होम /न्यूज /बिहार /

युवाओं को अपहरण उद्योग में माहिर बनाना चाहते हैं नीतीश कुमार, जानें ऐसा क्यों कहा सुशील मोदी ने

युवाओं को अपहरण उद्योग में माहिर बनाना चाहते हैं नीतीश कुमार, जानें ऐसा क्यों कहा सुशील मोदी ने

सुशील मोदी ने शिक्षा मंत्री चंद्रेशेखर पर दिल्ली में दर्ज हुए एक केस का हवाला दिया, जिसमें उन्हें हाईकोर्ट ने बरी कर दिया है.

सुशील मोदी ने शिक्षा मंत्री चंद्रेशेखर पर दिल्ली में दर्ज हुए एक केस का हवाला दिया, जिसमें उन्हें हाईकोर्ट ने बरी कर दिया है.

BJP vs JDU: बिहार में सरकार से अलग होने के बाद बीजेपी का हमला महागठबंधन पर लगातार जारी है. पूर्व उपमुख्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने बिहार के शिक्षा मंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार ने मधेपुरा के विधायक प्रोफेसर चंद्रशेखर के रूप में ऐसे दबंग व्यक्ति को शिक्षा मंत्री बनाया, जो प्वाइंट 315 के 10 कारतूस बैग में छिपा कर लाने के आरोप में पकड़े गए थे. ऐसे शिक्षा मंत्री क्या सुधार करेंगे और छात्रों को क्या संदेश देंगे?

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

सुशील मोदी का आरोप: शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर पर IGI थाने में कारतूस ले जाने का मामला दर्ज हुआ था.
भूलवश बैग में कारतूस रख लेने की चंद्रशेखर की दलील स्वीकार कर हाईकोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया था.
ऐसे को शिक्षा मंत्री बनाकर नीतीश कुमार युवाओं को अपहरण उद्योग चलाने में माहिर बनाना चाहते हैं.

पटना. बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद भाजपा ने जंगलराज का आरोप लगाना शुरू कर दिया है. रोज किसी न किसी मंत्री पर दर्ज आपराधिक मामले का खुलासा किया जा रहा है. इस बार बीजेपी के निशाने पर हैं बिहार सरकार के शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर. सुशील मोदी ने आरोप लगाया है कि किताबों के बदले कारतूस के शौकीन को बनाया गया शिक्षा मंत्री.

बिहार में सरकार से अलग होने के बाद बीजेपी का हमला महागठबंधन पर लगातार जारी है. पूर्व उपमुख्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने बिहार के शिक्षा मंत्री के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार ने मधेपुरा के विधायक प्रोफेसर चंद्रशेखर के रूप में ऐसे दबंग व्यक्ति को शिक्षा मंत्री बनाया, जो प्वाइंट 315 की 10 कारतूस बैग में छिपा कर लाने के आरोप में पकड़े गए थे. ऐसे शिक्षा मंत्री क्या सुधार करेंगे और छात्रों को क्या संदेश देंगे?

सुशील मोदी ने कहा कि दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा थाने में चंद्रशेखर के विरुद्ध 25 आर्म्स एक्ट और भारतीय दंड विधान 482 के तहत 21 फरवरी 2019 को बैग में छिपाकर कारतूस ले जाने के प्रयास का मामला दर्ज हुआ था.

मोदी ने कहा कि हालांकि माननीय विधायक के भूलवश बैग में कारतूस रख लेने की दलील स्वीकार कर हाईकोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया, लेकिन सवाल है कि क्या कोई भूलवश हवाई यात्रा के दौरान बैग में 10 कारतूस रख सकता है? उन्होंने कहा कि जब लाइसेंसी रायफल साथ नहीं थी, तब चंद्रशेखर ने इतनी कारतूस क्यों छिपा कर रख ली थी?

मोदी ने कहा कि पूछताछ में चंद्रशेखर न हथियार का लाइसेंस दिखा पाए, न कारतूस ले जाने की अनुमति का कोई अधिकृत पत्र उनके पास था. किताब की जगह कारतूसों का शौक रखनेवाले को शिक्षा मंत्री बनाकर नीतीश कुमार युवाओं को सरकारी नौकरी पाने लायक नहीं, बल्कि अपहरण उद्योग चलाने में माहिर बनाना चाहते हैं.

Tags: Bihar BJP, Bihar NDA, Bihar News

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर