बिहार में यादव 'तिलिस्म' को ऐसे तोड़ेगी BJP, ये है पूरा प्लान...

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय (Nityanand Rai) पर तिहरा भार है. वही नंदकिशोर यादव (Nand Kishore Yadav) को झारखंड का अतिरिक्त भार दे दिया गया है.

News18 Bihar
Updated: August 14, 2019, 7:52 PM IST
बिहार में यादव 'तिलिस्म' को ऐसे तोड़ेगी BJP, ये है पूरा प्लान...
बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय पर तिहरा भार है. (Demo Pic)
News18 Bihar
Updated: August 14, 2019, 7:52 PM IST
भारतीय जनता पार्टी (BJP) बिहार में यादव तिलिस्म को तोड़ना चाहती है. यही वजह है कि बीजेपी अपने यादव नेताओं पर खूब दांव खेल रही है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय (Nityanand Rai) पर तिहरा भार है. वहीं नंदकिशोर यादव (Nand Kishore Yadav) को झारखंड का अतिरिक्त भार दे दिया गया है. इसपर आरजेडी (RJD) के नेता कहते है कि बीजेपी ये दांव शुरू से खेल रही है लेकिन कोई फायदा नहीं है.

बीजेपी अपने यादव नेताओं पर खुब दांव खेल रही है. लालू यादव के तिलिस्मी वोट बैंक यानी यादवों में सेंध लगाने के लिए बीजेपी अपने यादव नेताओं पर अलग से जिम्मेदारी दे रही है. अब नित्यानंद राय के बारे में ही बात करें तो वो बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष है. देश के केंद्रीय गृह राज्य मंत्री भी बन गए. अब उन्हें दिल्ली विधान सभा चुनाव का सह प्रभारी भी बनाया गया है. नंद किशोर यादव बिहार में पथ निर्माण मंत्री है. लेकिन उनको झारखंड विधान सभा चुनाव का सह प्रभारी बनाया गया है. वहीं भूपेंद्र यादव लगातार बिहार बीजेपी के प्रभारी बने हुए है.

बीजेपी नेता इस बात को मानने को तैयार नहीं है कि उनके यहां जातिगत राजनीति होती है. बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद का कहना है कि पार्टी में जाति के आधार पर किसी को जिम्मेदारी नहीं दी जाती ही है. पार्टी में सभी को उनकी योग्यता के आधार पर जिम्मेदारी दी जाती है.

'यादव समाजवाद के साथ ही रहेगा'

बीजेपी के इस यादव वोट बैंक को लेकर की जा रही कवायद पर आरजेडी के नेता हैरान नहीं है. उनका मानना है कि हर पार्टी को इस तरह का स्टंट करने का हक है. आरजेडी नेता रामानुज प्रसाद कहते हैं कि यादव जाति पूरी तरह से समाजवाद पर विश्वास करती है. यादव समाजवाद के साथ ही रहेगा, चाहे बीजेपी किसी यादव नेता को मैदान में उतार दें.

यादव लालू यादव के ही रहे हैं
बीजेपी में जनसंघ के समय से ही यादव जाती के नेताओं को तरजिह मिलती रही है. लेकिन ये भी सच है कि बिहार में यादव लालू यादव के ही रहे हैं. चाहे बीजेपी आरजेडी के किसी बड़े यादव चेहरे को ही क्यों ना तोड़ ले. यादव समुदाय लालू यादव को ही नेता मानता आ रहा है.
Loading...

(रिपोर्ट- बृजम पाण्डेय)

ये भी पढ़ें- 

आर्टिकल 370 पर तेजस्वी ने तोड़ी चुप्पी, दिया ये बड़ा बयान

नीतीश ने 19 एजेंडों को दी मंजूरी, जानें- महत्वपूर्ण फैसले
First published: August 14, 2019, 7:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...