अपना शहर चुनें

States

Bihar News: भाजपा-जेडीयू की सेंधमारी के बीच चिराग पासवान ने राजू तिवारी को दी LJP में बड़ी जिम्मेदारी

चिराग पासवान ने बिहार एलजेपी में कई बदलाव किए हैं.
चिराग पासवान ने बिहार एलजेपी में कई बदलाव किए हैं.

Bihar Politics: लोक जनशक्ति पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने पार्टी में 'सेंधमारी' के बीच बड़ा कदम उठाया है. उन्होंने पूर्व विधायक राजू तिवारी को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष और संजय पासवान को प्रधान महासचिव बना दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 23, 2021, 6:06 PM IST
  • Share this:
पटना. पिछले साल हुए बिहार विधानसभा चुनाव में करारी हार और उसके बाद से लगातार जारी जेडीए-भाजपा की सेंधमारी से जूझ रही लोकजन शक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने बड़ा कदम उठाया है. उन्होंने पूर्व विधायक राजू तिवारी को बिहार एलजेपी (LJP) का कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्‍त किया है. वह पहले बिहार में एलजेपी संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके हैं. इसके अलावा संजय पासवान को बिहार एलजेपी में प्रधान महासचिव की जिम्मेदारी मिली है, जो कि पहले पार्टी में बतौर प्रदेश उपाध्यक्ष काम कर रहे थे.

बहरहाल, लोक जनशक्ति पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष चिराग पासवान ने राजू तिवारी और संजय पासवान को नियुक्ति पत्र सौंपते हुए बधाई दी है. जबकि एलजेपी के नवनियुक्त प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष राजू तिवारी ने कहा कि वह पार्टी अध्यक्ष की तरफ से बड़ी जिम्मेदारी मिली है. इसे पूरी क्षमता ने निभाऊंगा. इसके साथ उन्‍होंने कहा कि हम हर गांव, हर पंचायत, हर प्रखंड और हर जिले में पार्टी को मजबूत करने के लिए काम करेंगे.

बिहार विधानसभा में एलजेपी अभी जीरो


बता दें कि पिछले दिनों लोक जनशक्ति पार्टी के कई दिग्‍गज नेताओं ने नीतीश कुमार की पार्टी का दामन थामा था, तो सोमवार को एलजेपी की इकलौती एमएलसी नूतन सिंह ने बिहार भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली. इकलौती एमएलसी के साथ छोड़ने के बाद विधान परिषद में एलजेपी जीरो हो गई है. नूतन सिंह के पति नीरज कुमार सिंह बबलू इस समय नीतीश सरकार में भाजपा के कोटे से वन पर्यावरण मंत्री हैं.

जेडीयू ने लगाई बड़ी सेंध


बिहार में एनडीए से अलग होकर विधानसभा चुनाव लड़ने वाली एलजेपी ने जेडीयू और भाजपा को काफी नुकसान पहुंचाया था, लेकिन उसे कोई फायदा नहीं हुआ था. इसके बाद जेडीयू और चिराग पासवान की पार्टी के बीच जंग ने जोर पकड़ लिया. जबकि पिछले दिनों लोक जनशक्ति पार्टी के कई नेताओं ने जेडीयू का दामन थाम लिया, जिनमें केशव सिंह (पूर्व प्रदेश महासचिव), पारस नाथ गुप्ता (पूर्व प्रदेश अध्यक्ष-अति पिछड़ा प्रकोष्ठ), दीनानाथ कांति (पूर्व महासचिव), रामनाथ रमण (पूर्व महासचिव), कौशल सिंह कुशवाहा (पूर्व प्रदेश अध्यक्ष-मजदूर प्रकोष्ठ), रामनाथ रमण (प्रदेश महासचिव), आशीष कुशवाहा (उपाध्यक्ष युवा एलजेपी), अजय सिंह (जिला अध्यक्ष मुजफ्फरपुर), मंजीत वर्मा (बेतिया जिलाध्यक्ष), अशोक पासवान (प्रदेश महासचिव) आदि बड़े नाम शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज