लाइव टीवी

सृजन घोटाला में CBI की बड़ी कार्रवाई, IAS वीरेंद्र यादव समेत 10 के खिलाफ चार्जशीट
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: January 9, 2020, 11:47 AM IST
सृजन घोटाला में CBI की बड़ी कार्रवाई, IAS वीरेंद्र यादव समेत 10 के खिलाफ चार्जशीट
बिहार के सृजन घोटाले की जांच सीबीआई कर रही है (फाइल फोटो)

घोटाले का नाम 'सृजन घोटाला' इसलिये पड़ा था क्योंकि सरकारी विभागों की रकम सीधे विभागीय ख़ातों में न जाकर या वहां से 'सृजन महिला विकास सहयोग समिति' नाम के एनजीओ के ख़ातों में ट्रांसफ़र कर दी जाती थी.

  • Share this:
रिपोर्ट- संजय कुमार

पटना. बिहार के 1600 करोड़ के सृजन घोटाला (Srijan Scam) में सीबीआई (CBI) ने अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई की है. इस केस में आईएएस (IAS) अफसर वीरेंद्र यादव समेत 10 अन्य लोगों पर भी सीबीआई ने चार्जशीट (Charge Sheet) दाखिल की है. सीबीआई की इस कार्रवाई से प्रशासनिक अमले में खलबली मच गई है.

10 लोगों के खिलाफ फाइल की गई चार्जशीट

दरसअल बिहार में मुख्य रूप से भागलपुर से जुड़े इस 1600 करोड़ के बहुचर्चित सृजन घोटाले में सीबीआई दिल्ली की टीम आरोपियों के खिलाफ लगातार चार्जशीट फ़ाइल कर रही है. इस केस में सीबीआई ने बुधवार को भी 10 लोगो पर चार्जशीट फ़ाइल किया. इन दस नामों में सबसे चौकानेवाला नाम आईएएस अधिकारी और भागलपुर के पूर्व जिलाधिकारी वीरेन्द्र यादव का है.

भागलपुर के डीएम रह चुके हैं आरोपी आईएएस

वीरेंद्र यादव फिलहाल पिछड़ा वर्ग और अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग में विशेष सचिव के पद पर तैनात हैं. वीरेंद्र यादव पहले भागलपुर जिले में जिलाधिकारी के पद पर तैनात रह चुके हैं. मिली जानकारी के अनुसार आईएएस अधिकारी पर करीब 12 करोड़ रुपये की जबाबदेही तय की गई है. वीरेंद्र यादव के अलावा महिला सृजन विकास समिति की चेयरमैन स्वर्गीय मनोरमा देवी, उसके बेटे अमित कुमार और बहू रजनी प्रिया पर भी चार्जशीट फ़ाइल की गई है.

कई बैंकों के अधिकारियों पर गिर चुकी है गाजसीबीआई द्वारा दाखिल यह चार्जशीट काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है. घोटाले का नाम 'सृजन घोटाला' इसलिये पड़ा था क्योंकि सरकारी विभागों की रकम सीधे विभागीय ख़ातों में न जाकर या वहां से 'सृजन महिला विकास सहयोग समिति' नाम के एनजीओ के ख़ातों में ट्रांसफ़र कर दी जाती थी. इसके बाद एनजीओ के कर्ता-धर्ता जिला प्रशासन और बैंक अधिकारियों से साठ गाठ कर सरकारी पैसे की हेरा-फेरी करते थे. सीबीआई की कार्रवाई में कई बैंकों के आलाधिकारी गिरफ्त में पहले ही आ चुके हैं.

भोजपुर में डीएम रहते भी विवादों में रहे वीरेन्द्र यादव

आईएएस वीरेन्द्र यादव जब भोजपुर में जिलाधिकारी रहे तो उस दौरान भी उनपर जमीनों की हेराफेरी के आरोप लगे। इस सिलसिले में कोलकाता हाईकोर्ट और पटना हाईकोर्ट में मामले दर्ज हुए जो अभी भी चल रहे हैं। आरोप है कि वीरेन्द्र यादव ने आरा के ऐतिहासिक चर्च की जमीन और मार्टिन रेलवे की जमीन पर भूमाफियों का कब्जा जमाने में प्रशासनिक सहयोग उपलब्ध कराया

ये भी पढ़ें- जब लैंडिंग से ठीक पहले पटना में क्रैश हुआ था प्लेन, 66 लोगों की हुई थी मौत

ये भी पढ़ें- दलाई लामा से मिलने बोधगया पहुंचे सीएम नीतीश कुमार, लिया आशीर्वाद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2020, 8:14 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर