• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • BPSC का इंटरव्यू क्लियर कराने के लिए बीजेपी MLC ने मांगे 30 लाख रुपए, केस दर्ज

BPSC का इंटरव्यू क्लियर कराने के लिए बीजेपी MLC ने मांगे 30 लाख रुपए, केस दर्ज

बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन (Bihar Public Service Commission) ने 65वीं सिविल सर्विस परीक्षा की आंसर की जारी की.

बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन (Bihar Public Service Commission) ने 65वीं सिविल सर्विस परीक्षा की आंसर की जारी की.

10 मई 2018 को इस सेटिंग को लेकर डॉक्टर रामकिशोर सिंह, दलाल परमेश्वर राय और गुप्तचर में क्या-क्या बातें हुई हैं ये पूरी ऑडियो क्लिप न्यूज 18 के पास है. इस मामले के उजागर होते ही आरोपी एमएलसी ने बीपीएससी के सदस्य पद से इस्तीफा दे दिया है.

  • Share this:
    पटना. बिहार लोक सेवा आयोग यानि बीपीएससी (BPSC) में भ्रष्टाचार का मामला उजागर हुआ है. भ्रष्टाचार के ये आरोप बीजेपी के एमएलसी (BJP MLC) और आयोग के सदस्य पर लगे हैं. आयोग के सदस्य और एमएलसी रामकिशोर सिंह पर बीपीएससी की 56वीं से 58वीं संयुक्त प्रवेश परीक्षा (BPSC Mains Exam) में उम्मीदवार को इंटरव्यू में पास कराने के लिए 30 लाख रुपये मांगे जाने का आरोप लगा है. इस आरोप के बाद उन पर भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 13 (1-डी), 7, 8, आइपीसी की धारा- 120 (बी) समेत अन्य धाराओं में निगरानी ब्यूरो ने एफआईआर (FIR) दर्ज किया है.

     डीएसपी और एडीएम बनाने की खोल रखी थी फैक्ट्री

    आरोप है कि बीजेपी के एमएलसी डॉक्टर रामकिशोर सिंह ने बिहार के पुलिस प्रशासन पर पुरी हुकूमत कायम करने के लिए डीएसपी और डिप्टी कलेक्टर बनाने की फैक्ट्री खोली थी. एमएलसी का खास परमेश्वर राय दलाल के रूप में बाहरी सेटिंग्स करता था, लेकिन इस पूरे मामले की भनक निगरानी विभाग को लग गई. इसके बाद निगरानी विभाग ने ऐसा जाल बिछाया कि बिहार लोक सेवा आयोग के सदस्य सह बीजेपी एमएलसी डा रामकिशोर सिंह और दलाल परमेश्वर राय पूरे सबूत के साथ पकड़ में आ गये.

    वॉयस सैंपल मैच करने पर बढ़ी मुश्किलें

    एक गुप्तचर ने दलाल और कैंडिडेट के साथ बीजेपी एमएलसी के बीच हुई पूरी बातचीत को रिकार्ड कर लिया है. रिकॉडिंग की सत्याता की जांच करने का जिम्मा निगरानी अनवेषण ब्यूरो को सौंपा गया. निगरानी की टीम ने सरकार के आदेश पर इस प्राप्त वॉयस रिकॉडिंग को जांच के लिये चंडीगढ़ स्थित एफएसएल लैब भेजा गया. जांच में यह बात प्रमाणित हो गया कि इस बातचीत में एक तरफ की आवाज बीपीएससी के सदस्य राम किशोर सिंह की ही है. जांच रिपोर्ट के आधार पर निगरानी आगे की कार्रवाई करती इससे पहले इसकी भनक आरोपी राम किशोर सिंह को लग गई और वो अपने पद से इस्तीफा दे दिये.

    एफआईआर दर्ज

    इधर अब निगरानी ने उनके विरुद्ध निगरानी थाना में एफआईआर दर्ज कर लिया है और आगे की कानूनी कारवाई करने में जुट चुकी है. खास बात यह है कि जिस वक्त ये पूरा खेल राम किशोर सिंह और उनका एजेंट परमेश्वर राय खेल रहा था तब बीपीएससी के सैकड़ो अभ्यर्थी आये दिन बीपीएससी कार्यालय के बाहर हंगामा करते नजर आते थे. दिनांक 10 मई 2018 को उक्त रिकार्डिंग में डॉक्टर रामकिशोर सिंह दलाल परमेश्वर राय और गुप्तचर में क्या-क्या बातें हुई ये पूरी ऑडियो क्लिप न्यूज 18 के पास है.

    गिरफ्तारी तय

    सबसे बड़ी और अहम बात यह है कि इस भ्रष्टाचार प्रकरण में रिकार्ड किये गये तथ्यों की प्रामाणिकता मिल गई है. निगरानी टीम जल्द ही ड़ॉ राम किशोर सिंह और दलाल परमेश्वर राय को गिरफ्तार करेगी और इसके बाद की पूछताछ में और खुलासा होगा की बीपीएससी के कोई और लोग तो शामिल नहीं हैं.

    रिपोर्ट- अमित कुमार

    ये भी पढ़ें- पटना पुलिस लाइन में बैरक पर गिरा विशालकाय पेड़, नौ जख्मी, तीन की हालत नाजुक

    ये भी पढ़ें- पटना के पॉश इलाके में BSNL कर्मचारी संघ के नेता को दिनदहाड़े मारी गोली

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज