Home /News /bihar /

Caste Census: सुशील कुमार मोदी का बड़ा बयान, बोले- ‘कभी जातीय जनगणना के विरोध में नहीं रही BJP’

Caste Census: सुशील कुमार मोदी का बड़ा बयान, बोले- ‘कभी जातीय जनगणना के विरोध में नहीं रही BJP’

जातिगत जनगणना को लेकर सुशील कुमार मोदी ने बड़ी बात कही है.

जातिगत जनगणना को लेकर सुशील कुमार मोदी ने बड़ी बात कही है.

Caste Census in Bihar: बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने जातिगत जनगणना को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि भाजपा (BJP) कभी भी इसके खिलाफ नहीं रही है. यही वजह है कि पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मिलने वाले बिहार के प्रतिनिधिमंडल में भी भाजपा शामिल है.

अधिक पढ़ें ...

    पटना. बिहार में जातिगत जनगणना (Caste Census) कराने को लेकर सियासी पारा चढ़ा हुआ है. इस बीच राज्‍य के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने बड़ी बात कही है. उन्‍होंने आज यानी रविवार को ट्वीट कर कहा है कि बीजेपी (BJP) कभी जातीय जनगणना के विरोध में नहीं रही. इसलिए हम इस मुद्दे पर विधानसभा और विधान परिषद में पारित प्रस्ताव का हिस्सा रहे हैं. इसके साथ उन्‍होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मिलने वाले बिहार के प्रतिनिधिमंडल में भी बीजेपी शामिल है.

    इसके अलावा उन्‍होंने कहा कि साल 2011 में बीजेपी के गोपीनाथ मुंडे ने जातीय जनगणना के पक्ष में संसद में पार्टी का पक्ष रखा था. उस समय केंद्र सरकार के निर्देश पर ग्रामीण विकास और शहरी विकास मंत्रालयों ने जब सामाजिक, आर्थिक, जातीय सर्वेक्षण कराया, तब उसमें करोड़ों त्रुटियां पायी गईं. जातियों की संख्या लाखों में पहुंच गई. भारी गड़बड़ियों के कारण उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की गई. वह सेंसस या जनगणना का हिस्सा नहीं था.

    भाजपा का जातीय जनगणना को है समर्थन
    इसके अलावा सुशील कुमार मोदी ने कहा कि ब्रिटिश राज में सन् 1931 की अंतिम बार जनगणना के समय बिहार, झारखंड और ओडिशा एक प्रांत में थे. उस समय के बिहार की करीब 1 करोड़ की आबादी में महज 22 जातियों की ही जनगणना कराई गई थी. अब 90 साल बाद आर्थिक, सामाजिक, भौगोलिक और राजनीतिक परिस्तिथियों में बड़ा फर्क आ चुका है. जातीय जनगणना कराने में कई टेक्निकल और व्यवहारिक परेशानियां आती हैं. हालांकि फिर भी बीजेपी इसके समर्थन में है. वहीं, इस मामले पर आरजेडी नेता तेजस्‍वी यादव ने कहा कि बिहार विधानसभा में दो बार जातीय जनगणना का प्रस्ताव पारित हुआ और आखिरी जातीय जनगणना 1931 में हुई. इससे पहले 10-10 साल में जातीय जनगणना होती रही. जनगणना से सही आंकड़े सामने आएंगे जिससे हम लोगों के लिए बजट में योजना बना सकते हैं.

    ये भी पढ़ें- नीतीश कुमार और आरसीपी सिंह के बीच दो घंटे चली मुलाकात, क्या JDU में हो गया सब All is well?

    बिहार का 11 सदस्यीय सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल पीएम मोदी से कर रहा मुलाकात
    बहरहाल, जातिगत जनगणना को लेकर सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्‍व 11 सदस्यीय सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल पीएम मोदी से मिल रहा है, जिसमें बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव, कांग्रेस नेता अजीत शर्मा, जेडीयू से विजय चौधरी, बीजेपी से जनक राम, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा से जीतन राम मांझी, वीआईपी से मुकेश सहनी, भाकपा माले से महबूब आलम, एआईएमआईएम से अख्तरुल इमान, सीपीआई से सूर्यकांत पासवान और सीपीएम से अजय कुमार शामिल हैं.

    Tags: Bihar News, Caste Census, Caste census meeting, Caste Census Meeting Updates, Pm narendra modi, Sushil kumar modi, Tejashwi Yadav

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर