BJP सांसद का नीतीश सरकार पर हमला, बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं पर उठाए सवाल

सांसद ने कहा कि बिहार का दुर्भाग्य है कि 30 सालों में सरकार को कभी मेडिकल सेवाओं को लेकर कोई चिंता नहीं रही है. सरकार में बैठे लोगों को केवल कुर्सी पर बैठकर सत्ता का आनन्द भोगने की ही चिंता रही है.

News18 Bihar
Updated: July 3, 2019, 6:23 PM IST
BJP सांसद का नीतीश सरकार पर हमला, बिहार में स्वास्थ्य सेवाओं पर उठाए सवाल
नीतीश कुमार सरकार पर किया हमला
News18 Bihar
Updated: July 3, 2019, 6:23 PM IST
बीजेपी के राज्यसभा सांसद और बिहार बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष गोपाल नारायण सिंह ने नीतीश सरकार पर जबरदस्त हमला किया है. उन्होंने राज्य की अपनी ही सरकार पर स्वास्थ्य सेवा के मुद्दे पर निशाना साधा. सांसद ने कहा कि बिहार का दुर्भाग्य है कि 30 सालों में सरकार को कभी मेडिकल सेवाओं को लेकर कोई चिंता नहीं रही है. सरकार में बैठे लोगों को केवल कुर्सी पर बैठकर सत्ता का आनन्द भोगने की ही चिन्ता रही है. लेकिन बिहार की समस्याओं के बारे में उन्हें कोई चिंता नहीं की.

'घटना घट जाती है तो सभी करते हैं चिंता'

दरअसल सांसद गोपाल नारायण सिंह राज्य में एक्यूट इन्सेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) यानी चमकी बुखार से लगातार हो रही बच्चों की मौत पर बोल रहे थे. मुजफ्फरपुर मामले में उन्होंने नेताओं पर हमला करते हुए कहा कि जब घटना घट जाती है तो इसके बाद सभी चिंता करते हैं, वरना सब शांत रहते हैं.

गोपाल नारायण सिंह ने आरोप लगाया कि स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर बिहार सरकार गंभीर नहीं


सीरियस नहीं सरकार

सांसद ने आरोप लगाया कि राज्य में मेडिकल कॉलेज की संख्या बढ़ाने को लेकर सरकार कभी भी सीरियस नहीं रही. राज्य सरकार स्वास्थ्य सेवाओं के विकास पर पूरी तरह से विफल रही है. राज्य में स्वास्थ्य समस्याओं के चलते बच्चों की हो रही मौत के लिए राज्य सरकार ही जिम्मेदार है.

गौरतलब है कि राज्य में अभी चमकी बुखार का कहर जारी है. अभी भी बच्चों की मौतों की लगातार खबर आ रही है. ताजा खबर के अनुसार मुजफ्फरपुर में AES से यहां के सबसे बड़े एसकेएमसीएच अस्पताल में तीन और पीड़ित बच्चों ने दम तोड़ दिया है. इसके साथ ही एसकेएमसीएच में मौत का आंकड़ा 141 तक जा पहुंचा है. मरने वाले ये सभी बच्चे SKMCH में गंभीर हालत में भर्ती थे.
Loading...

मुजफ्फरपुर में सबसे ज्यादा असर

बता दें कि बिहार में चमकी बुखार से अब तक 180 बच्चों की मौत हो चुकी है. बिहार में चमकी बुखार का कहर 12 जिलों में है लेकिन इसका सबसे ज्यादा असर मुजफ्फरपुर में है. उल्लेखनीय है कि मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विधानसभा में कहा था कि सरकार एईएस यानी चमकी बुखार से हो रही मौतों को लेकर पूरी तरह से संवेदनशील है.

सदन में जवाब देते हुए सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि सरकार डॉक्टरों और नर्स की कमी पर काम कर रही है. जिलों में नर्सिंग कॉलेज खुल रहे हैं लेकिन बच्चों की मौत के कारणों को विशेषज्ञ भी अभी तक नहीं जान पाए हैं.

ये भी पढ़ें: 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 3, 2019, 5:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...