बिहार: अब सीधा टीका केंद्रों पर रजिस्ट्रेशन कराकर लगवा सकेंगे वैक्सीन, ऑनलाइन स्लॉट बुक कराने की बाध्यता खत्म

वैक्सिनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता खत्म. (सांकेतिक तस्वीर)

वैक्सिनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता खत्म. (सांकेतिक तस्वीर)

Corona Vaccine: यह सुविधा फिलहाल सरकारी अस्पतालों में शुरू की गई है. निजी अस्पतालों के टीका केंद्रों पर अब भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के साथ स्लॉट बुक कराने के बाद ही वैक्सिनेशन होगा.

  • Share this:

पटना. कोविन ऐप पर लगातार रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाने की शिकायतों के बीच बिहार सरकार ने लोगों को बड़ी राहत दी है. अब कोविड 19 का टीका लेने की इच्छा रखने वाले किसी भी व्यक्ति को पहले से रजिस्ट्रेशन कराकर स्लॉट बुक करने के बाद वैक्सीन लेने बाध्यता अब खत्म हो गई है. केंद्र सरकार द्वारा राज्यों को जो नया दिशा निर्देश जारी किया गया है इसके तहत अब कोई भी 18 से 45 साल के उम्र का व्यक्ति बिना पहले से रजिस्ट्रेशन कराये सीधा अस्पताल पहुंचकर वैक्सीन लगवा सकता है. ऐसे में बििहार में भी सभी सरकारी अस्पतालों में लोगो को केंद्र पर ही टीका के समय ही रजिस्ट्रेशन हो सकेगा. केंद्र सरकार के निर्देश में यह साफ कहा गया है कि सभी सरकारी अस्पतालों में यह सुविधा शुरू हो जानी चाहिए. ऐसे में बिहारवासियों के लिए भी यह सुविधा लागू हो गई है.

बता दें कि निर्देश के मुताबिक टीकाकरण केंद्र पर भीड़ ना लगे इसका भी सख्ती से पालन करने के निर्देश दिए गए हैं. गौरतलब है कि यह सुविधा फिलहाल सरकारी अस्पतालों में शुरू की गई है निजी अस्पतालों के टीका केंद्रों पर अब भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के साथ स्लॉट बुक कराने के बाद ही वैक्सिनेशन होगा. जरूरी है कि लोग सरकारी टीका केंद्र में पहचान पत्र के साथ पहुचे।आधार कार्ड नहीं रहने के बावजूद सभी को टीका लगाया जा सकेगा. इसके लिए कोई भी अपनी पहचान पत्र या वार्ड से लिखाकर ला सकते हैं.

प्रखंडों में टीका के लिए आज से घूमेगा रथ

पटना जिला के सभी प्रखण्डों में लोगों को वैक्सीन देने के लिए आज से टीका एक्सप्रेस रथ घूमेगा. पटना डीएम चंद्रशेखर सिंह ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका देने के लिए रथ गांवो में घूमेगी. हर टीका एक्सप्रेस के जरिये कम से कम 200 लोगो को टीका देने का लक्ष्य रखा गया है. जिले लिए आशा, एएनएम, प्रखण्ड स्वास्थ्य प्रबंधक, और जीविका को ट्रेनिंग दी गई है. इसकी मॉनिटरिंग सिविल सर्जन द्वारा की जाएगी

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज