चिट्ठी ने बिहार में सियासी तूफान खड़ा कर दिया है. इसमें आरएसएस और उसके अन्य संगठनों से जुड़े नेताओं की गतिविधियों का ब्योरा देने का निर्देश दिया गया था. मोदी सरकार-2 के शपथ ग्रहण से दो दिन पहले 28 मई को जारी इस चिट्ठी में 'अति आवश्यक' शब्द का इस्तेमाल किया गया था. वहीं, इसमें डेडलाइन 3 जून का दिया गया था. जाहिर है इस चिट्ठी के सामने आने से बीजेपी के नेता नीतीश कुमार की नैतिकता पर ही सवाल खड़े कर रहे हैं.

BJP सांसद ने नैतिकता पर उठाए सवाल
बीजेपी सांसद और आरएसएस से जुड़े रहे राकेश सिन्हा ने कहा है कि बिहार सरकार के आरएसएस से जुड़े लोगों के बारे में जानकारी जुटाने का आदेश नैतिक रूप से गलत था. वहीं, बीजेपी के MLC सच्चिदानंद राय ने कहा कि जिस दिन चुनाव खत्म हुए उस दिन से ही नीतीश कुमार की मंशा साफ है.

BJP नेताओं की शीर्ष नेतृत्व से गुहार

सच्चिदानंद राय ने कहा कि 19 मई को चुनाव खत्म होने के साथ ही जेडीयू ने अनच्‍छेद-370, 35ए और राम मंदिर जैसे मुद्दों पर जेडीयू का स्टैंड स्‍पष्‍ट करते हुए यह बता दिया था कि आने वाले समय में यह सहयोगी पार्टी मुश्किल खड़ी करेगी. ऐसे में यह न तो गठबंधन के लिए सही है और न ही बिहार के लिए. मुझे उम्मीद है कि शीर्ष नेतृत्व इसपर जरूर संज्ञान लेगा.

BJP बोली-कुछ काम कर लीजिए नीतीश जी
बीजेपी युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संतोष रंजन राय ने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. उन्होंने अपने ट्वीट किया, 'कहां घिनौनी राजनीति में लगे पड़े हैं माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी...समाज की सेवा में लगे संघ एवं संघ के अंगों की जांच करवा कर क्या मिलेगा? बिहार बाढ़, अपराध और बेरोज़गारी की चपेट में है उसका संज्ञान लीजिए...कुछ काम कीजिए. आपके पास नया आइडिया ख़त्म हो गया है.'
Loading...




JDU ने पूरे मामले पर साधी चुप्पी
बहरहाल, बीजेपी के नेताओं द्वारा नीतीश कुमार को कठघरे में खड़ा करने के बीच जेडीयू ने इस मामले में चुप्पी साध ली है. बिहार प्रदेश जेडीयू अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं, मैं इस बारे में कुछ नहीं बता सकता.

कांग्रेस ने सीएम नीतीश को दिया धन्यवाद
कांग्रेस ने नीतीश सरकार के फैसले की सराहना की है. पार्टी के प्रवक्ता प्रेमचंद मिश्र ने कहा कि इस खुलासे के बाद भी अगर बीजेपी-जेडीयू की सरकार बनी रहती है तो ऐसा माना जाएगा कि यह सुशील मोदी की शह पर हो रहा है. आशंका है कि इस खुलासे के बाद बिहार में राष्ट्रपति शासन लगे, लेकिन आरएसएस की गतिविधि की जांच के फैसले को लेकर हम सीएम को धन्यवाद देते हैं.

नेटवर्क इनपुट

ये भी पढ़ें-


PM मोदी के शपथ ग्रहण से पहले नीतीश सरकार ने RSS के बारे में मांगी थी खुफिया जानकारी




इन कारणों से केंद्र की मोदी मंत्रिमंडल में शामिल हो सकता है JDU, पढ़ें पूरी खबर

क्या विपक्ष के नेता के तौर पर फेल हो गए हैं तेजस्वी?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 1:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...