Home /News /bihar /

bpsc paper leak case read what is in fir of economic offenses unit brvj

बीपीएससी पेपर लीक मामले में कौन-कौन सी धारा लगी? प्राथमिकी में क्या-क्या है? पढ़ें FIR की कॉपी

BPSC Paper Leak मामले में आर्थिक अपराध इकाई ने प्राथमिकी दर्ज करवाई है जिस पर अनुसंधान जारी है.

BPSC Paper Leak मामले में आर्थिक अपराध इकाई ने प्राथमिकी दर्ज करवाई है जिस पर अनुसंधान जारी है.

BPSC Paper Leak Case Update: चार अभियुक्तों को मंगलवार को EOU ने गिरफ्तार किया है. इन सभी के खिलाफ IPC, IT ACT व बिहार परीक्षा नियंत्रण अधिनियम 1981 के तहत कारवाई की जा रही है. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से ज्ञात स्रोतों के आधार पर दर्ज प्राथमिकी के लिए आवेदन आर्थिक अपराध इकाई के डीएसपी भाष्कर रंजन ने दी है. देखें आर्थिक अपराध इकाई ने क्या तथ्य रखे हैं.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार लोक सेवा आयोग की 67वीं प्रारंभिक परीक्षा पेपर लीक मामले में आर्थिक अपराध थाना ने जो FIR दर्ज़ की थी उसकी मूल कॉपी की प्रतिलिपि न्यूज 18 के पास है. इसके अनुसार अज्ञात अपराधियों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता यानी IPC की धारा 420/467/468/120(b) और IT एक्ट की धारा 66 एवं बिहार परीक्षा नियंत्रण अधिनियम 1981 की धारा 3/10 के तहत FIR दर्ज की गई है.

इन्हीं धाराओं के तहत मामले का अनुसंधान किया जा रहा है. बीपीएससी पेपर लीक केस में जिन चार अभियुक्तों की मंगलवार को EOU ने गिरफ्तार किया है, उन सभी के खिलाफ IPC, IT ACT व बिहार परीक्षा नियंत्रण अधिनियम 1981 की इन्हीं धाराओं के तहत कारवाई की जा रही है. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से ज्ञात स्रोतों के आधार पर दर्ज प्राथमिकी के लिए आवेदन आर्थिक अपराध इकाई के डीएसपी भाष्कर रंजन ने दी है. आइये हम एक नजर डालते हैं कि प्राथमिकी के लिए दिए गए आवेदन में आर्थिक अपराध इकाई ने क्या-क्या तथ्य रखे हैं.

दिनांक 8 मई, 2022 को समय 12:00 बजे अपराह्न से बिहार लोक सेवा आयोग के द्वारा राज्य के विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा आयोजित थी. इस संबंध में आर्थिक अपराध इकाई, बिहार, पटना को यह सूचना प्राप्त हुई कि परीक्षा प्रारंभ होने के तय समय से पूर्व ही प्रश्न पत्र सोशल मीडिया में वायरल है. साथ ही यह भी सूचना प्राप्त हुई कि भोजपुर जिले के वीर कुंवर सिंह महाविद्यालय, आरा अवस्थित परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थियों द्वारा परीक्षा में धांधली का आरोप लगाकर हंगामा किया गया एवं परीक्षा का बहिष्कार किया गया है, तथा प्रश्न पत्र तथा ओएमआर सीट का फोटो खींचकर वायरल किया जा रहा है एवं केंद्र अधीक्षक तथा अन्य लोगों पर बीपीएससी को परीक्षा में गड़बड़ी करने का आरोप लगाया गया है. इस संबंध में कई वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो रहे हैं. इस संबंध में बिहार लोक सेवा आयोग के द्वारा किए गए अनुरोध पत्रांक 437/ लोक सेवा आयोग दिनांक 8 मई, 2022 के क्रम में पुलिस महानिदेशक के पत्रांक संख्या 60 म.नि.नि. दिनांक 8. 5. 2022 के माध्यम से जांच करने का निर्देश निर्गत है.

इस मामले की जांच हेतु गठित टीम के द्वारा उपरोक्त आशय के सूचना का त्वरित सत्यापन किया गया. सत्यापन के क्रम में विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रश्न पत्र लीक होने तथा इसके वायरल होने से संबंधित विभिन्न पोस्टों की जांच एवं छानबीन की गई. छानबीन के क्रम में यह बात स्पष्ट रूप से प्रकाश में आई कि 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा प्रारंभ होने के निर्धारित समय से पूर्व ही पूछे जाने वाले प्रश्न सेट-C का हिंदी प्रश्न सोशल मीडिया में वायरल हो चुके थे. इसी क्रम में यह बात भी प्रकाश में आई कि बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा नियंत्रक को भी प्रश्न पत्र की प्रति एवं उनके मोबाइल नंबर 947 227 6281 पर किसी व्यक्ति द्वारा मोबाइल नंबर 947 234 3001 से उन्हें दिनांक 8 मार्च 2022 को 11:43 बजे पूर्वाह्न में भेजा गया है. यह कार्य किसी बड़े संगठित गिरोह द्वारा सुनियोजित तरीके से छल पूर्वक लाभान्वित/आर्थिक लाभ प्राप्त करने के लिए किया गया है.

अज्ञात गिरोह के द्वारा किया गया उपरोक्त आपराधिक कृत्य धारा 420/467/468/120बी भारतीय दंड विधान, धारा 66 आईटी एक्ट एवं 3/10 बिहार परीक्षा नियंत्रण अधिनियम, 1981 के अंतर्गत संज्ञेय अपराध है. इस मामले में प्राथमिकी अंकित कर अनुसंधान करने की कृपा की जाए.

अब तक 4 लोग गिरफ्तार

बता दें कि आर्थिक अपराध इकाई ने बीपीएससी पेपर लीक मामले में मंगलवार को भोजपुर जिले के बरहरा के प्रखंड विकास पदाधिकारी समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार अन्य तीनों लोग आरा के वीर कुंवर सिंह कॉलेज से जुड़े हुए हैं. अभी तक के अनुसंधान एवं संदिग्ध व्यक्तियों से पूछताछ के क्रम में प्राप्त साक्ष्य (सबूत) के आधार पर आर्थिक अपराध इकाई के विशेष अनुसंधान दल द्वारा जिन चार लोगों को गिरफ्तार किया है, वो हैं…

1. जयवर्द्धन गुप्ता, प्रतिनियुक्त स्टैटिक दंडाधिकारी सह प्रखंड विकास पदाधिकारी, बड़हरा, जिला – भोजपुर
2. डॉ योगेन्द्र प्रसाद सिंह, पे स्व. गोपाल जी सिंह, सा.-बखोरापुर, थाना- बड़हरा, जिला- भोजपुर, वर्तमान प्राचार्य सह सेंटर सुपरइंटेंडेंट, कुंवर सिंह कॉलेज, आरा
3. सुशील कुमार सिंह, पे० स्व. हरिवंश सिंह, सा.-हरिजी का होता, थाना- नवादा, जिला- भोजपुर, वर्तमान व्याख्याता सह कंट्रोलर, कुंवर सिंह कॉलेज, आरा
4. अगम कुमार सहाय, ग्राम- फरना, थाना- बड़हरा, जिला- भोजपुर, व्याख्याता सह सहायक
सेंटर सुपर इंटेंडेंट, कुंवर सिंह कॉलेज, आरा

आर्थिक अपराध इकाई के एडीजी नैयर हसनैन खान के अनुसार, इस मामले का अनुसंधान चल रहा है. यह कार्रवाई प्रथमदृष्टया परिस्थितियों के आधार पर की गई है. वहीं, ईओयू के अधिकारियों की मानें तो प्रश्न पत्र लीक और वायरल आरा के वीर कुंवर सिंह कॉलेज के अलावा और कहीं से भी हुआ होगा. इस बारे में अभी लंबी जांच प्रक्रिया चलेगी.

Tags: BPSC exam, Paper Leak

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर