होम /न्यूज /बिहार /बिहार के 99 पुलिस स्टेशन और OP 'लापता'! BJP विधायक ने विधानसभा में सरकार से पूछा सवाल

बिहार के 99 पुलिस स्टेशन और OP 'लापता'! BJP विधायक ने विधानसभा में सरकार से पूछा सवाल

बीजेपी के विधायक पवन जायसवाल ने विधानसभा में सरकार से लापता हुए बिहार के लापता 99 थाना और ओपी के संबंध में जानकारी लेनी चाही (फाइल फोटो)

बीजेपी के विधायक पवन जायसवाल ने विधानसभा में सरकार से लापता हुए बिहार के लापता 99 थाना और ओपी के संबंध में जानकारी लेनी चाही (फाइल फोटो)

Bihar News: ढाका से बीजेपी के विधायक पवन जायसवाल ने सोमवार को विधानसभा में सरकार से पूछा कि बिहार मे 99 पुलिस थाना लापत ...अधिक पढ़ें

पटना. बिहार विधानसभा के बजट सत्र (Bihar Assembly Budget Session) के दौरान सोमवार को सदन में तब अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई जब बीजेपी के विधायक पवन कुमार जायसवाल (BJP MLA Pawan Jaiswal) ने एक अनोखा मामला उठाने की कोशिश की और सरकार से इस पर जवाब मांगा. लेकिन सदन में उनकी बात नहीं सुनी गई. पवन जायसवाल सरकार से जिस मुद्दे की जानकारी लेना चाहते हैं, वो हैरान करने वाला है. दरअसल पवन जायसवाल बिहार सरकार (Bihar Government) और पुलिस मुख्यालय से जानना चाहते हैं कि बिहार के 99 पुलिस थाना (Police Station) और OP लापता हो गए हैं, अगर उसकी जानकारी है तो उसको बताया जाए.

ढाका से बीजेपी के विधायक पवन जायसवाल ने सरकार से पूछा है कि बिहार मे 99 पुलिस थाना लापता हैं, उसकी जानकारी सार्वजनिक की जाए. विधानसभा में पवन जायसवाल ने गृह विभाग से सवाल पूछते हुए कहा कि बिहार के 62 थाना और 27 ओपी का नोटिफिकेशन पुलिस मुख्यालय को नहीं मिल रहा है. वहीं, थानों में सीसीटीवी कैमरा लगाने वाली कंपनी TASL को भी एक थाना और ओपी नहीं मिल रहा है.

उन्होंने आगे कहा कि राज्य के 99 लापता थाना और ओपी में पूर्वी चंपारण जिले के गाड़ियां बाजार, जमुनिया गीतवा कट के नवाब, रामपुर खजुरिया नारायण चौक लखौर सहित पटना जिले के इमामगंज मुसल्लहपुर, चित्रगुप्त नगर सहित 99 ओपी और थाना लापता सूची में शामिल है जिसे खोजने में राज्य पुलिस मुख्यालय असफल रही है. बीजेपी विधायक ने कहा कि अगर यह मामला सामने आया है तो सरकार क्या ऐसे दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने का निर्देश देगी.

बीजेपी विधायक पवन जायसवाल के सवाल पर विभाग की तरफ से उन्होंने भेजा गया जो ऑनलाइन जवाब मिला है वो भी दिलचस्प है. जवाब में बताया गया है की राज्य के सभी पुलिस थाना और OP के सृजन के संदर्भ में विभागीय स्तर पर जिलावार समीक्षा की जा रही है. समीक्षा में प्रत्येक थाना और ओपी से संबंधित अधिसूचनाओं का मिलान करते हुए सत्यापन का कार्य किया जा रहा है. यदि कोई कार्यरत थाना या ओपी अधिसूचित नही पाया जाता है तो उसे अधिसूचित करने की कारवाई की जाएगी.

Tags: Assembly Session, Bihar News in hindi, Bihar politics, BJP MLA

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें