लाइव टीवी

CAA-NRC विवाद: राहुल गांधी से बोले प्रशांत किशोर- मुख्‍यमंत्रियों के बयान नहीं, कांग्रेस अध्‍यक्ष की घोषणा दिखाएं
Patna News in Hindi


Updated: December 24, 2019, 12:21 PM IST
CAA-NRC विवाद: राहुल गांधी से बोले प्रशांत किशोर- मुख्‍यमंत्रियों के बयान नहीं, कांग्रेस अध्‍यक्ष की घोषणा दिखाएं
प्रशांत किशोर ने CAA और NRC पर राहुल गांधी से सोनिया गांधी का बयान साझा करने को कहा है. (फाइल फोटो)

CAA NRC Controversy: प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी से कांग्रेस अध्‍यक्ष की आधिकारिक घोषणा साझा करने की मांग की है, जिसमें पार्टी प्रमुख ने CAA और NRC को कांग्रेस शासित प्रदेशों में लागू न करने की घोषणा की है.

  • Last Updated: December 24, 2019, 12:21 PM IST
  • Share this:
पटना. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (NRC) को लेकर छिड़ा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. विरोध का झंडा उठाने वाले जेडीयू के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर ने अब कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी से इस बाबत नई मांग की है. उन्‍होंने ट्वीट कर राहुल से कहा कि इस मुद्दे पर वह कांग्रेस शासित प्रदेशों के मुख्‍यमंत्रियों के बयान नहीं, बल्कि कांग्रेस अध्‍यक्ष (अंतरिम अध्‍यक्ष सोनिया गांधी) की आधिकारिक घोषणा साझा करें, जिसमें उन्‍होंने कांग्रेस शासित राज्‍यों में CAA और NRC को न लागू करने का बयान दिया हो. बता दें कि इस मसले पर देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. इस बीच, विपक्षी दल भी धीरे-धीरे एकजुट होने लगे हैं.

प्रशांत किशोर ने दो ट्वीट कर नागरिकता संशोधन अधिनियम और एनआरसी के खिलाफ जारी विरोध में शामिल होने को लेकर राहुल गांधी को शुक्रिया कहा है. उन्होंने साथ ही इस मसले पर कांग्रेस के स्‍टैंड को लेकर भी सवाल पूछे हैं. PK ने पहले ट्वीट में कहा, 'CAA और NRC के खिलाफ जारी आम नागरिकों के विरोध-प्रदर्शन में शामिल होने को लेकर राहुल गांधी आपका धन्‍यवाद. लेकिन, जैसा कि आप जानते हैं कि जनआंदोलनों के साथ ही CAA और NRC को रोकने के लिए इसको लागू करने से इनकार भी करना होगा. हम लोग उम्‍मीद करते हैं कि कांग्रेस शासित प्रदेशों में इन दोनों को लागू न करने को लेकर आप (राहुल गांधी) कांग्रेस अध्‍यक्ष को आधिकारिक घोषणा करने लिए राजी करेंगे.'



'आधिकारिक घोषणा करें साझा'
प्रशांत किशोर ने कुछ देर बाद एक और ट्वीट कर राहुल गांधी से इस बाबत (CAA और NRC को लागू न करने संबंधी) कांग्रेस अध्‍यक्ष का आधिकारिक बयान साझा करने को कहा. उन्‍होंने लिखा, 'मुझे कांग्रेसी मुख्‍यमंत्रियों के बयानों के बारे में बताने की कोशिश करने के बजाय कांग्रेस अध्‍यक्ष की आधिकारिक घोषणा साझा करें, जिसमें कांग्रेस शासित प्रदेशों में CAA और NRC को न लागू करने की बात कही गई हो. मैं माफी के साथ कहना चाहता हूं कि CAB के खिलाफ वोटिंग (संसद में) करने मात्र से यह नहीं रुकेगा. लेकिन प्रदेशों द्वारा इसे लागू करने से इनकार करने की स्थिति में ऐसा हो सकता है. ऐसे में इसको लेकर कंफ्यूज्‍ड न हों.'

शुरू से ही विरोध कर रहे PK
प्रशांत किशोर शुरुआत से नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे हैं. वहीं, उनकी पार्टी जेडीयू ने लोकसभा और राज्‍यसभा में इसके पक्ष में मतदान किया था. पीके ने इसका खुलकर विरोध किया था. इससे पार्टी में इस मुद्दे को लेकर आपसी टकराव की स्थिति भी उत्‍पन्‍न हो गई थी. पार्टी के कुछ वरिष्‍ठ नेताओं ने प्रशांत किशोर के इस कदम का पुरजोर विरोध किया था. हालांकि, मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर के बीच मुलाकात के बाद पार्टी में विरोध के सुर कुछ नरम पड़े हैं.

ये भी पढ़ें: प्रशांत किशोर ने CAA-NRC को रोकने के बताए तरीके, सुझाया यह उपाय

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 24, 2019, 11:42 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर