लाइव टीवी

छतीसगढ़ के कारोबारी का 10 करोड़ की फिरौती के लिए हुआ अपहरण! बिहार से जुड़ रहा कनेक्शन
Patna News in Hindi

Sanjay Kumar | News18 Bihar
Updated: January 20, 2020, 9:13 AM IST
छतीसगढ़ के कारोबारी का 10 करोड़ की फिरौती के लिए हुआ अपहरण! बिहार से जुड़ रहा कनेक्शन
छत्तीसगढ़ के अपहृत व्यापारी का कनेक्शन बिहार के अपहर्ता गिरोह से जुड़ा.(सांकेतिक तस्वीर)

6 साल पहले चंदन सोनार गिरोह ने ही दमन के कपड़ा कारोबारी सोहैल हिंगोरा का अपहरण कर उसे छपरा जिले में ही रखा था. करीब एक महीने तक रखने के बाद परिजनों से नौ कराेड़ फिरौती लेने के बाद छोड़ा था.

  • Share this:
पटना. छत्तीसगढ़ के बड़े कारोबारी प्रवीण सोमानी (Praveen Somani) के हाई प्रोफाइल अपहरण कांड के तार  बिहार से जुड़े होने के ठोस सबूत मिले है. पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उनका अपहरण की फिरौती के लिए ही किया गया है और इसमें बिहार के कुख्यात चंदन सोनार (Chandan Sonar) गिरोह का हाथ माना जा रहा है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अगवा करने के बाद उन्हें पटना व हाजीपुर (Patna and Hajipur) के आसपास ही अपहर्तओं ने छिपा रखा है. छत्तीसगढ़ और बिहार पुलिस (Bihar police) की विशेष टीम सोमानी को बरामद करने के लिए छापेमारी करने में जुटी है.

दरअसल दो दिन पहले अपहर्तओं के मोबाइल के टावर का लोकेशन वैशाली जिले के राघोपुर और विदुपुर के आसपास मिला था. जिस इलाके में सोमानी को रखा गया है, वहां मोबाइल का नेटवर्क जाफी कमजोर है, लिहाज़ा पुलिस के सामने मुश्किलें पेश आ रही हैं.

दूसरे राज्यों से अगवा कर लाता है चंदन गिरोह
बताया जा रहा है कि चंदन सोनार वैशाली का ही रहने वाला है. वह और उसका  गिरोह दूसरे राज्यों के बड़े कारोबारियों को अगवा करता है और उन्हें पटना व इसके आसपास के इलाके में ही रखता है. उसके गिरोह के लोग पटना से लेकर हाजीपुर और छपरा जैसे जिलों में भी बताए जाते है.

दमन के व्यापारी को भी किया था किडनैप
बता दें कि 6 साल पहले चंदन सोनार गिरोह ने ही दमन के कपड़ा कारोबारी सोहैल हिंगोरा का अपहरण कर उसे छपरा जिले में ही रखा था. करीब एक महीने तक रखने के बाद परिजनों से नौ कराेड़ फिरौती लेने के बाद छोड़ा था.

कोलकाता के कारोबारी को भी किया था अगवा2019 में 17 अप्रैल को इसी गिरोह ने बंगाल के कुल्टी, बराकर के सालानपुर थाना इलाके से आसनसोल अलॉयज प्राइवेट लिमिटेड के मालिक बड़े उद्योगपति तेजपाल सिंह  और उसके चालक का एक साथ अपहरण कर लिया था.

इन दोनों को दानापुर स्थित एक अपार्टमेंट में 33 दिनाें तक रखा था. 10 करोड़ से  फिरौती की बारगेनिंग शुरू हुई जो 2.60 करोड़ पर खत्म हुई थी. फिरौती की रकम अपहर्ताओं ने आरा में लेने के  बाद 19 मई को  झारखंड के बरही में रिहा कर दिया था.

फिरौती वसूलता है पर हत्या नहीं करता गिरोह
हालांकि इस गिरोह के बारे में एक खास बात ये है कि ये फिरौती तो वसूल लेता है, लेकिन हत्या नहीं करता. हालांकि छत्तीसगढ़ के इस बड़े अपहरणकांड को लेकर पुलिस ने फिलहाल चुप्पी साध रखी है. बता दें कि प्रवीण सोमानी बीते 8 जनवरी से ही रायपुर से लापता हैं.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 8:57 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर