लाइव टीवी

Chhath Puja 2019: 50 साल से ये काम कर रही हैं मुस्लिम महिलाएं, इस बात का रखती हैं खास ख्‍याल

News18 Bihar
Updated: October 29, 2019, 8:24 PM IST
Chhath Puja 2019: 50 साल से ये काम कर रही हैं मुस्लिम महिलाएं, इस बात का रखती हैं खास ख्‍याल
सूर्य की उपासना का पर्व है छठ पूजा.

सूर्य की उपासना के पर्व छठ पूजा (Chhath Puja) की अपनी खास पहचान है. जबकि पटना में मुस्लिम समुदाय (Muslim Community) की महिलाओं द्वारा इस पर्व के लिए मिट्टी के चूल्हे (Clay Stove) बनाना एक मिसाल है. यही नहीं, मुस्लिम महिलाओं की आस्था भी इस महापर्व से जुड़ी हुई है. जबकि वह इस दौरान मांसाहारी भोजन नहीं करती हैं.

  • Share this:
पटना. सूर्य की उपासना के पर्व छठ पूजा (Chhath Puja) की महिमा निराली है. लोग इसमें जाति धर्म के भेदभाव को भूल एक साथ आगे आते हैं, लिहाजा ये पर्व अनेकता में एकता का संदेश देता है. जबकि इस पर्व के लिए पटना (Patna) के कदमकुआं, आर ब्लॉक और जेपी गोललम्बर पथ पर आपको इस वक़्त कई मुस्लिम समुदाय (Muslim Community) की महिलाएं मिट्टी का चूल्हा (Clay Stove) बनाती दिख जाएंगी. ये वही चूल्हा है जिस पर छठ का व्रत रखने वाली महिलाएं प्रसाद बनाएंगी. जबकि चूल्हा बनाने वाली मुस्लिम महिलाओं की आस्था भी इस महापर्व से जुड़ी हुई है, लिहाजा वह भी इसमें नियम कानून के साथ-साथ स्वच्छता का पूरा ख्याल रखती हैं.

चूल्‍हा बनाने के दौरान नहीं करती मांसाहारी भोजन
महिलाएं चूल्हा बनाने में इस्तेमाल की जाने वाली मिट्टी और पानी को साफ रखती हैं. जबकि इस दौरान किसी भी तरीके का मांसाहारी भोजन नहीं करती हैं. नई चादर पर चूल्हा बनाने वाली मिट्टी को साना जाता है और कई सारे नियम चूल्हा बनाते वक्त ध्यान में रखती हैं.

चूल्हा बनाने वाली रजिया खातून ने बताया कि वो कई सालों से छठ पर्व के लिए चूल्हा बना रही हैं और उनसे पहले उनके माता-पिता भी यही काम करते थे. करीब 40-50 साल से मुस्लिम समुदाय के लोग यहां मिल कर छठ के लिए चूल्हा बनाने का काम करते हैं.

छठ पूजा ,Chhath Puja
करीब 40-50 साल से मुस्लिम समुदाय के लोग छठ के लिए चूल्हा बनाने का काम कर रहे हैं.


30 साल से चूल्‍हा बना रही है खातून
मुख्तारी खातून कहती है कि वो जब 20 साल की थी तब यहां अपने माता-पिता के साथ आई थी और आज वो 50 साल की है. वह 30 साल से यही चूल्हा बना रही हैं. उनका कहना है कि चूल्हा बनते समय उसे बिल्कुल भी थकावट नहीं होती है और वो मुनाफे के बजाए छठ व्रतियों के सेवा भाव के लिए चूल्हा बना रही हैं.
Loading...

याद नहीं रहता कि मुस्लिम हैं
ऐसे ही यहां चूल्हे बनाती कई महिलाएं मिल जाएंगी, जिनका कहना है कि चूल्हा बनाते वक्त उन्हें बिल्कुल भी ये नहीं लगता कि वो मुस्लिम हैं. वह छठ पूजा के नियम कायदे का पालन करते हुए चूल्हा बनाती हैं और इस पर्व से उनकी आस्था भी जुड़ी है.
(रिपोर्ट-नैंसी)

ये भी पढ़ें-
बेटा बना हैवान, पेंशन के रुपयों के लिए 65 वर्षीय विधवा मां को मौत के घाट उतारा

अपने ही सुरक्षाकर्मी से 'खतरा' महसूस कर रहे हैं RJD विधायक, कर डाली ये मांग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 8:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...