मनोज तिवारी ने बांधे गुप्तेश्वर पांडेय की तारीफों के पुल, कहा- वो न होते तो सुशांत केस की CBI जांच नहीं होती

बीजेपी सांसद और भोजपुरी एक्टर मनोज तिवारी ने बिहार के पूर्व डीजीपी की तारीफ की है
बीजेपी सांसद और भोजपुरी एक्टर मनोज तिवारी ने बिहार के पूर्व डीजीपी की तारीफ की है

बीजेपी सांसद और सिने अभिनेता मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने कहा कि बिहार के पूर्व डीजीपी (Gupteshwar Pandey) जैसे लोगों को जन सेवा में आना ही चाहिए. देश में इसकी एक बड़ी परंपरा रही है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 8:24 PM IST
  • Share this:
पटना. बीजेपी के सांसद और भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey) की तारीफों के पुल बांधे हैं. इस सिने अभिनेता और बीजेपी सांसद ने पांडेय को राजनीति में आने की बात कही है. मनोज तिवारी ने गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस (VRS) लेने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अगर ऐसे लोग जन सेवा में आते हैं तो बड़ी खुशी होगी. मनोज तिवारी ने कहा कि ऐसे लोगों को जन सेवा में आना चाहिए. देश में एक बड़ी परंपरा रही है कि जो लोग प्रशासनिक अधिकारी के तौर पर सेवा किए हैं उन्होंने राजनीतिज्ञ के तौर पर भी देश की सेवा की है.

तिवारी ने कहा कि मेरा मानना है कि ऐसे मजबूत इरादे के लोगों को राजनीति में आना चाहिए. मनोज तिवारी ने कहा कि डीजीपी के तौर पर गुप्तेश्वर पांडे ने बिहार में निष्पक्ष तरीके से अपना कार्य किया है. हर कोई एक दिन रिटायर होता है और अपनी नौकरी छोड़ता है लेकिन गुप्तेश्वर पांडे ने निष्पक्ष होकर अपना काम किया है. बीजेपी सांसद ने कहा कि उनकी पूरे देश में तारीफ हो रही है. सुशांत सिंह राजपूत मामले में अगर उन्होंने एफआईआर दर्ज नहीं की होती तो सीबीआई जांच नहीं होती और इतने एंगल नहीं खुलते.





मनोज तिवारी ने उनके राजनीति में आने के बारे में कहा कि इसके बारे में उन्हें जानकारी नहीं है लेकिन मेरा मानना है कि ऐसे मजबूत लोगों को जन सेवा और राजनीति में आना ही चाहिए. मालूम हो कि बिहार के डीजीपी रहे गुप्तेश्वर पांडेय ने मंगलवार को सेवानिवृत्ति की अवधि से 5 महीने पहले ही वीआरएस ले लिया था. इसके बाद से उनके राजनीति में आने के कयास लगाए जाने लगे हैं. हालांकि, इस मसले पर पूर्व डीजीपी ने कहा कि मैंने इस्तीफा दे दिया है और अब मैं फ्री हो गया हूं. चुनाव लड़ने की चर्चा पर डीजीपी ने कहा कि मैं अब इस मसले पर कुछ नहीं कहा हूं. शिवसेना द्वारा किए गए जुबानी हमले पर डीजीपी ने कहा कि कोई भी कुछ भी बोलने को स्वतंत्र है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज