बिहार: पंचायत प्रतिनिधियों के साथ हुए BJP सांसद, CM को चिट्ठी लिख कार्यकाल बढ़ाने की मांग

बीजेपी सांसद रामकृपाल यादव (फाइल फोटो)

बीजेपी सांसद रामकृपाल यादव (फाइल फोटो)

Bihar Panchayat Election Update: भाजपा सांसद रामकृपाल यादव (BJP MP Ramkripal Yadav) ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखते हुए पुराने जन प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाए जाने की मांग की है.

  • Share this:

पटना. कोरोना महामारी की वजह से बिहार में होने वाले पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Election) को फिलहाल टाल दिया गया है. अब पंचायत चुनाव कब तक होगा इस बारे में बिहार सरकार हो या राज्य निर्वाचन आयोग फ़िलहाल कुछ भी बताने के हालात में नहींं है. इसी दुविधा ने पंचायत प्रतिनिधियों की चिंता भी बढ़ा दी है. राज्य में करीब ढाई लाख पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल 15 जून तक ख़त्म हो जाएगा और उसके बाद चिंता इस बात को लेकर बढ़ जाएगी की पंचायत में विकास का कार्य कौन करेगा.

इस बीच भाजपा सांसद रामकृपाल यादव (BJP MP Ramkripal Yadav) ने भी चिंता ज़ाहिर करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को पत्र लिखते हुए मांग की है कि पंचायत प्रतिनिधियों के खत्म हो रहे कार्यकाल के बाद जब तक चुनाव नहीं हो जाता है और नए जन प्रतिनिधि नहीं आ जाते हैं, पुराने जन प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ा दिया जाए. रामकृपाल यादव पाटलिपुत्र से भाजपा सांसद हैं.

क्या लिखा है रामकृपाल यादव ने अपनी चिट्ठी में

रामकृपाल यादव ने पत्र में ये लिखा है कि कोरोना महामारी के चलते बिहार पंचायत चुनाव 2021 फिलहाल टलने की स्थिति में पहुंच गया है. चुनाव नहीं होने की स्थिति में त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्थाके समक्ष संवैधानिक संकट पैदा हो जायेगा. केन्द्र सरकार और राज्यं सरकार की अधिकतर योजनाएं जो पंचायतों के विकास से संबंधित हैं, उनके कार्यान्वयन में भी प्रशासनिक संकट पैदा होने की स्थिति है, वैसी अपरिहार्य स्थिति में बिहार सरकार को किसी विधि सम्मत निर्णय लेना होगा ताकि त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यस्था प्रभावी ढंग से गांव के विकास में पूर्ववत कार्य करती रहे. रामकृपाल यादव ने इसके लिए बिहार प्रदेश मुखिया महासंघ के प्रदेश अध्याक्ष अशोक सिंह के पत्र का भी हवाला दिया है.
तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर मुख्यमंत्री से की थी मांग

इससे पहले तेजस्वी ने भी कहा था कि  'सरकार से हमारी मांग है कि कोरोना महामारी के आलोक में पंचायत चुनाव स्थगित होने के कारण आगामी चुनाव तक त्रिस्तरीय पंचायती प्रतिनिधियों का वैकल्पिक तौर पर कार्यकाल विस्तारित किया जाए, जिससे की पंचायत स्तर पर कोरोना प्रबंधन के साथ-साथ विकास कार्यों का बेहतर समन्वय के साथ क्रियान्वयन हो सके.'

कोरोना के बाद अब मानसून



दरअसल फिलहाल बिहार में कोरोना संक्रमण कम हुआ है लेकिन अभी भी बिहार के ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमण का खतरा बना हुआ है, वहीं 15 जून के बाद बिहार में मौनसून भी प्रवेश कर जाएगा, इस वजह से भी चुनाव में समस्या आ सकती है क्योंकि बिहार के कई ज़िले बाढ़ प्रभावित है, इन इलाक़ों में चुनाव में समस्या आ सकती है.

मंत्री बोले

बिहार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी इस पत्र पर कहते हैं कि सरकार हर पहलू पर विचार कर रही है. पंचायत चुनाव कब होगा ये राज्य निर्वाचन आयोग को तय करना है. बिहार सरकार चुनाव कभी भी  करवाने को तैयार हैं. सूत्र बताते हैं कि 15 जून के बाद पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल खत्म हो जाएगा तो बिहार सरकार प्रखंड से लेकर जिला तक प्रशासक की नियुक्ति कर सकती है जो पंचायत प्रतिनिधियों की जगह काम कर सकते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज