होम /न्यूज /बिहार /बिहार भाजपा अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल 'स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम' से पीड़ित, गंभीर स्थिति में पटना AIIMS में भर्ती

बिहार भाजपा अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल 'स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम' से पीड़ित, गंभीर स्थिति में पटना AIIMS में भर्ती

बिहार भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल गंभीर हालत में पटना एम्स में भर्ती किए गए.

बिहार भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल गंभीर हालत में पटना एम्स में भर्ती किए गए.

Bihar News: संजय जायसवाल को स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम (Stevens Johnson Syndrome) नाम की गंभीर बीमारी हुई है. वे पिछले कई द ...अधिक पढ़ें

पटना. भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल (Bihar BJP President Dr. Sanjay Jaiswal) पटना एम्स (Patna AIIMS) में भर्ती करवाए गए हैं. बताया जा रहा है कि इमरजेंसी की स्थिति में उन्हें अस्पताल ले जाया गया. मिली जानकारी के अनुसार संजय जायसवाल को स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम (Stevens Johnson Syndrome) नाम की गंभीर बीमारी हुई है. वे पिछले कई दिनों से तेज बुखार से पीड़ित थे. गुरुवार को उनको एम्स में भर्ती किए जाने के बाद जांच के दौरान बीमारी का पता चला. संजय जायसवाल ने स्वयं सोशल मीडिया पर इस बात की  जानकारी शेयर की है.

मिली जानकारी के अनुसार स्टीवंस जॉनसन सिंड्रोम नाम की यह बीमारी बहुत कम लोगो को होती है. इस बीमारी में शरीर की सभी चमड़ी फटने लगती है. संजय जयसवाल ने कहा फिलहाल मुझे किसी  से ही मिलना संभव नहीं है. अगले एक सप्ताह के बाद ही किसी से मुलाकात हो सकती है. इलाज के बाद जैसे ठीक होंगे वैसे इस बात की जानकारी वह स्वयं देंगे.

ये भी पढ़ें- ‘पीएम मटेरियल’ पर बिहार में सियासी बवाल, जानिए क्या बोले CM नीतीश कुमार

स्टीवंस-जॉनसन सिंड्रोम संक्रमण जिसे भी होता है, उसे देखकर ऐसा लगता है मानो किसी ने उसके शरीर को जला दिया हो. यह बीमारी किसी दवा के खाने के बाद रिएक्शन के कारण होता है जिसके बाद तेज बुखार होता है. इस बीमारी में शरीर के अंग शरीर के खिलाफ ही काम करने लगते है.इस बीमारी में शरीर की त्वचा फटने लगती है.

ये भी पढ़ें-  Bihar Politics: चिराग पासवान पर कितना बड़ा ‘राजनीतिक प्रहार’ है संसदीय दल अध्यक्ष पद से हटाया जाना?

यह बीमारी काफी गंभीर कही जाती है. शरीर के बाहर और भीतरी चमड़ी भी फट जाती है. इस बीमारी में शरीर के भीतर आंत में सूजन आ जाती है और गलने लगता है जो सबसे खतरनाक होता है. स्टीवंस और जॉनसन नाम के दो डॉक्टरों ने इस इंफेक्शन का पता लगाया था. उनके ही नाम पर इस सिंड्रोम का नाम रखा गया है.

गौरतलब है कि इसमें शरीर की त्वचा पर फफोले हो जाते हैं. खाल छिलके की तरह उतरने लगती है. आंखों की सतह भी बाहर आने लगती है. मुंह और गले में भी फफोले हो जाते हैं. स्टीवंस-जॉनसन सिंड्रोम एक दुर्लभ किस्म की एलर्जी है. इसमें त्वचा, आंख और श्लेषमा झिल्ली पर अटैक होता है. ज्यादातर तो ये किसी दवा के रिऐक्शन से होता है.

Tags: Bihar News, BJP, Patna AIIMS, PATNA NEWS

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें